Monday, June 17, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'दैव के फैसले का मजाक मत बनाओ, ये लोगों की भावनाएँ हैं': 'कांतारा' में...

‘दैव के फैसले का मजाक मत बनाओ, ये लोगों की भावनाएँ हैं’: ‘कांतारा’ में दिखाई परंपरा की खिल्ली उड़ाने वालों को ऋषभ शेट्टी ने लताड़ा

ऋषभ ने बताया कि इस चीख को किसी ने डब नहीं किया था। उन्होंने कहा, "हमने किसी को डब करने के लिए नहीं बुलाया। यह सिर्फ एक आवाज नहीं है, वो दैव का एक स्टेटमेंट और इमोशन है। यह एक फैसले की तरह है। लोग विश्वास करते हैं। लोग समझ सकते हैं कि वे क्या बोल रहे हैं और क्या स्टेटमेंट आ रहा है। यह एक रस्म है।"

इस साल की सबसे सफल फिल्मों में से एक ऋषभ शेट्टी की ‘कांतारा’ कन्नड़ के बाद हिंदी और फिर कई भाषाओं में रिलीज हुई। फिल्म ने देश ही नहीं, विदेशों में भी शानदार प्रदर्शन किया। इस फिल्म में दैव की भूमिका की हर तरफ चर्चा हुई थी। इसके साथ ही ‘दैव की चीख’ वाले सीन का खूब मजाक भी बनाया गया था। इसको लेकर फिल्म के डायरेक्टर एवं एक्टर ऋषभ शेट्टी ने लोगों को फटकार लगाई है।

एजेंडा आजतक 2022 कार्यक्रम में बोलते हुए ऋषभ शेट्टी ने कहा कि लोगों को इसका मजाक नहीं बनाना चाहिए, क्योंकि इससे दूसरे लोगों की भावनाएँ आहत होती हैं। कांतारा फिल्म की चीख इंटरनेट पर सबसे ज्यादा डाउनलोड की जाने वाली रिंगटोन बनी थी।

इसको लेकर शेट्टी ने कहा, “लोग इसके बारे में बात कर रहे हैं और इसके बारे में बहुत नकारात्मकता भी है। इसका मजाक उड़ाया जा रहा है। लोगों को इसका मजाक नहीं बनाना चाहिए, क्योंकि वह एक समाज का विश्वास और भावना है। उन लोगों को हर्ट नहीं करना चाहिए।”

ऋषभ ने बताया कि इस चीख को किसी ने डब नहीं किया था। उन्होंने कहा, “हमने किसी को डब करने के लिए नहीं बुलाया। यह सिर्फ एक आवाज नहीं है, वो दैव का एक स्टेटमेंट और इमोशन है। यह एक फैसले की तरह है। लोग विश्वास करते हैं। लोग समझ सकते हैं कि वे क्या बोल रहे हैं और क्या स्टेटमेंट आ रहा है। यह एक रस्म है।”

फिल्म के प्रसिद्ध गुलिगा सीक्वेंस को लेकर ऋषभ शेट्टी ने कहा कि गुलिगा सीक्वेंस में दैव की आवाज़ वही नहीं है। उन्होंने कहा कि विभिन्न भावनाओं के अनुसार चीख वाली आवाज में भी भिन्नताएँ हैं। इससे पहले ऋषभ ने कंतारा के गुलिगा सीक्वेंस के बारे में बताया भी था।

उन्होंने कहा था, “गुलिगा का यह क्रम केवल एक पंक्ति में लिखा गया था! इसे विस्तार से नहीं लिखा गया था। मेरे दिमाग में चार दृश्य थे, जिन्हें मैंने केवल डीओपी के साथ साझा किया था। इसलिए पहले शॉट तक दर्शकों की तरह मेरे क्रू को इस बात का अंदाजा नहीं था कि क्या होने वाला है। सभी चार दृश्यों को फिल्माने के बाद हम प्रवाह में आ गए।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -