Tuesday, January 18, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजनNCB की माँग पर रिया 14 दिन की न्यायिक हिरासत में, जमानत की माँग...

NCB की माँग पर रिया 14 दिन की न्यायिक हिरासत में, जमानत की माँग करने वालों का करेंगे विरोध

मादक पदार्थों से जुड़े आरोपों के सिलसिले में तीन दिनों तक पूछताछ करने के बाद मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। जिसके बाद रिया को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया, जहाँ उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा दिया गया है।

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने मंगलवार (सितम्बर 08, 2020) को रिया चक्रवर्ती को मादक पदार्थों से जुड़े आरोपों के सिलसिले में तीन दिनों तक पूछताछ करने के बाद ड्रग सिंडिकेट का सक्रीय सदस्य बताते हुए गिरफ्तार कर लिया गया। जिसके बाद रिया को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया, जहाँ उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा दिया गया है।

एजेंसी द्वारा रविवार (सितंबर 06, 2020) को सुशांत के कर्मचारियों – मिरांडा, सावंत और उसके भाई, शोविक को गिरफ्तार कर लिया गया था। उन्होंने एनसीबी को बताया कि वे सुशांत सिंह राजपूत और रिया के कहने पर ड्रग्स की खरीद करते थे।

रिया चर्कवर्ती की गिरफ्तारी अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत, जो कि 14 जून को अपने मुंबई उपनगर स्थित आवास पर मृत पाए गए थे की मौत के 81 दिन बाद हुई है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में एनसीबी के डिप्टी डायरेक्टर एमए जैन ने बताया कि वो सभी के लिए न्यायिक हिरासत माँगेंगे, लेकिन बेल की माँग किए जाने पर हम इसका विरोध करेंगे।

हालाँकि, फ़ेडरल एंटी-ड्रग ट्रैफ़िकिंग एजेंसी ने रिया चक्रवर्ती की हिरासत के लिए दबाव नहीं डाला और स्थानीय अदालत से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजने का अनुरोध किया है। एजेंसी ने यह भी कहा कि तलाशी लेते समय उन्हें रिया चक्रवर्ती की संपत्ति में कोई ड्रग नहीं मिली।

चक्रवर्ती को एनडीपीएस अधिनियम की कुछ धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया और वीडियो लिंक के माध्यम से स्थानीय अदालत के समक्ष शाम करीब 7.30 बजे पेश किया गया। जिसके बाद अदालत ने उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। चक्रवर्ती अब जमानत के लिए आवेदन कर सकती है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, रिया की गिरफ्तारी विभिन्न व्हाट्सएप चैट से बरामद जानकारी पर आधारित थी, जिसमें वह ‘ड्रग्स की खरीद’ पर चर्चा कर रही थी। ये चैट प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा बरामद किए गए थे और बाद में फेडरल एंटी-ड्रग ट्रैफिकिंग एजेंसी एनसीबी के साथ साझा किए गए हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

17 की उम्र में पहली हत्या, MLA तक के मर्डर में नाम: सपा का प्यारा अतीक अहमद कभी था आतंक का पर्याय, योगी राज...

मुलायम सिंह यादव ने 2003 में उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार बनाई। यह देख अतीक अहमद एक बार फिर समाजवादी हो गया। फूलपुर से वो सपा सांसद बना।

‘अमानतुल्लाह खान यहाँ नमाज पढ़ सकते हैं तो हिंदू हनुमान चालीसा क्यों नहीं?’: इंद्रप्रस्थ किले पर गरमाया विवाद, अंदर मस्जिद बनाने के भी आरोप

अमानतुल्लाह खान की एक वीडियो के विरोध में आज फिरोज शाह कोटला किले के बाहर हिंदूवादी लोगों ने इकट्ठा होकर हनुमान चालीसा का पाठ किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,996FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe