Tuesday, March 9, 2021
Home विविध विषय अन्य सबसे बुरी स्थिति, क्या होगा परिणाम, कितने लोगों की मौत... सब जोड़-घटाव करते हैं...

सबसे बुरी स्थिति, क्या होगा परिणाम, कितने लोगों की मौत… सब जोड़-घटाव करते हैं डोवाल, फिर होता है ‘स्ट्राइक’

सबसे बुरी स्थिति की सबसे पहले कल्पना। फिर उसकी ‘कीमत’ के बारे में सोचना - यहाँ तक कि लोगों की मृत्यु के खतरे को भी कीमत-बनाम-परिणाम के रूप में देखना। फिर worst-case-scenario के छोटे-छोटे हिस्सों में छोटे-छोटे सुधार करते हुए...

हकीकत में ‘जेम्स बॉन्ड’ जैसी जिंदगी जी चुके भारत के वर्तमान राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल (अजीत डोभाल) एक ऐसी शख्सियत हैं, जिनके जीवन से जुड़े किस्से किसी फिल्मी हीरो से कम नहीं हैं। इनकी दूरदर्शिता का ही परिणाम रहा कि भारत कई पूर्वानुमानित हमलों से सुरक्षित बच सका। न जाने कितने आतंकियों को इन्होंने बातों ही बातों में सरेंडर करवाया और न जाने कितनों को भारत के पाले में आने के लिए मना डाला। 

स्थिति से निपटने और त्वरित फैसले लेने की इनकी फितरत का ही परिणाम था कि कश्मीर से लेकर मिजोरम तक में उठी विद्रोह की आवाजों का समय रहते निपटान हो सका और बाद में सर्जिकल स्ट्राइक व बालाकोट एयर स्ट्राइक के जरिए डोवाल ने साबित किया कि उनका कोई विकल्प हो ही नहीं सकता।

20 जनवरी 1945 में इस शख्सियत ने उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में जन्म लिया था। आज वह अपने जीवन के 75वें वर्ष में हैं। आर्मी परिवेश में परवरिश पाकर सिविल सर्वेंट के तौर पर करियर की शुरुआत करने वाले डोवाल के इस एक जीवन में अनेक किस्से रोमांचकारी हैं।

अजमेर मिलिट्री स्कूल से शिक्षा पाने वाले डोवाल ने 1967 में आगरा विश्व विद्यालय से अर्थशास्त्र में एमए कर स्नाकोत्तर की उपाधि ली। इसके बाद देश सेवा की इनकी भावना ने इन्हें 1968 में IPS के पद तक पहुँचाया। IPS बनने के बाद उन्होंने केरल कैडर में अपनी पोस्ट संभाली और 1972 में वह इंटेलीजेंस ब्यूरो में आ गए। हमारे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार की सबसे खास बात यह है कि उन्होंने आईपीएस होने के बाद पुलिस वर्दी को सिर्फ़ कुछ सालों तक पहना और उसके बाद नए-नए प्रोजेक्ट के लिए अपना हूलिया बदलते रहे। 

पाकिस्तान में 7 साल तक जासूस बन कर रहने वाला इनका किस्सा सबसे ज्यादा मशहूर है। लेकिन यदि इनकी जीवन यात्रा को देखें तो ये केवल एक उपलब्धि नहीं है जो एक सिविल सर्वेंट को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार तक का सफर तय करवाती है। उनसे जुड़ी तमाम घटनाएँ हैं, जो बताती हैं कि सामान्य व्यक्ति के लिए अजीत डोवाल होना अत्यंत कठिन है। इनके नाम कई सफल ऑपरेशन रहे हैं। जैसे:

1986 में मिजोरम में इन्सर्जेंसी को खत्म करने वालों में डोवाल एक प्रमुख नाम हैं। वहीं पंजाब में भी 80 के दशक में आतंकियों को निष्क्रिय करवाने में डोवाल की भूमिका थी। कहते हैं कि 80 के दशक में जब पंजाब में विद्रोह हुआ और खालिस्तान की माँग उठने लगी, उस समय 1984 के ब्लू स्टॉर ऑपरेशन से आतंकियों का सफाया नहीं हो पाया और 1988 में ऑपरेशन ब्लैक थंडर को अंजाम दिया गया। 

इस पूरे ऑपरेशन में डोवाल ने उस समय रिक्शा वाला बनकर जरूरी भूमिका निभाई थी और जब पकड़े गए थे तो आतंकियों को यह कहकर बच निकले थे कि वो पाकिस्तान के ISI से उन लोगों की मदद करने आए हैं। इस अभियान में डोवाल ने सारी जानकारी ब्लैक कमांडो तक पहुँचाई और उसी के बाद पूरे ऑपरेशन को अंजाम दिया गया। कहते हैं कि जब ब्लैक कमांडो ऑपरेशन के लिए गोल्डन टेंपल में घुसे, तब भी डोवाल वहीं मौजूद थे। इसी तरह उन्होंने पाकिस्तान के इस्लामाबाद में बतौर जासूस भेष बदल कर लंबा समय बिताया था।

साल 1999 में कंधार में आईसी-814 में यात्रियों के अपहरण के मुद्दे पर अजीत डोवाल उन 3 अधिकारियों में से एक थे, जिन्होंने रिहाई के मुद्दे पर देश की ओर से बात की थी। इसके अलावा उनको 1971 से 1999 तक हुए सभी 15 हाईजेकिंग मामलों को संभालने का अनुभव प्राप्त है।

एक दशक तक उन्होंने आईबी के ऑपरेशनों का नेतृत्व किया और मल्टी एजेंसी सेंटर के फाउंडर चेयरमैन भी रहे। 2005 में वह इंटेलीजेंस ब्यूरो से रिटायर हुए और 2009 में विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन के फाउंडिग डायरेक्टर बने।

लंबे समय तक राष्ट्रीय सुरक्षा मामलों में अपना सर्वेश्रेष्ठ प्रदर्शन देकर वह 30 मई 2014 को भारत के पाँचवे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार नियुक्त किए गए। उनके NSA पद संभालते ही भारत में 46 नर्सों की घर वापसी हुई।

फिर डोवाल ने सेना प्रमुख के साथ म्यांमार के बाहर चल रहे आतंकवादियों के खिलाफ अभियान में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और साल 2016 में हुई सर्जिकल स्ट्राइक में भी उनकी भूमिका को अहम माना जाता है।

2018 में उन्हें स्ट्रेटेजिक पॉलिसी ग्रुप का अध्यक्ष नियुक्त किया गया और साल 2019 में जब पाकिस्तान के आतंकियों ने पुलवामा में भारतीय जवानों पर हमला किया तो भारतीय वायुसेना ने बदले में बालाकोट एयर स्ट्राइक को अंजाम दिया। इस कार्रवाई में भी डोवाल का दिमाग था। सबसे हाल की बात करें तो जब दिल्ली दंगों के कारण उत्तर पूर्वी दिल्ली का माहौल बिगड़ा तो डोवाल ने मोर्चा संभाला और आवश्यक कार्रवाई का आदेश दिए।

राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति डोवाल की प्रतिबद्धता अतुलनीय है। जाहिर है किस्से भी इतने ही होंगे। लेकिन वो ये सब कैसे कर पाते हैं, इस पर उन्होंने साल 2019 में डॉ अभय जेरे को दिए साक्षात्कार में बताया था। अपनी व्यक्तिगत निर्णय-प्रक्रिया के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा था कि वे सबसे बुरी स्थिति को सबसे पहले दिमाग में स्पष्ट तौर पर कल्पित करते हैं। उसकी ‘कीमत’ के बारे में सोचते हैं– यहाँ तक कि लोगों की मृत्यु के खतरे को भी कीमत-बनाम-परिणाम के रूप में। फिर वे उस worst-case-scenario के छोटे-छोटे हिस्सों में छोटे-छोटे सुधार करने के तरीके ढूँढ़ते हैं।

इस प्रक्रिया को करते हुए वह worst-case-scenario को उस स्तर पर ले आने की कोशिश करते हैं, जहाँ निर्णय को लेने से होने वाला नुकसान, या उस निर्णय की ‘कीमत’, उससे होने वाले संभावित फायदे से कम हो जाए- यह उस निर्णय पर अमल करने की न्यूनतम शर्त होती है। बाद में वह इसमें और भी सुधार की जहाँ कहीं गुंजाईश हो, उसे करते रहते हैं। उनके अनुसार ‘कठिन निर्णय’ की परिभाषा है – ऐसा निर्णय, जिसके परिणाम एक बड़ी संख्या के लोगों को एक लम्बे समय के लिए प्रभावित करें। ऐसे निर्णयों में वह बताते हैं कि छोटी-सी चूक कई बार इतिहास की पूरी धारा पलट देती है।

वह कहते हैं कि उनके चरित्र, मन और मानसिक स्थिति का निर्माण किसी एक घटना या कारण से नहीं हुआ। दूसरे, इसे चैतन्य रूप से, किसी योजना के तहत नहीं बनाया जा सकता, क्योंकि जिस चीज़ की हम योजना पहले ही बना चुके हैं, उसका हमारे मन पर न्यूनतम प्रभाव होता है। असल में मन का निर्माण और विकास उन चीजों से होता है जो हमारी योजना का हिस्सा नहीं होतीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सोनिया जी रोई या नहीं? आवास में तो मातम पसरा होगा’: बाटला हाउस केस में फैसले के बाद ट्रोल हुए सलमान खुर्शीद

"सोनिया गाँधी, दिग्वियजय सिंह, सलमान खुर्शीद, अरविंद केजरीवाल और अन्य लोगों जिन्होंने बाटला हाउस एनकाउंटर को फेक बताया था, इस फैसले के बाद पुलिसवालों के परिवार व पूरे देश से माफी माँगेंगे।"

मिथुन दा के बाद क्या बीजेपी में शामिल होंगे सौरभ गांगुली? इंटरव्यू में खुद किया बड़ा खुलासा: देखें वीडियो

लंबे वक्त से अटकलें लगाई जा रही हैं कि बंगाल टाइगर के नाम से प्रख्यात क्रिकेटर सौरव गांगुली बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। गांगुली ने जो कहा, उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि दादा का विचार राजनीति में आने का है।

सलमान खुर्शीद ने दिखाई जुनैद की तस्वीर, फूट-फूट कर रोईं सोनिया गाँधी; पालतू मीडिया गिरते-पड़ते पहुँची!

पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद के एक तस्वीर लेकर 10 जनपथ पहुँचने की वजह से सारा बखेड़ा खड़ा हुआ है।

‘भारत की समृद्ध परंपरा के प्रसार में सेक्युलरिज्म सबसे बड़ा खतरा’: CM योगी की बात से लिबरल गिरोह को सूँघा साँप

सीएम ने कहा कि भगवान श्रीराम की परम्परा के माध्यम से भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को वैश्विक मंच पर स्थापित किया जाना चाहिए।

‘बलात्कार पीड़िता से शादी करोगे’: बोले CJI- टिप्पणी की हुई गलत रिपोर्टिंग, महिलाओं का कोर्ट करता है सर्वाधिक सम्मान

बलात्कार पीड़िता से शादी को लेकर आरोपित से पूछे गए सवाल की गलत तरीके से रिपोर्टिंग किए जाने की बात चीफ जस्टिस एसए बोबडे ने कही है।

असमी गमछा, नागा शाल, गोंड पेपर पेंटिंग, खादी: PM मोदी ने विमेंस डे पर महिला निर्मित कई प्रॉडक्ट को किया प्रमोट

"आपने मुझे बहुत बार गमछा डाले हुए देखा है। यह बेहद आरामदायक है। आज, मैंने काकातीपापुंग विकास खंड के विभिन्न स्वयं सहायता समूहों द्वारा बनाया गया एक गमछा खरीदा है।"

प्रचलित ख़बरें

‘हराम की बोटी’ को काट कर फेंक दो, खतने के बाद लड़कियाँ शादी तक पवित्र रहेंगी: FGM का भयावह सच

खतने के जरिए महिलाएँ पवित्र होती हैं। इससे समुदाय में उनका मान बढ़ता है और ज्यादा कामेच्छा नहीं जगती। - यही वो सोच है, जिसके कारण छोटी बच्चियों के जननांगों के साथ इतनी क्रूर प्रक्रिया अपनाई जाती है।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

सलमान खुर्शीद ने दिखाई जुनैद की तस्वीर, फूट-फूट कर रोईं सोनिया गाँधी; पालतू मीडिया गिरते-पड़ते पहुँची!

पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद के एक तस्वीर लेकर 10 जनपथ पहुँचने की वजह से सारा बखेड़ा खड़ा हुआ है।

‘सोनिया जी रोई या नहीं? आवास में तो मातम पसरा होगा’: बाटला हाउस केस में फैसले के बाद ट्रोल हुए सलमान खुर्शीद

"सोनिया गाँधी, दिग्वियजय सिंह, सलमान खुर्शीद, अरविंद केजरीवाल और अन्य लोगों जिन्होंने बाटला हाउस एनकाउंटर को फेक बताया था, इस फैसले के बाद पुलिसवालों के परिवार व पूरे देश से माफी माँगेंगे।"

तेलंगाना के भैंसा में फिर भड़की सांप्रदायिक हिंसा, घर और वाहन फूँके; धारा 144 लागू

तेलंगाना के निर्मल जिले के भैंसा नगर में सांप्रदायिक झड़प के बाद धारा 144 लागू कर दी गई है। अतिरिक्त फोर्स तैनात।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,353FansLike
81,957FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe