Sunday, June 26, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजन'जब टीशर्ट और जीन्स के भी पैसे नहीं थे, तब अन्ना ने महँगी पर्स...

‘जब टीशर्ट और जीन्स के भी पैसे नहीं थे, तब अन्ना ने महँगी पर्स दिलाई’: सुनील शेट्टी का नाम लेकर रो पड़े सलमान खान, IIFA का वीडियो

"एक दिन मैं वहाँ पर चला गया। वह बहुत महँगी दुकान थी। मैं वहाँ एक टी-शर्ट और जीन्स भी अफॉर्ड नहीं कर सकता था। यही वजह थी कि मैं सिर्फ एक जींस खरीदकर घर वापस लौट आया।"

सोशल मीडिया पर बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान (Salman Khan) का एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है। इस वीडियो में वह रोते हुए नजर आ रहे हैं। दरअसल, बॉलीवुड का सबसे बड़ा अवॉर्ड IIFA 2022 इस साल अबूधाबी में हो रहा है। इस अवॉर्ड सेरेमनी के कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। इसमें सलमान खान के भी कई वीडियो हैं। एक वीडियो में सलमान अपने स्ट्रगल के दिनों को याद करते हुए रो पड़े।

इस वीडियो को कलर्स टीवी ने अपने इंस्टाग्राम पर शेयर किया है। आईफा अवॉर्ड्स 2022 के वायरल वीडियो में होस्ट रितेश देशमुख सलमान खान से पूछते हैं, “भाउ आपकी लाइफ का सबसे मेमोरेबल मोमेंट कौन सा है।”

इसके जवाब में वह (सलमान खान) कहते हैं, “काफी साल पहले मेरे पास पैसे नहीं हुआ करते थे। उस वक्त सुनील शेट्टी (Suniel Shetty) अन्ना की दुकान थी। एक दिन मैं वहाँ पर चला गया। वह बहुत महँगी दुकान थी। मैं वहाँ एक टी-शर्ट और जीन्स भी अफॉर्ड नहीं कर सकता था। यही वजह थी कि मैं सिर्फ एक जींस खरीदकर घर वापस लौट आया। उन्होंने (सुनील शेट्टी) मुझे अपनी तरफ से एक स्टोन वॉश जीन्स दी थी, लेकिन मेरी नजर उस पर्स पर थी। मुझे पता था मैं यह नहीं खरीद सकता, क्योंकि मेरे पास इतने पैसे नहीं थे, लेकिन सुनील ने मेरी आँखें देखी और मुझे वो दिलाने का फैसला लिया जो भी मैं चाहता था।”

इस दौरान वहाँ मौजूद सुनील शेट्टी के बेटे अहान शेट्टी की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा, “इसके बाद इनके फादर मुझे अपने घर पर लेकर गए और मुझे वह पर्स दिया।” ये किस्सा बताते हुए सलमान खान भावुक हो गए और अपने आँसू रोक नहीं पाए। इसके बाद उन्होंने अहान शेट्टी को गले लगा लिया।

वर्क फ्रंट की बात करें तो, सलमान खान को फिल्म इंडस्ट्री में 34 साल हो चुके हैं। वह जल्द ही ‘टाइगर 3’, ‘कभी ईद कभी दिवाली’ और ‘गॉडफादर’ में फिल्म में नजर आएँगे। बता दें कि आईफा अवॉर्ड्स 2022 कलर्स टीवी पर 25 जून को रात 8 बजे दिखाया जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

’47 साल पहले हुआ था लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास’: जर्मनी में PM मोदी ने याद दिलाया आपातकाल, कहा – ये इतिहास पर काला...

"आज भारत हर महीनें औसतन 500 से अधिक आधुनिक रेलवे कोच बना रहा है। आज भारत हर महीने औसतन 18 लाख घरों को पाइप वॉटर सप्लाई से जोड़ रहा है।"

‘गुवाहाटी से आएँगी 40 लाशें, पोस्टमॉर्टम के लिए भेजेंगे’: संजय राउत ने कामाख्या मंदिर और छठ पूजा को भी नहीं छोड़ा, कहा – मोदी-शाह...

संजय राउत ने कहा "हम शिवसेना हैं, हमारा डर ऐसा है कि हमें देख कर मोदी-शाह भी रास्ता बदल लेते हैं।" कामाख्या मंदिर और छठ पर्व का भी अपमान।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,523FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe