Thursday, January 21, 2021
Home विविध विषय भारत की बात मौलवियों ने कहा- काफिरों को इस्लाम में बदलो, लेकिन उसके कारण कामयाब न हो...

मौलवियों ने कहा- काफिरों को इस्लाम में बदलो, लेकिन उसके कारण कामयाब न हो पाया मिरखशाह

थिझर गॉंव के पास एक स्थान का चयन करते हुए भगवान झूलेलाल जी ने अपना सांसारिक रूप त्याग दिया। जैसे ही उनकी आत्मा निकली हिंदुओं और मुस्लिमों में उस स्थल पर समाधि और दरगाह बनाने को लेकर बहस छिड़ गई। इसके बाद आकाशवाणी हुई- ऐसा धर्मस्थल बनाया जाए जिसमें हिन्दू और मुस्लिम दोनों आ सके।

भगवान झूलेलाल जयंती सिंधी समाज में बड़े उत्साह और जोश के साथ मनाया जाता है। हिंदू पञ्चाङ्ग के अनुसार झूलेलाल जयंती चैत्र मास की द्वितीया तिथि को मनाई जाती है। ऐसा माना जाता है कि झूलेलाल जी भगवान वरुणदेव के अवतार हैं। भगवान झूलेलाल की जयंती को सिंधी समाज चेटीचंड के रूप में मनाता है। यह सिंधी नववर्ष के रूप में भी मनाया जाता है। चेटीचंड हिंदू कैलेंडर के अनुसार चैत्र नवरात्र के दूसरे दिन अर्थात चैत्र शुक्ल द्वितीया को मनाया जाता है। सिंधी समाज में मान्यता है कि जल से ही सभी सुखों और मंगलकामना की प्राप्ति होती है इसलिए इसका विशेष महत्व है।

चेटीचंड सिंधियों का प्रमुख त्योहार है और सिंधी नववर्ष भी। हिन्दू नववर्ष का पहला माह ‘चैत्र’ होता है और सिंधी में इसे ‘चेट’ कहते हैं। इसी वजह से इस उत्सव को ‘चेट-ई-चंड’ कहते हैं। यह दिन सिंधियों के इष्ट देव उदेरोलाल झूलेलाल की जयंती होती है। इसी कारण से सिंधियों में यह पर्व अत्यधिक महत्वपूर्ण हैं।

जन्म की कहानी

सिंध में मोहम्मद बिन कासिम ने अंतिम हिन्दू राजा दाहिर को विश्वासघात कर हरा दिया। इसके बाद सिंध को अल-हिलाज के खलीफा द्वारा अपने राज्य में शामिल किया गया। इसके बाद खलीफा के प्रतिनिधियों द्वारा सिंध में शासन-प्रशासन चलाया गया। इस्लामिक आक्रमणकारियों ने पूरे क्षेत्र में तलवार की नोंक पर लगातार धर्मांतरण किया और इस्लाम को फैलाया।

इसके बाद 10वीं शताब्दी में सिंध स्योमरा राजवंश (SOOMRA Dynasty) के शासन में आया। सिंध क्षेत्र में इस्लाम में मतांतरित होने वाले स्थानीय लोगों में यह सबसे पहले थे। इनकी पूरी जाति इस्लाम में मतांतरित हो चुकी थी। ये समुदाय ना ज्यादा धार्मिक था ना ही ज्यादा कट्टरपंथी। इस्लाम के आक्रमण के बाद यही दौर अपवाद रहा जिसने कट्टरपंथ और तलवार की नोंक पर इस्लाम को फैलाने पर जोर नहीं दिया।

सिंध की राजधानी थट्टा की अपनी अलग पहचान और अलग प्रभाव था। यहाँ का शासक मिरखशाह ना केवल अत्याचारी और दुराचारी था, बल्कि कट्टर इस्लामिक आक्रमणकारी था। उसने आसपास के क्षेत्र में इस्लाम को फैलाने के लिए अनेक आक्रमण किए और नरसंहार किया। मिरखशाह जिन सलाहकारों और मित्रों से घिरा हुआ था उन्होंने उसे सलाह दी थी कि ‘इस्लाम फैलाओ तो तुम्हें मौत के बाद जन्नत या सर्वोच्च आनंद प्रदान किया जाएगा।’

इसके बाद मिरखशाह ने हिंदुओं के ‘पंच प्रतिनिधियों’ को बुलाया और उन्हें आदेश दिया कि ‘इस्लाम को गले लगाओ या मरने की तैयारी करो।’ मिरखशाह की धमकी से डरे हिंदुओं ने इस पर विचार करने को कुछ समय मॉंगा जिस पर मिरखशाह ने उन्हें 40 दिन का समय दिया।

यह सर्वविदित है कि जब मनुष्य के लिए सारे दरवाजे बंद हो जाते हैं तो वह ईश्वर के बारे में सोचता है। इस मामले में भी कुछ ऐसा ही हुआ। भगवान श्रीकृष्ण के भगवद्गीता के उद्बोधन का उल्लेख करते हुए तत्कालीन ग्राम प्रमुख ने कहा- जब-जब पाप सीमा लॉंघती है और धर्म पर खतरा बढ़ता है तब-तब ईश्वर अवतार लेते हैं।

अपने सामने मौत और धर्म पर संकट को देखते हुए सिंधी हिंदुओं ने नदी (जल) के देवता वरुण देव की ओर रुख किया। चालीस दिनों तक हिंदुओं ने तपस्या की। उन्होंने ना बाल कटवाए, ना कपड़े बदले और ना भोजन किया। उपवास कर केवल ईश्वर की स्तुति और प्रार्थना कर रक्षा की उम्मीद लिए बैठे रहे। 40वें दिन स्वर्ग से एक आवाज़ आई- डरो मत, मैं तुम्हें उसकी बुरी नज़र से बचाऊँगा। मैं एक नश्वर के रूप में नीचे आऊँगा। नसरपुर के रतनचंद लोहानो के घर माता देवकी के गर्भ में जन्म लॅूंगा।

इसके बाद से सिंधी समाज इस 40वें दिन को आज भी ‘धन्यवाद दिवस’ के रूप में उत्सव मनाते हैं। इस घटना के बाद हिंदुओं ने मिरखशाह से जाकर अपने ईश्वर के आने तक रुकने की प्रार्थना की। मिरखशाह अहंकार में डूबा था और ‘भगवान’ से भी लड़ लेने की उत्सुकता में उसने हिंदुओं को कुछ दिन का और समय दिया। 3 महीने के बाद आसू माह (आषाढ़) की दूसरी तिथि में माता देवकी ने गर्भ में शिशु होने की पुष्टि की। इसके बाद पूरे हिन्दू समाज ने जल देवता का प्रार्थना कर अभिवादन किया। चैत्र माह के शुक्ल पक्ष द्वितीया के दिन आकाश से बेमौसम मूसलाधार बारिश हुई और माता देवकी ने एक चमत्कारी शिशु को जन्म दिया। भगवान झूलेलाल के जन्म लेते ही उनके मुख को खोला गया, जिसमें सिंधु नदी के बहने का दृश्य था। पूरे हिन्दू समुदाय ने बच्चे के जन्म लेते ही गीतों और नृत्यों के साथ उसका स्वागत किया।

नामकरण

झूलेलाल जी का नाम बचपन में उदयचंद रखा गया। उदयचंद को उदेरोलाल भी कहा जाने लगा। नसरपुर के लोगों ने प्यार से बच्चे को अमरलाल (Immortal) कहने लगे। जिस पालने में वह रहते थे वह अपने आप झूलने लगता था, जिसके बाद ही उन्हें झूलेलाल कहा जाने लगा और वह इसी नाम से लोकप्रिय हुए।

मिरखशाह के मंत्री और भगवान झूलेलाल

रहस्यमय और चमत्कारी बच्चे के जन्म की बात सुनकर मिरखशाह ने पंचों को अपने दरबार में बुलाया। लेकिन इस बार सिंधी हिन्दू समुदाय पूरी तरह आश्वस्त था कि उनका उद्धारक अब आ चुका है। मिरखशाह को जब जल देवता की बच्चे (झूलेलाल जी) के रूप जन्म लेने की बात पता चली तो उसने सबके सामने उसका जमकर मजाक उड़ाया। मिरखशाह ने कहा- ना तो मैं मरने जा रहा हूँ और ना ही तुम लोग यह जमीन जिंदा छोड़ने जा रहे हो। मैं तुम्हारे उस उद्धारक से ही इस्लाम कबूल करवाऊँगा और उसके बाद तुम लोग भी यही करोगे।

मिरखशाह ने अपने एक मंत्री अहिरियो से उस बच्चे को जाकर देखने को कहा। अहिरियो गुलाब के फूल में जहर मिलाकर अपने साथ लेकर बच्चे से मिलने गया। जब अहिरियो ने बच्चे को देखा तो वह पूरी तरह चौंक गया। उसने झूलेलाल जी को जहर से भरा गुलाब का फूल दिया जिसे झूलेलाल जी ने रख लिया। फिर एक फूॅंक में गुलाब को उड़ा दिया। इसके बाद अहिरियो ने देखा कि एक बूढ़ा व्यक्ति उसके सामने था। फिर अचानक वह 16 वर्ष के किशोर में बदल गया। इसके बाद अहिरियो ने झूलेलाल जी को घोड़े पर बैठे और हाथ में धधकती तलवार के साथ देखा। उसके पीछे और योद्धा भी थे। यह सब देखकर अहिरियो भाग खड़ा हुआ।

अहिरियो ने मिरखशाह को आकर सारी जानकारी दी। लेकिन मिरखशाह ने इसे मजाक समझा। मिरखशाह ने इसे सामान्य जादू या आँखों का धोखा कहा। लेकिन उसी रात मिरखशाह के सपने में भी कुछ दिखा। मिरखशाह ने देखा कि एक बच्चा उसकी गर्दन पर बैठा हुआ है। फिर वह बूढ़ा बन गया और इसके बाद तलवार पकड़ा हुआ एक योद्धा भी बन गया। अगली सुबह मिरखशाह ने अहिरियो को बुलाकर उस बच्चे से निपटने के आदेश दिए, लेकिन अहिरियो ने जल्दबाजी नहीं करने की सलाह दी।

चमत्कार

इन सब के बीच, बालक उदेरोलाल (भगवान झूलेलाल) चमत्कार कर रहा था। नसरपुर के लोग पूर्णतः आश्वस्त थे कि उन्हें बचाने साक्षात ईश्वर ने जन्म लिया है। उदेरोलाल ने गोरखनाथ से ‘अलख निरंजन’ का गुरु मंत्र भी प्राप्त किया। उदेरोलाल की सौतेली माँ उन्हें फल देकर बेचने भेजती थी। उदेरोलाल बाजार जाने के बजाए सिंधु तट पर जाकर उन्हें बुजुर्गों, बच्चों, भिक्षा मॉंगने वालों और गरीबों को दे देते थे। फिर खाली बक्से को लेकर वह सिंधु में डुबकी लगाते और जब निकलते तो वह बक्सा उन्नत किस्म के चावल से भरा होता जिसे ले जाकर वह अपनी माँ को दे देते। रोज-रोज उन्नत किस्म के चावल को देख एक दिन उनकी मॉं ने उनके पिता को भी साथ भेजा। जब रतनचंद ने छिपकर उदेरोलाल (भगवान झूलेलाल) का यह चमत्कार देखा तो उन्होंने झुककर उन्हें प्रणाम किया और उन्हें साक्षात ईश्वर के रूप में स्वीकार किया।

मिरखशाह और भगवान झूलेलाल

मिरखशाह के ऊपर मौलवी लगातार हिंदुओं को इस्लाम में लाने का दबाव डाल रहे थे। उन्होंने उसे अल्टीमेटम दिया। काफिरों को इस्लाम में बदलने का आदेश दिया। मौलवियों की बात और अपने अहंकार में मिरखशाह ने उदेरोलाल से खुद मिलने का फैसला किया। उसने अहिरियो से मिलने की व्यवस्था करने को कहा। अहिरियो, जो इस बीच में जलदेवता का भक्त बन गया था, सिंधु के तट पर गया और जल देवता से अपने बचाव में आने की विनती की। अहिरियो ने एक बूढ़े आदमी को देखा, जिसकी सफेद दाढ़ी थी, जो एक मछली पर तैर रहा था। अहिरियो का सिर आराधना में झुका और उन्होंने समझा कि जल देवता उदेरोलाल हैं। फिर अहिरियो ने एक घोड़े पर उदेरोलाल को छलांग लगाते हुए देखा और और उदेरोलाल एक हाथ में तलवार और दूसरे हाथ में एक झंडा लिए हुए निकल गए।

मिरखशाह जब उदेरोलाल जी के सामने आया तो उन्हें भगवान झूलेलाल (उदेरोलाल) ने ईश्वर का मतलब समझाया। लेकिन कट्टरपंथी मौलवियों की बातें और इस्लामी कट्टरपंथ के जूनून में मिरखशाह सभी बातों को अनदेखा कर अपने सैनिकों को झूलेलाल जी गिरफ्तार करने का आदेश देता है। जैसे ही सैनिक आगे बढ़े वैसे ही पानी की बड़ी-बड़ी लहरें आँगन को चीरती हुई आगे आ गई। आग ने पूरे महल को घेर लिया और सब कुछ जलना शुरू हो गया। सभी भागने के मार्ग बंद हो गए। उदेरोलाल (भगवान झूलेलाल) ने फिर कहा- मिरखशाह इसे खत्म करो! आखिर तुम्हारे और मेरे भगवान एक हैं तो फिर मेरे लोगों को तुमने क्यों परेशान किया?

मिरखशाह घबरा गया और उसने झूलेलाल जी से विनती की- मेरे भगवान, मुझे अपनी मूर्खता का एहसास है। कृप्या मुझे और मेरे दरबारियों को बचा लो। इसके बाद सारी जगह पानी की बौछार आई और आग बुझ गई। मिरखशाह ने सम्मानपूर्वक नमन किया और हिंदुओं और मुस्लिमों के साथ एक जैसा व्यवहार करने के लिए सहमत हुआ। इससे पहले कि वे तितर-बितर होते, उदेरोलाल ने हिंदुओं से कहा कि वे उन्हें प्रकाश और पानी का अवतार समझें। उन्होंने एक मंदिर बनाने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा- मंदिर में एक मोमबत्ती जलाओ और हमेशा पवित्र घूॅंट के लिए पानी उपलब्ध रखो। यहीं उदेरोलाल ने अपने चचेरे भाई पगड़ को मंदिर का पहला ठाकुर (पुजारी) नियुक्त किया। भगवान झूलेलाल ने पगड़ को सात सिंबॉलिक चीजें दी। भगवान झूलेलाल ने पगड़ को मंदिरों के निर्माण और पवित्र कार्य को जारी रखने का संदेश दिया।

सांसारिक त्याग

थिझर गॉंव के पास एक स्थान का चयन करते हुए भगवान झूलेलाल जी ने अपना सांसारिक रूप त्याग दिया। इस घटना को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। जैसे ही उनकी आत्मा निकली हिंदुओं और मुस्लिमों में फिर उस स्थल पर समाधि और दरगाह बनाने को लेकर बहस छिड़ गई। इसके बाद आकाशवाणी हुई- ऐसा धर्मस्थल बनाया जाए जिसमें हिन्दू और मुस्लिम दोनों आ सके।

निष्कर्ष

भगवान झूलेलाल ने अपने चमत्कारिक जन्म और जीवन से ना सिर्फ सिंधी हिंदुओं के जान की रक्षा की बल्कि हिन्दू धर्म को भी बचाए रखा। मिरखशाह जैसे ना जाने कितने इस्लामिक कट्टरपंथी आए और धर्मांतरण का खूनी खेल खेला। लेकिन भगवान झूलेलाल की वजह से सिंध में एक दौर में यह नहीं हो पाया। भगवान झूलेलाल आज भी सिंधी समाज के एकजुटता, ताकत और सांस्कृतिक गतिविधियों के केंद्र हैं।

भगवान झूलेलाल ने अपने भक्तों से कहा कि मेरा वास्तविक रूप जल एवं ज्योति ही है। इसके बिना संसार जीवित नहीं रह सकता। उन्होंने समभाव से सभी को गले लगाया तथा साम्प्रदायिक सद्भाव का संदेश देते हुए दरियाही पंथ की स्थापना की।

सिंधी समुदाय को भगवान राम का वंशज माना जाता है। महाभारत काल में जिस राजा जयद्रथ का उल्लेख है वो सिंधी समुदाय का ही था। सिंधी समुदाय चेटीचंड पर्व से ही नववर्ष प्रारम्भ करता है। चेटीचंड के अवसर पर सिंधी भाई अपार श्रद्धा के साथ झूलेलाल की शोभायात्रा निकालते हैं। इस दिन सूखोसेसी प्रसाद वितरित करते हैं। चेटीचंड के दिन सिंधी स्त्री-पुरुष तालाब या नदी के किनारे दीपक जला कर जल देवता की पूजा-अर्चना करते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम ट्रैवल बैन पर बायडेन ने पलटा ट्रंप का फैसला, मेक्सिको बॉर्डर पर बन रही दीवार की फंडिंग भी रोकी

जो बायडेन ने डोनाल्ड ट्रंप के फैसले को पलटते हुए अमेरिका में 'मुस्लिम ट्रैवल बैन' को खत्म कर दिया है। ट्रंप ने कुछ मुस्लिम बहुल देशों के अमेरिका में ट्रेवल पर रोक लगा दी थी।

बंगाल में ‘भाईजान’ की एंट्री: 80 सीटों पर चुनाव, फुरफुरा शरीफ दरगाह के पीरजादा ने ममता पर लगाया BJP की मदद का आरोप

फुरफुरा शरीफ दरगाह के पीरजादा अब्बास सिद्दीकी उर्फ़ 'भाईजान' बंगाल चुनाव के लिए आज एक नए राजनीतिक फ्रंट की घोषणा कर सकते हैं।

झटका बेच रहे हो या हलाल? दुकान में बोर्ड लगा कर बताओ: SDMC का अहम फैसला, पास किया प्रस्ताव

SDMC ने एक अहम फैसला लिया। इसके अंतर्गत आने वाले सभी होटलों, रेस्टोरेंट या मीट की दुकानों को 'झटका' या 'हलाल' मीट बेचने से...

ढाई साल की बच्ची का रेप-मर्डर, 29 दिन में फाँसी की सजा: UP पुलिस और कोर्ट की त्वरित कार्रवाई

अदालत ने एक ढाई साल की बच्ची के साथ रेप और हत्या के दोषी को मौत की सजा सुनाई है। UP पुलिस की कार्रवाई के बाद यह फैसला 29 दिन के अंदर सुनाया गया है।
00:30:41

मोदी सरकार निकम्मों की तरह क्यों देख रही है किसान आंदोलन को?

किसान आंदोलन को ले कर मोदी सरकार का रवैया ढीला, हल्का और निकम्मों जैसा क्यों दिख रहा है? मोदी की क्या मजबूरी है आखिर?

आएँगे हम.. अंगद के पाँव की तरह: कश्मीर घाटी से पलायन की पीड़ा कविता और अभिनय से बयाँ करती अभिनेत्री भाषा

डेढ़ साल की थीं भाषा सुंबली जब अपनी माँ की गोद में रहते हुए उन्हें कश्मीर घाटी छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। 19 जनवरी 1990 की उस भयावह रात को अब 31 साल बीत गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

‘उसने पैंट से लिंग निकाला और मुझे फील करने को कहा’: साजिद खान पर शर्लिन चोपड़ा ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

अभिनेत्री-मॉडल शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म मेकर फराह खान के भाई साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

महाराष्ट्र पंचायत चुनाव में 3263 सीटों के साथ BJP सबसे बड़ी पार्टी, ठाकरे की MNS को सिर्फ 31 सीट

महाराष्ट्र में पंचायत चुनाव में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी। शिवसेना ने दावा किया है कि MVA को राज्य की ग्रामीण जनता ने पहली पसंद बनाया।

‘अश्लील बातें’ करने वाले मुफ्ती को टिकटॉक स्टार ने रसीद किया झन्नाटेदार झापड़: देखें वायरल वीडियो

टिकटॉक स्टार कहती हैं, "साँप हमेशा साँप रहता है। कोई मलतलब नहीं है कि आप उससे कितनी भी दोस्ती करने की कोशिश करो।"

देवी-देवताओं को गाली देने वाले फारुकी के बचाव में सामने आया एक और ‘कॉमेडियन’, किया कश्मीरी पंडितों के नरसंहार का इस्तेमाल

“आज कश्मीरी पंडित नरसंहार के 31 साल पूरे हो गए हैं। मैं चाहता हूँ कि मैं अपनी मातृभूमि, कश्मीर वापस जाऊँ, जहाँ मुझे अपनी न्यायिक प्रणाली की मृत्यु के बारे में पढ़ने के लिए इंटरनेट नहीं होगा।”
- विज्ञापन -

 

सुशांत सिंह राजपूत के नाम पर राजधानी दिल्ली की सड़क का रखा गया नाम, SDMC ने पास किया प्रस्ताव

साउथ दिल्ली म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन ने दिवंगत फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के नाम पर सड़क का नाम रखने वाले प्रस्ताव को पास कर दिया है।

मुस्लिम ट्रैवल बैन पर बायडेन ने पलटा ट्रंप का फैसला, मेक्सिको बॉर्डर पर बन रही दीवार की फंडिंग भी रोकी

जो बायडेन ने डोनाल्ड ट्रंप के फैसले को पलटते हुए अमेरिका में 'मुस्लिम ट्रैवल बैन' को खत्म कर दिया है। ट्रंप ने कुछ मुस्लिम बहुल देशों के अमेरिका में ट्रेवल पर रोक लगा दी थी।

कोरोनावायरस का खौफ, रियल लाइफ में बना डाली The Terminal: 3 महीने तक छिपा रहा एयरपोर्ट में

एयरपोर्ट स्टाफ के मुताबिक आदित्य सिंह ने पकड़े जाने पर एक एयरपोर्ट आईडी बैज दिखाया, जो एयरपोर्ट स्टाफ का ही था। इसके खोने की रिपोर्ट...

बंगाल में ‘भाईजान’ की एंट्री: 80 सीटों पर चुनाव, फुरफुरा शरीफ दरगाह के पीरजादा ने ममता पर लगाया BJP की मदद का आरोप

फुरफुरा शरीफ दरगाह के पीरजादा अब्बास सिद्दीकी उर्फ़ 'भाईजान' बंगाल चुनाव के लिए आज एक नए राजनीतिक फ्रंट की घोषणा कर सकते हैं।

झटका बेच रहे हो या हलाल? दुकान में बोर्ड लगा कर बताओ: SDMC का अहम फैसला, पास किया प्रस्ताव

SDMC ने एक अहम फैसला लिया। इसके अंतर्गत आने वाले सभी होटलों, रेस्टोरेंट या मीट की दुकानों को 'झटका' या 'हलाल' मीट बेचने से...

ढाई साल की बच्ची का रेप-मर्डर, 29 दिन में फाँसी की सजा: UP पुलिस और कोर्ट की त्वरित कार्रवाई

अदालत ने एक ढाई साल की बच्ची के साथ रेप और हत्या के दोषी को मौत की सजा सुनाई है। UP पुलिस की कार्रवाई के बाद यह फैसला 29 दिन के अंदर सुनाया गया है।
00:30:41

मोदी सरकार निकम्मों की तरह क्यों देख रही है किसान आंदोलन को?

किसान आंदोलन को ले कर मोदी सरकार का रवैया ढीला, हल्का और निकम्मों जैसा क्यों दिख रहा है? मोदी की क्या मजबूरी है आखिर?

TMC की धमकी- ‘गोली मारो… से लेकर बंगाल माँगोगे तो चीर देंगे’ पर BJP का पलटवार, पूछा- क्या यह ‘शांति’ की परिभाषा है?

टीएमसी की रैली में 'बंगाल के गद्दारों को गोली मारो सालो को' जैसे नारे लगा कर BJP कार्यकर्ताओं को जान से मारने की धमकी दी तो वहीं ममता सरकार में परिवहन मंत्री ने भाजपा को लेकर कहा, "अगर दूध माँगोगे तो खीर देंगे, लेकिन अगर बंगाल माँगोगे तो चीर देंगे।"

मंदिर की दीवारों पर ईसाई क्रॉस पेंट कर चर्च में बदलने की कोशिश, पहले भी मूर्तियों और दानपात्र को पहुँचाई गई थी क्षति

तमिलनाडु के वेल्लोर जिले में एक हिंदू मंदिर की दीवारों पर ईसाई क्रॉस चिन्ह पेंट कर उसे एक चर्च में बदलने का प्रयास किया गया है।

आएँगे हम.. अंगद के पाँव की तरह: कश्मीर घाटी से पलायन की पीड़ा कविता और अभिनय से बयाँ करती अभिनेत्री भाषा

डेढ़ साल की थीं भाषा सुंबली जब अपनी माँ की गोद में रहते हुए उन्हें कश्मीर घाटी छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। 19 जनवरी 1990 की उस भयावह रात को अब 31 साल बीत गए हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
383,000SubscribersSubscribe