Saturday, July 24, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजन2020 में टीवी पर सबसे ज्यादा देखे गए PM मोदी, छोटे पर्दे के 'युधिष्ठिर'...

2020 में टीवी पर सबसे ज्यादा देखे गए PM मोदी, छोटे पर्दे के ‘युधिष्ठिर’ बनेंगे बड़े पर्दे पर ‘नरेन’

"चाहे उनके मीडिया को दिए इंटरव्यू हों, वैश्विक कार्यक्रमों में दिए गए उनके भाषण, देश के लिए संबोधन हो और यहाँ तक कि डिस्कवरी पर दिखाया गया वाइल्डलाइफ एडवेंचर शो हो। हर तरह के कंटेंट ने उनकी व्यूअरशिप को लेकर नए रिकॉर्ड बनाए हैं।"

पीएम नरेंद्र मोदी सोशल मीडिया पर बहुत बड़े फैन बेस होने के लिए जाने जाते हैं। 2017 में ही वह वैश्विक स्तर पर फेसबुक पर शीर्ष पर चल रहे नेता बन गए, पिछले साल, मोदी ट्विटर पर 50 मिलियन से अधिक फॉलोवर्स के साथ और तीसरे वैश्विक नेता के रूप में स्थापित होने वाले पहले भारतीय बन गए थे। हाल ही में कोलकाता में पीएम मोदी के उतरने की फोटो वायरल हुई, जिसे 24 घंटे से भी कम समय में फेसबुक पर 1 मिलियन से ज्यादा लाइक मिले। अब, ताजा आँकड़ों से पता चलता है कि उनके सोशल मीडिया फैन-बेस के समान ही, टेलीविजन पर पीएम मोदी का प्रभाव भी कई गुना बढ़ गया है।

ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने 2019-2020 की सालाना टीवी व्यूअरशिप रिपोर्ट जारी की है। इसके मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले साल भारत में टेलीविजन पर सबसे ज्यादा देखे जाने वाले व्यक्ति रहे हैं। चाहे वो कोविड-19 महामारी के दौरान दिए गए मोदी के संबोधन हो या कोविड वैक्सीन निर्यात करने में देश की अग्रणी भूमिका, लाल किले से दिया गया भाषण या किसान आंदोलन पर दिए गए भाषण हों। यह तमाम बातें इस रिपोर्ट में शामिल हैं।

प्रधानमंत्री मोदी के इम्पैक्ट को समझाते हुए BARC के इस रिपोर्ट में कहा गया है, “चाहे उनके मीडिया को दिए इंटरव्यू हों, वैश्विक कार्यक्रमों में दिए गए उनके भाषण, देश के लिए संबोधन हो और यहाँ तक कि डिस्कवरी पर दिखाया गया वाइल्डलाइफ एडवेंचर शो हो। हर तरह के कंटेंट ने उनकी व्यूअरशिप को लेकर नए रिकॉर्ड बनाए हैं।”

रिपोर्ट के अनुसार, साल 2019 में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर दिए गए भाषण की तुलना में पिछले साल लालकिले पर दिए गए उनके लगभग 2 घंटे के भाषण की व्यूअरशिप 40 फीसदी ज्यादा थी। उनके इस भाषण को 133 मिलियन (13.3 करोड़) दर्शकों ने देखा था। इसी तरह 24 मार्च, 2020 को पहले लॉकडाउन की घोषणा वाले भाषण को जितने व्यूइंग मिनट मिले थे, उतने तो उनके किसी भी संबोधन को नहीं मिले थे।

BARC की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है, “हर बार जब भी प्रधानमंत्री मोदी के कोरोनावायरस संबंधी भाषण हुए, तब जनरल एंटरटेनमेंट चैनल्स (जीईसी), फिल्मों और बच्चों के दर्शकों की संख्या में भारी गिरावट आई।” यहाँ तक कि 9 मिनट बत्ती बंद कर दीया या मोमबत्ती जलाने के उनके राष्ट्रव्यापी आह्वान ने भी जीईसी टीवी व्यूअरशिप में 60 फीसदी की गिरावट ला दी थी।

‘एक और नरेन’: पीएम मोदी के जीवन पर बनेगी एक और फिल्म

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लगातार बढ़ती लोकप्रियता के बीच आज उनके जीवन पर बनने वाली एक और फिल्म की घोषणा हुई है। इस फिल्म में फिल्म अभिनेता गजेंद्र चौहान मुख्य भूमिका में होंगे। गजेंद्र चौहान ने बीआर चोपड़ा की महाभारत में युधिष्ठिर की भूमिका निभाई थी। अब वह प्रधानमंत्री मोदी पर बनने वाली फिल्म में मुख्य भूमिका निभाने जा रहे हैं। फिल्म का नाम ‘एक और नरेन‘ होगा। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस फिल्म में प्रधानमंत्री मोदी और स्वामी विवेकानंद के जीवन चरित्रों को एक साथ दिखाया जाएगा।

फिल्म निर्देशक मिलन भौमिक ने गुरुवार (मार्च 4, 2021) को मीडिया को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि फिल्म ‘एक और नरेन’ की कहानी में दो किस्से होंगे। एक में नरेंद्रनाथ दत्त के रूप में स्वामी विवेकानंद के कार्य और जीवन को दर्शाया जाएगा जबकि दूसरे में नरेंद्र मोदी के दृष्टिकोण को दिखाया जाएगा। भौमिक ने कहा कि फिल्म में दो हस्तियों के जीवन को पेश किया जाएगा। विवेकानंद ने अपना जीवन वैश्विक भाई-चारे के संदेश के प्रसार में समर्पित किया था। उसी तरह PM मोदी का जीवन भी राष्ट्र को समर्पित रहा है।

भौमिक ने कहा कि दूसरी शख्सियत नरेंद्र मोदी हैं जोकि भारत को एक नई ऊँचाई पर ले गए और वह राजनीति क्षेत्र के सबसे मशहूर नेताओं में शुमार हैं। इस अवसर पर, अभिनेता गजेंद्र चौहान ने कहा, “वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पिछले 20 वर्षों से निजी तौर पर जानते हैं। एक कलाकार के तौर पर ऐसी शख्सियत का किरदार निभाना उनके लिए बड़ी उपलब्धि है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,018FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe