Friday, August 6, 2021
Homeविविध विषयअन्यभारत और तालिबान के बीच मध्यस्थता को तैयार ईरान

भारत और तालिबान के बीच मध्यस्थता को तैयार ईरान

अमेरिका द्वारा अफ़ग़ानिस्तान में अपनी उपस्थिति घटाने और वहां स्थित अपने सेना के जवानों की संख्या कम करने की ख़बरों के बाद वहाँ कई तालिबान लड़ाके वापस आ गए हैं।

ईरान ने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान के तालिबान में उसका प्रभाव है और वो भारत के लिए उस प्रभाव का इस्तेमाल करने के लिए तैयार है। ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने अपने भारत दौरे के दौरान बताया कि उनका देश भारत और तालिबान के बीच बातचीत शुरू करा सकता है। ईरानी विदेश मंत्री ने रायसीना डायलॉग को भी सम्बोधित किया और कई भारतीय नेताओं से भी मुलाक़ात किया। पिछले सप्ताह ईरान के एक प्रतिनिधि-मंडल ने तालिबान के नेताओं से मुलाकात की थी। ईरान भी भारत की तरह ही अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के बढ़ते प्रभाव से चिंतित है लेकिन उसने तालिबान के एक धड़े से बातचीत शुरू कर दी है।

ईरानी विदेश मंत्री ने कहा की अफ़ग़ानिस्तानी तालिबान में उनके कुछ प्रभाव हैं। उन्होंने कहा कि ईरानी सरकार अपने उस प्रभाव का इस्तेमाल अफ़ग़ानिस्तान के लिए करना चाहेगी लेकिन अगर भारत चाहता है तो उसके लिए भी ऐसा करने में उन्हें ख़ुशी मिलेगी।

हलाँकि भारत द्वारा इस प्रस्ताव को स्वीकार करने के कम ही आसार हैं। कई ख़बरों में कहा गया है कि इस मामले में भारत हमेशा अफ़ग़ानिस्तान सरकार की तरफ ही है और तालिबान से किसी भी तरह की बातचीत अभी नही की जाएगी। विश्लेषकों का ये भी मानना है की भारत ने पिछले 17 सालों में तालिबान में कुछ सम्पर्क बनाए हैं लेकिन वो सम्पर्क कितने गहरे हैं, इसका अंदाजा लगा पाना मुश्किल है।

ज्ञात हो कि अमेरिका द्वारा अफ़ग़ानिस्तान में अपनी उपस्थिति घटाने और वहाँ स्थित अपने सेना के जवानों की संख्या कम करने की ख़बरों के बाद वहाँ कई तालिबान लड़ाके वापस आ गए हैं और उन्होंने फिर से अपने पाँव पसारने शुरू कर दिए हैं जिस से भारत जैसे देशों की चिंता बढ़ गई है। भारत अफ़ग़ानिस्तान में वहाँ के लोगों के लिए कई तरह के जन-कल्याणकारी योजनाएँ चला रहा है और शांति स्थापना की प्रक्रिया में अफ़ग़ानिस्तान सरकार के साथ कदमताल कर काम कर रहा है।

अमेरिका ने ही तालिबान से बातचीत की प्रक्रिया शुरू कर दी है आज इसी सिलसिले में दोनों पक्षों के बीच चौथे दौर की बैठक होने वाली है। कुछ दिनों पहले पाकिस्तान की मध्यस्थता में दोनों पक्षों के बीच अबु-धाबी में दो दिनों तक बैठकों का दौर चला था। हलाँकि अब कई देश तालिबान से बातचीत कर रहे हैं या फिर उसके लिए तैयार हैं लेकिन भारत इस मामले में आशंकित है। भारत तालिबान के भीतर पाकिस्तान के बढ़ते दबदबे से ख़ासा चिंतित है और इसी कारण उसने तालिबान के साथ कई देश के हुए बैठक में अपने वरिष्ठ अधिकारीयों को नहीं भेजा था। उस बैठक में भारत ने गैर आधिकारिक तौर पर हिस्सा लिया था।

ईरान और अफ़ग़ानिस्तान के रिश्ते पूर्व में काफी तल्ख़ रहे हैं क्योंकि ईरान अपने देश से सटे कुछ इलाके में तालिबान खिलाफ रहा है लेकिन पाकिस्तान और तलिबान के रिश्ते हमेशा से सही रहे हैं। तालिबान से अमेरिका से बातचीत करा कराने की प्रक्रिया में शामिल पाकिस्तान इसे अपनी कूटनीतिक जीत के तौर पर पेश करता है। भारत दौरे पर आए ईरानी मंत्री के इस प्रस्ताव के बाद अब कयास लगाने जाने लगे हैं कि क्या अब भारत आधिकारिक तौर पर तालिबान से बातचीत में शामिल होगा या नहीं?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,173FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe