Friday, June 14, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनसुशांत केस: सुब्रमण्यम स्वामी ने उठाए 2 एम्बुलेंस और 2 सैमुएल पर सवाल, संजय...

सुशांत केस: सुब्रमण्यम स्वामी ने उठाए 2 एम्बुलेंस और 2 सैमुएल पर सवाल, संजय राउत ने कहा- हम चाहते हैं कि सच सामने आए

इस मामले में ट्वीट करते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने लिखा कि सुशांत के घर का मैनेजर सैमुएल का कुछ अता-पता नहीं है। आखिर दोनों सैमुएल कह क्या रहे हैं? स्वामी ने दो सैमुएल का ज़िक्र किया है, पहला जो सुशांत सिंह राजपूत के साथ साझा तौर पर रहता था। दूसरा जिसे रिया चक्रवर्ती ने सुशांत के घर का मैनेजर बनाया था।

सुशांत सिंह राजपूत की कथित तौर पर आत्महत्या के मामले में निष्पक्ष जाँच की माँग लगातार बढ़ती जा रही है। भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने इस मुद्दे पर कई सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि अभिनेता की मृत्यु के बाद दो एम्बुलेंस क्यों बुलाई गई थी? इस बात की जाँच क्यों नहीं होती है कि किसने मौके पर दो एम्बुलेंस बुलाई थी? 

सुब्रमण्यम स्वामी इस मामले में शुरू से सीबीआई जाँच की वकालत कर रहे हैं। इस मामले में ट्वीट करते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने लिखा कि सुशांत के घर का मैनेजर सैमुएल का कुछ अता-पता नहीं है। आखिर दोनों सैमुएल कह क्या रहे हैं? स्वामी ने दो सैमुएल का ज़िक्र किया है, पहला जो सुशांत सिंह राजपूत के साथ साझा तौर पर रहता था। दूसरा जिसे रिया चक्रवर्ती ने सुशांत के घर का मैनेजर बनाया था।   

रिपब्लिक टीवी द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट में सुशांत सिंह की मौत के वक्त से संबंधित तीन अलग-अलग जानकारी सामने आ चुकी हैं। एम्बुलेंस मालिक लक्ष्मण बंडगर ने रिपब्लिक टीवी से बात करते हुए इस बारे में जानकारी दी। उसने कहा मुंबई पुलिस शव लेकर गई थी। सिद्धार्थ पिथानी ने कहा था उसने चाक़ू से कपड़ा काटा और सुशांत के शव को उतारा। वहीं अक्षय बंडगर (एम्बुलेंस चालक) का कहना था कि उसने शव उतारा था।   

इसके अलावा स्वामी का कहना है कि सैमुएल की कोई जानकारी नहीं है। सुशांत के घर का मैनेजर सैमुएल मिरांडा पिछली बार 6 अगस्त को नज़र आया था। जब उसे प्रवर्तन निदेशालय ने 9 घंटे तक चली पूछताछ के लिए बुलाया था। वहाँ से निकलने की बाद उसने मीडिया से कोई बातचीत नहीं की थी। इसके पहले उसने बिहार पुलिस को अपना बयान दर्ज कराया था। पड़ोसियों के मुताबिक़ उस दिन के बाद से उसकी कोई जानकारी नहीं मिली है।   

दूसरी तरफ सुशांत सिंह राजपूत के फ़्लैटमेट सैमुएल हाओकिप ने इस मुद्दे पर सीबीआई जाँच की माँग की थी। उसने यह भी कहा था कि वह मीडिया द्वारा दिखाई या बताई जा रही किसी भी जानकारी पर भरोसा नहीं करना चाहता है। सैमुएल ने यह भी कहा था कि उसे सिद्धार्थ पिथानी द्वारा कही गई किसी बात पर भी भरोसा नहीं है। इसलिए वह इस मामले की सीबीआई जाँच चाहता है।           

इसके अलावा संजय राउत ने भी सुशांत सिंह राजपूत मामले पर लगातार महाराष्ट्र सरकार का पक्ष रखा है। इस दौरान उन्होंने कई विवादित बयान भी दिए थे। ताज़ा बयान में संजय राउत ने कहा, “हमें सुशांत सिंह के परिवार के साथ पूरी सहानुभूति है। बीते दिन कही गई मेरी बात का यह मतलब था कि सभी को धैर्य रखना चाहिए। जबकि इसे कुछ ऐसा दिखाया गया जैसे मैं उन्हें धमका रहा हूँ।” 

क्या लोगों को वाकई लगता है कि मैंने कोई धमकी दी थी? मुंबई पुलिस पर भरोसा रखिए अगर उस पर भरोसा नहीं हो तो सीबीआई की जाँच की माँग करिए। इसके अलावा भी संजय राउत ने सुशांत सिंह के मामले पर कई बातें कहीं। उन्होंने कहा सुशांत सिंह हमारे बेटे जैसा था। वह मुंबई में रहता था और एक उम्दा कलाकार था। आखिर हमारी उससे क्या ही दुश्मनी होगी? हम खुद यह चाहते हैं कि इस मौत के पीछे जितने राज़ हों वह बाहर आएँ।     

इसके पहले टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के मुताबिक़ संजय राउत अब राजनेताओं से लेकर सुशांत के परिवार तक से चुप रहने की बात कर रहे थे। श‍िवसेना नेता संजय राउत ने कहा था कि यह जाँच अब खत्‍म होने ही वाली है। ऐसे में जब तक जाँच पूरी नहीं हो जाती, सभी को शांत बैठना चाहिए। संजय राउत ने कहा कि सुशांत की फैमिली हो या कोई राजनीतिक दल सभी को शांत बैठना चाहिए।

यहाँ बता दें कि शिवसेना सांसद संजय राउत ने बीते दिनों पार्टी के मुखपत्र सामना में एक लेख लिखा था, जिसमें उन्‍होंने सुशांत के परिवार पर टिप्‍पणी की थी। इसमें उन्‍होंने कहा था कि सुशांत के पिता ने दो शाद‍ियाँ की हैं और दूसरी शादी के बाद से सुशांत और उनके पिता के रिश्‍ते ठीक नहीं थे।

 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -