Saturday, June 22, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनपायल रोहतगी का हैंडल सस्पेंड: ट्विटर ने नहीं बताया कोई कारण, नेपोटिज्म के खिलाफ...

पायल रोहतगी का हैंडल सस्पेंड: ट्विटर ने नहीं बताया कोई कारण, नेपोटिज्म के खिलाफ चला रहीं थीं अभियान

पायल रोहतगी ने कहा कि ट्विटर ने उनके ईमेल पर भी अकाउंट सस्पेंड किए जाने का कोई कारण नहीं बताया है। उन्होंने दावा किया कि वो न तो लोगों के साथ गाली-गलौज करती हैं और न ही किसी के लिए असभ्य भाषा का प्रयोग करती हैं, फिर भी उनका अकाउंट सस्पेंड कर दिया गया।

बॉलीवुड में ‘ढोल’ और ’36 चाइना टाउन’ जैसी फिल्मों से चर्चा में आने वाली अभिनेत्री पायल रोहतगी इन दिनों सोशल मीडिया पर अपने बयानों के कारण अक्सर सुर्ख़ियों में रहती हैं और ट्विटर व इंस्टाग्राम पर उनकी अच्छी फैन फॉलोविंग है। अब ख़बर आई है कि ट्विटर ने पायल रोहतगी का हैंडल सस्पेंड कर दिया है। इसके बाद उनके प्रशंसक नाराज़ हो गए और ट्विटर को ‘हिन्दू विरोधी’ करार देते हुए फटकार लगाई।

बुधवार (जुलाई 8, 2020) को पायल रोहतगी ने इंस्टाग्राम के माध्यम से जानकारी दी कि ट्विटर न उनका अकाउंट सस्पेंड कर दिया है और कारण उन्हें भी नहीं पता है। उन्होंने अपने प्रशंसकों से अपील की है कि वो उनका ट्विटर अकाउंट रीस्टोर करने के लिए अभियान चलाएँ। उन्होंने ट्विटर के उस मैसेज का स्क्रीनशॉट भी शेयर किया, जिसमें उनके हैंडल के सस्पेंड होने की बात लिखी है।

पायल रोहतगी ने कहा कि ट्विटर ने उनके ईमेल पर भी अकाउंट सस्पेंड किए जाने का कोई कारण नहीं बताया है। उन्होंने दावा किया कि वो न तो लोगों के साथ गाली-गलौज करती हैं और न ही किसी के लिए असभ्य भाषा का प्रयोग करती हैं, फिर भी उनका अकाउंट सस्पेंड कर दिया गया। उन्होंने कहा कि ट्विटर पर लिबरलों और कट्टरवादियों की सत्ता चलती है, जिन्होंने उन्हें बदनाम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

ट्विटर ने सस्पेंड किया पायल रोहतगी का हैंडल

पायल रोहतगी ने कहा कि अगर ट्विटर ने उनका अकाउंट रीस्टोर नहीं किया तो फिर वो लोगों से बात कैसे कर पाएँगी? पायल की इस अपील के बाद ट्विटर पर कई बड़े नामों ने भी उनके पक्ष में अभियान चलाया। हिंदूवादी एक्टिविस्ट रमेश सोलंकी ने भी ट्विटर से इसका जवाब माँगते हुए पायल का अकाउंट रीस्टोर करने को कहा। अधिवक्ता प्रशांत पटेल ने भी ट्विटर की इस हरकत के लिए विरोध प्रकट किया।

इससे पहले जून में भी पायल का ट्विटर अकाउंट अब्यूजिव कंटेंट के तर्क के आधार पर सस्पेंड कर दिया गया था। उस दौरान इस पर क़ानूनी विवाद भी हो गया था। अभी वो सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद नेपोटिज्म के खिलाफ अभियान चला रहीं थीं। बता दें कि हाल ही में पायल रोहतगी ने यशराज फिल्म्स के कास्टिंग डायरेक्टर पर आरोप लगाए थे। बकौल पायल, उनके खिलाफ एक गैंग बन गया था, लेकिन वो विक्टिम नहीं बनीं।

View this post on Instagram

Why my Twitter Account is SUSPENDED ?????

A post shared by Team Payal Rohatgi (@payalrohatgi) on

ट्विटर अकाउंट सस्पेंड होने के बाद पायल रोहतगी की अपील

पायल रोहतगी ने आरोप लगाया था कि बॉलीवुड में लोगों ने उनसे किनारा किया, जिसके बाद उन्हें टीवी का रुख किया। पायल रोहतगी ने आरोप लगाया था कि यशराज फिल्म्स की कास्टिंग डायरेक्टर शानू शर्मा ने उनसे एक मुलाकात के लिए 5000 रुपए की माँग की थी। इससे पहले उन्होंने फिल्म निर्माता-निर्देशक करण जौहर से पूछा था कि आलिया भट्ट ने ऐसा क्या किया, जो आपने उसे ब्रेक दिया?

इससे पहले दिसंबर 2019 में मोतीलाल नेहरू को लेकर सोशल मीडिया में आपत्तिजनक पोस्ट करने के आरोप में पायल रोहतगी को कोर्ट ने 24 दिसंबर तक के लिए जेल भेज दिया था। उन पर कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता चर्मेश शर्मा ने अपनी शिकायत में आरोप लगाए थे कि अभिनेत्री ने फेसबुक और ट्विटर के माध्यम से नेहरू और उनके परिजनों के खिलाफ विवादास्पद वीडियो बनाकर पोस्ट किए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, 11वीं सदी का शिलालेख है साक्ष्य!!

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, बख्तियार खिलजी ने नहीं। ब्राह्मण+बुर्के वाली के संभोग को खोद निकाला है इस इतिहासकार ने।

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -