Tuesday, July 27, 2021
Homeविविध विषयअन्ययूपी, बिहार में इमरान खान पर मुकदमा, अक्टूबर में सुनवाई: दी थी J&K में...

यूपी, बिहार में इमरान खान पर मुकदमा, अक्टूबर में सुनवाई: दी थी J&K में खून-खराबे की धमकी

इमरान खान ने शुक्रवार को कहा था कि प्रतिबंध हटते ही जम्मू-कश्मीर में खूनखराबा होगा, खून की नदियाँ बहेंगी। साथ ही वैश्विक मंच से खुलेआम कहा कहा था कि एक बार फिर भारत में पुलवामा जैसा हमला होगा।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ उत्तर प्रदेश और बिहार में मुकदमा दायर किया गया है। इन पर सुनवाई अक्टूबर में होगी। इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) के 74वें सत्र में कश्मीर पर भड़काऊ बयानबाजी कर खून-खराबे की धमकी दी थी। मुकदमा इसी के बाबत दायर किया गया है।

बिहार के मुजफ्फरपुर के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सूर्यकांत तिवारी की अदालत में शनिवार (सितंबर 28, 2019) को वकील सुधीर कुमार ओझा ने इमरान के खिलाफ मुकदमा दायर। इसका आधार लोगों की भावनाएँ भड़काने को बनाया गया है। अदालत ने इसे मंजूर कर लिया है और सुनवाई के लिए 21 अक्टूबर की तारीख तय की है। ओझा ने बताया कि मामला भारतीय दंड संहिता की धारा 124 (ए), 125 और 505 के तहत दायर की गई है।

वहीं, यूपी के महराजगंज सिविल कोर्ट के अधिवक्ता विनय कुमार पांडेय ने 156(3) के तहत प्रार्थना-पत्र देकर मुकदमा दर्ज कराया है। मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत ने अगली सुनवाई की तारीख 9 अक्टूबर तय की है।

अधिवक्ता विनय कुमार पांडेय ने बताया कि यह मुकदमा राष्ट्रद्रोह और दो वर्गों के बीच वैमनस्यता फैलाने के तहत दाखिल किया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अपने बयानों से भारत में हमेशा राष्ट्रद्रोह और दो वर्गों के बीच वैमनस्यता फैलाने का काम करते हैं।

गौरतलब है कि पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने शुक्रवार (सितंबर 27, 2019) को कहा था कि प्रतिबंध हटते ही जम्मू-कश्मीर में खूनखराबा होगा, खून की नदियाँ बहेंगी। प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि नस्लीय श्रेष्ठता की भावना और घमंड की वजह से आदमी गलतियाँ करता है और गलत निर्णय लेता है। इमरान ने वैश्विक मंच से खुलेआम कहा कि एक बार फिर भारत में पुलवामा जैसा हमला होगा। उन्होंने कहा कि एक और पुलवामा होगा और तब भारत पाकिस्तान पर आरोप लगाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe