Tuesday, November 30, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनफ्लैट में मौजूद थे दोस्त, नहीं मिली कोई सुसाइड नोट: सुशांत सिंह राजपूत के...

फ्लैट में मौजूद थे दोस्त, नहीं मिली कोई सुसाइड नोट: सुशांत सिंह राजपूत के मामा ने कहा – न्यायिक जाँच हो

पुलिस कह रही है - डिप्रेशन में थे। मीडिया रिपोर्ट बता रही है कि सुशांत के फ्लैट में कल रात (13 जून की रात) उनके दोस्त लोग भी मौजूद थे। उनके कमरे से किसी सुसाइड नोट का न मिलना भी चर्चा का विषय बना हुआ है। अब उनके मामा ने आरोप लगाया है कि ये आत्महत्या नहीं है और इसकी न्यायिक जाँच होनी चाहिए। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या का सस्पेंस गहराता जा रहा है।

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या का सस्पेंस गहराता जा रहा है। उनके मामा ने आरोप लगाया है कि ये आत्महत्या नहीं है क्योंकि सुशांत ऐसा कर ही नहीं सकते थे। मामा ने इस पूरे मामले की न्यायिक जाँच की माँग उठाई है। उनके कमरे से किसी सुसाइड नोट का न मिलना भी लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है। मामा का कहना है कि सुशांत ऐसा क़दम नहीं उठा सकता, इसीलिए मामले की न्यायिक जाँच हो

वहीं मुंबई पुलिस अभिनेता के पिछले 6 माह से डिप्रेशन में होने की बातें कह रही है। वो बांद्रा में स्थित अपने फ्लैट में अकेले रहा करते थे। परिवार का पटना में उनकी मौत की ख़बर सुन बुरा हाल है। पिता सदमे में बेहोश हो गए और कुछ बोलने या बताने की हालत में नहीं हैं। पटना में किसी भी परिजन या रिश्तेदार को इस बात या यकीन नहीं हो रहा कि सुशांत ने आत्महत्या कर ली। सबका रो-रो कर बुरा हाल है।

एक और खुलासा ये हुआ है कि सुशांत सिंह राजपूत के घर में शनिवार (जून 13, 2020) की रात उनके दोस्त लोग मौजूद थे। पुलिस फिलहाल पड़ोसियों से पूछताछ कर रही है, जिसके बाद उन दोस्तों का पता लगा कर भी पूछताछ की जाएगी। ‘आजतक’ ने अपनी ख़बर में बताया है कि सुशांत के फ्लैट में उनके दोस्त लोग भी मौजूद थे। सुशांत सिंह के पास फिल्मों की कमी नहीं थी, ऐसे में उनका करियर भी ठीक ढर्रे पर चल रहा था।

उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी शोक जताते हुए लिखा, “सुशांत सिंह राजपूत एक उज्ज्वल युवा अभिनेता थे, जो जल्दी ही चले गए। उन्होंने टीवी और फिल्मों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। मनोरंजन की दुनिया में उनकी सफलता ने कितनों को ही प्रेरित किया। उनकी कई यादगार फ़िल्में हैं, जो हमें उनकी याद दिलाएँगी। मैं उनके निधन से स्तब्ध हूँ। दुःख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएँ उनके परिवार और प्रशंसकों के साथ है। ॐ शांति।”

हाल ही में 8 जून को सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व-मैनेजर दिशा सालियान ने आत्महत्या कर ली थी। उन्होंने मुंबई के मलाड स्थित इमारत में 14 मंजिल से कूद कर आत्महत्या की थी। बोरीवली के एक हॉस्पिटल में उन्हें मृत घोषित किया गया था। उनकी सगाई हो चुकी थी। दिशा की आत्महत्या के लगभग एक सप्ताह बाद सुशांत सिंह राजपूत ने भी आत्महत्या कर ली। दिशा की आत्महत्या का भी कारण नहीं पता चला है।

सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु पर शोक व्यक्त करते हुए बॉलीवुड के वरिष्ठ अभिनेता शक्ति कपूर ने ‘एबीपी न्यूज़’ से कहा कि उनका दिल रो रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि सुशांत के आत्महत्या करने की वजह धन या स्टारडम नहीं बल्कि कुछ और ही है। बॉलीवुड के अन्य अभिनेता और उन्हें जानने वाले लोग आत्महत्या वालों बात पर विश्वास करने को तैयार नहीं हैं। लोगों ने 2020 में दुनिया को अलविदा कह चुके सितारों को याद किया।

सुशांत सिंह राजपूत के घर से हाइपरटेंशन और डिप्रेशन की दवाओं के पेपर मिले हैं। हालाँकि, अभी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट नहीं आई है और उनके मृत शरीर को भाभा हॉस्पिटल में ले जाया गया है। रिपोर्ट आने के बाद मौत की वजह पता चल सकेगी। परिणीति चोपड़ा सहित उनकी कई सह-अभिनेत्रियों ने भी उनकी मौत पर दुःख जताया। एमएस धोनी की बयोपिक में सुशांत सिंह के साथ काम कर चुके सानंद शर्मा ने कहा कि सुशांत तब एक तरह से बेचैन रहा करते थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,547FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe