Saturday, July 20, 2024
Homeविविध विषयअन्यसलमान खान के ख़िलाफ़ पत्रकार से बदसलूकी के आरोप में कोर्ट ने दिए जाँच...

सलमान खान के ख़िलाफ़ पत्रकार से बदसलूकी के आरोप में कोर्ट ने दिए जाँच के आदेश

24 अप्रैल की सुबह सलमान साईकिल चला रहे थे और उनके 2 अंगरक्षक भी उनके साथ मौजूद थे। इस दौरान वह भी वहाँ कार से गुजरे। सलमान को देखकर उन्होंने बॉडीगार्ड्स की सहमति से उनकी वीडियो बनानी शुरू की। लेकिन.....

बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान पर पत्रकार से बदसलूकी करने के आरोप में मुंबई की एक कोर्ट ने उनके ख़िलाफ़ पुलिस को जाँच के आदेश दिए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो उन पर इसी साल अप्रैल में एक पत्रकार से कथित तौर पर मारपीट करने का आरोप लगा था। जिसके बाद जून महीने में पत्रकार ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाकर सलमान खान और उनके 2 बॉडीगार्ड के ख़िलाफ़ FIR दर्ज करने की माँग की थी।

अब इसी मामले पर सुनवाई करते हुए अंधेरी के मेट्रोपॉलिटन कोर्ट ने डीएन नगर पुलिस को सलमान खान और उनके 2 बॉडीगार्ड्स के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं और मामले की जाँच करने को कहा है। जानकारी के अनुसार इस साल के अप्रैल महीने में हुई इस घटना में पत्रकार ने सलमान खान को साईकिल चलाते देख उनकी वीडियो बनाने की कोशिश की थी, जिसके बाद ये घटना घटी।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक अदालत ने पुलिस को आदेश दिए हैं कि पुलिस सलमान खान और उनके 2 बॉडीगार्ड्स के ख़िलाफ़ एक पत्रकार से मारपीट व बदसलूकी करने के आरोप की जाँच करें और 14 अक्टूबर तक कोर्ट में जाँच रिपोर्ट पेश करे।

गौरतलब है कि जिस पत्रकार ने बॉलीवुड के भाईजान के ख़िलाफ़ मामला दर्ज करवाया है, उसका नाम अशोक पांडेय हैं। अशोक ने अंधेरी के अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मैजिस्ट्रेट आर आर खान की अदालत में आईपीसी की धारा 323 (चोट पहुँचाने), 392 (लूटपाट) और 506 (आपराधिक धमकी) के तहत ‘शिकायत’ दर्ज कराई थी।

अशोक ने अपनी शिकायत में बताया था कि 24 अप्रैल की सुबह सलमान साईकिल चला रहे थे और उनके 2 अंगरक्षक भी उनके साथ मौजूद थे। इस दौरान वह भी वहाँ कार से गुजरे। सलमान को देखकर उन्होंने बॉडीगार्ड्स की सहमति से उनकी वीडियो बनानी शुरू की। लेकिन सलमान को यह चीज पसंद नहीं आई और उनके बॉडीगार्ड उनके(अशोक) के पास आकर उनसे मारपीट करने लगे। पत्रकार का आरोप है कि इस दौरान उसका फोन भी छीन लिया गया। और जब उसने पुलिस को शिकायत दर्ज कराई तो उन्होंने भी एफआईआर नहीं लिखी, जिस कारण उन्हें कोर्ट का सहारा लेना पड़ा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -