Saturday, September 19, 2020
Home विविध विषय अन्य 'ईमानदार मुख्यमंत्री बेटा मेरे जीवन की इकलौती कमाई' - योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद...

‘ईमानदार मुख्यमंत्री बेटा मेरे जीवन की इकलौती कमाई’ – योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट ने तब कही थी यह बात

"अजय हमेशा लोगों की सेवा करना चाहते थे और अब वह ठीक यही कर रहे हैं। उन्होंने जीवन में बहुत कुछ नहीं कमाया है। उन्होंने जो कमाया है, वह एक ईमानदार मुख्यमंत्री बेटा। अजय के माता-पिता के रूप में उनका जीवन धन्य है और आज उन्हें उस भिक्षु पर गर्व है, जो इतने बड़े राज्य का मुख्यमंत्री बन गया है।"

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट ने एम्स में इलाज के दौरान सोमवार (अप्रैल 20, 2020) को 10 बजकर 40 मिनट पर आखिरी साँस ली। सीएम योगी को जब पिता के मौत की सूचना मिली तो वह कोरोना महामारी से निपटने के लिए मीटिंग कर रहे थे। पिता के निधन की सूचना के बाद भी मुख्यमंत्री करीब 45 मिनट तक बैठक करते रहे

आनंद सिंह बिष्ट के निधन के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ के जीवन पर आधारित किताब ‘The Monk Who Became Chief Minister’ लिखने वाले शांतनु गुप्ता ने उनके साथ बिताए गए कुछ खूबसूरत लम्हों को साझा किया है। वो कहते हैं, “जब मैं अप्रैल 2017 में योगी आदित्यनाथ की जीवनी लिखने के लिए रिसर्च कर रहा था, तो इस दौरान मुझे योगी आदित्यनाथ के माता-पिता और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ समय बिताने का सौभाग्य मिला। वे बातचीत इतने सरल, निष्कपट और स्वाभाविक थे कि वो अभी भी मेरे जेहन में ताजा हैं।”

आगे उन्होंने कहा, “अब, जब आनंद जी नहीं रहे, तो मैं उनमें से कुछ वार्तालापों को पाठकों के साथ फिर से जीना और साझा करना चाहता हूँ। यहाँ मैं आनंद जी और उनकी पत्नी सावित्री देवी जी के साथ अपनी बातचीत के कुछ अंश अपनी पुस्तक – ‘The Monk Who Became Chief Minister’ से साझा कर रहा हूँ। इन वार्तालापों के माध्यम से हम आज के योगी के कई लक्षणों और आदतों की झलक देख सकते हैं।”

योगी आदित्यनाथ के बारे में क्या सोचते थे उनके माता-पिता?

शांतनु ने कहा, “मुझसे बात करते हुए आनंद सिंह बिष्ट जी ने बताया कि अजय हमेशा से ही विनम्र और मिलनसार थे। वे काफी कम कम उम्र से ही अखबार पढ़ने के शौकीन थे। बिष्ट जी ने कहा कि यद्यपि वे लगातार पर्यटन पर थे और अक्सर घर से दूर रहते थे, लेकिन उन्होंने अपने बच्चों की पढ़ाई-लिखाई पर काफी दिया। वो अक्सर सरप्राइज विजिट करके बच्चों की पढ़ाई और उनके मेहनत का निरीक्षण करते थे। उन्होंने कहा कि शायद यही वजह है कि आज पंचूर नाम के एक छोटे से गाँव के अजय, उत्तर प्रदेश के 21 वें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बन गए हैं। यहाँ पर ध्यान देना दिलचस्प है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने के बाद, योगी और उनके मंत्रियों ने विभिन्न सरकारी सेवाओं के वितरण की ‘औचक जाँच’ की है।”

- विज्ञापन -

आनंद बिष्ट एक गौरवान्वित पिता थे जिन्होंने महसूस किया कि यूपी जैसे राज्य को चलाना हर किसी के वश की बात नहीं है और केवल योगी ही इसे नियंत्रित कर सकते हैं क्योंकि उनमें बचपन से ही निर्णय लेने की अच्छी क्षमता है। आनंद बिष्ट ने मुझे यह भी बताया कि सांसद के रूप में योगी ने हमेशा लोगों के लिए काम किया था और उनका काम किसी भी प्रकार के भ्रष्टाचार से मुक्त था। इसलिए लोग उनसे प्यार करते हैं। उन्होंने आगे कहा कि यूपी का मुख्यमंत्री बनने के बाद लोगों ने उनके बेटे (योगी आदित्यनाथ) के लिए अपनी सिफारिशें भेजनी शुरू कर दीं। उन्होंने कहा कि वह ऐसे लोगों के साथ विनम्रता से पेश आते हैं और उन्हें चाय पर बुलाते हैं। इसके बाद उन्हें काफी विनम्रता से उन्हें बताते हैं कि उनकी कोई सिफारिश नहीं की जाएगी।

आगे शांतनु ने कहा, “योगी आदित्यनाथ की माँ सावित्री देवी जी ने भी मुझे बताया था कि अजय अच्छे छात्र थे और उन्होंने कभी भी खराब संगति नहीं रखी। उन्होंने कहा कि वह एक साधारण लड़का था। उन्हें कभी इस बात का अहसास नहीं था कि वो इतने बड़े पद पर पहुँच जाएँगे। वो कहती हैं कि उन्हें याद है कि वो उनके कितने करीब थे, क्योंकि उनके पिता की अलग-अलग जगहों पर पोस्टिंग होती रहती थी और वह सख्त भी थे, इसलिए सभी बच्चे उनसे थोड़ा डरते थे।”

अपनी आदतों के बारे में बात करते हुए सावित्री देवी जी ने कहा कि उनके घर में हर कोई हमेशा जल्दी उठता था। यहाँ तक ​​कि लगभग 80 वर्ष (2017 में) की आयु में वह सुबह 4 बजे उठकर घर के सारो कामों को पूरा करती थी और फिर खेतों में जाकर छोटे कृषि फार्मों की देखरेख करती थी। 85 साल (2017 में) की उम्र में अजय के पिता भी हर दिन सुबह 4 बजे उठते थे और पूरे घर और आसपास के परिसर की सफाई करते थे। सावित्री देवी जी ने कहा कि बचपन से ही अजय गायों के शौकीन थे। बिष्ट परिवार के पास घर पर गायें थीं और उन्हें चरने के लिए ले जाना स्कूल के बाद अजय की दिनचर्या का हिस्सा था। पंचूर में उनके घर के आसपास के पेड़ों की ओर इशारा करते हुए, सावित्री देवी जी ने मुझे बताया कि अजय ने इनमें से कई पौधे लगाए थे, जब वह छोटा था।

योगी आदित्यनाथ के पिता से क्यों डरते थे उनके दोस्त

बातचीत के दौरान आनंद बिष्ट ने बताया कि वह एक फॉरेस्ट रेंजर थे और उन्होंने अपने पूरे जीवन में खाकी पोशाक पहनी है। उनकी वर्दी में कंधों पर तीन स्टार थे, जो पुलिस की वर्दी की तरह दिखते थे। और इसके अलावा, उनकी वर्दी में एक UPF (Uttar Pradesh Forest) बैज भी था, जो काफी हद तक UPP (Uttar Pradesh Police) बैज के समान था। और यह कभी-कभी अजय के दोस्तों को डराता था क्योंकि वो गलती से उन्हें पुलिस वाले समझ लेते थे। उन्होंने हँसते हुए कहा कि अब अजय के सीएम बनने के बाद, उनके साथ पूरा समय खाकी पहने बंदूकधारी, असली पुलिसकर्मी, सुरक्षा प्रोटोकॉल के तहत मौजूद रहते हैं।

कोटद्वार में स्नातक करने के बाद अजय ने 1992 में पंडित ललित मोहन शर्मा गवर्नमेंट पीजी कॉलेज, ऋषिकेश से गणित में मास्टर ऑफ साइंस (MSc) में दाखिला लिया। जब वे एमएससी प्रथम वर्ष में थे, तब उन्होंने गोरखपुर जाकर महंत अवैद्यनाथ से मिलना शुरू किया। एक दो बार मिलने के बाद अजय ने गोरखनाथ मठ में महंत अवैद्यनाथ के पूर्णकालिक शिष्य बनने का फैसला किया। नवंबर 1993 में, अजय ने अपने गाँव, अपने माता-पिता, अपने दोस्तों और अपनी पढ़ाई को छोड़ दिया और परिवार में किसी को भी बताए बिना वह गोरखपुर चले गए। 15 फरवरी, 1994 को अजय का उनके गुरु महंत अवैद्यनाथ द्वारा नाथ पंथ योगी के रूप में अभिषेक किया गया था।

जब योगी आदित्यनाथ के माता-पिता को उनके संन्यास के बारे में पता चला

कुछ महीने बाद ही अजय के माता-पिता को उनके संन्यास के बारे में अखबार से पता चला। तब तक उनके माता-पिता को लग रहा था कि वह नौकरी की तलाश में गोरखपुर गए हैं। अजय के महंत बनने की बात पता चलने के बाद अजय के माता-पिता अगली ट्रेन से गोरखपुर पहुँचे और मठ में आनंद सिंह बिष्ट, अजय को संन्यासी की पोशाक में देखकर चौंक गए। महंत अवैद्यनाथ उस समय शहर से बाहर थे। अजय ने अपने माता-पिता को शांत कराया और फिर उन्हें अपने गुरु से फोन पर बात करवाई। महंत अवैद्यनाथ ने अजय के पिता से कहा कि उनके बेटे अजय अब योगी आदित्यनाथ हैं।

महंत अवैद्यनाथ ने आनंद सिंह बिष्ट से अनुरोध किया कि उनके चार बेटों में से एक ने उनके साथ राष्ट्र निर्माण और मजबूत राष्ट्रवाद के लिए आने का फैसला किया है। उन्होंने अजय के पिता से उन्हें देश की सेवा करने की अनुमति देने के लिए आग्रह किया। कुछ समय तक विरोध करने के बाद उनके माता-पिता ने इसकी अनुमति दे दी। 

कुछ महीनों के बाद योगी आदित्यनाथ संन्यासी परंपरा के तहत अपनी माँ से भिक्षा लेने के लिए उत्तराखंड के पंचूर गाँव में वापस आए। उसके बाद से अजय के माता-पिता गोरखनाथ मठ के योगी आदित्यनाथ से दो-दो बार मुलाकात कर चुके हैं। अब वे उन्हें अन्य लोगों की तरह ‘महाराज जी’ कहकर बुलाते हैं। उनके प्रोटोकॉल और उनकी भूमिका की गरिमा का सम्मान करते हैं। योगी आदित्यनाथ अपने गृहनगर उत्तराखंड में केवल परिवार के कुछ महत्वपूर्ण फंक्शन के लिए ही गए हैं। योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर मठ के प्रशासन के तहत, उत्तराखंड में अपने गाँव के पास, महायोगी गुरु गोरखनाथ महाविद्यालय की स्थापना की है।

ईमानदार मुख्यमंत्री बेटा मेरे जीवन की इकलौती कमाई

शांतनु कहते हैं, “अजय के माता-पिता के साथ चर्चा के दौरान मैंने उल्लेख किया कि उत्तराखंड की पहाड़ियों ने गोविंद बल्लभ पंत, हेमवती नंदन बहुगुणा और नारायण दत्त तिवारी को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त किया है और अब इस घर ने उत्तर प्रदेश के लिए चौथे मुख्यमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ को मौका दिया है। इस पर सावित्री सविता देवी ने गर्व से पुरानी बातें याद करती हुई कहती हैं कि अजय हमेशा लोगों की सेवा करना चाहते थे और अब वह ठीक यही कर रहे हैं। गीली लेकिन दृढ़ आँखों के साथ, आनंद जी ने कहा कि उन्होंने जीवन में बहुत कुछ नहीं कमाया है। उन्होंने जो कमाया है वह एक ईमानदार मुख्यमंत्री बेटा। उन्होंने कहा कि अजय के माता-पिता के रूप में उनका जीवन धन्य है और आज उन्हें उस भिक्षु पर गर्व है जो इतने बड़े राज्य का मुख्यमंत्री बन गया है। आनंद सिंह बिष्ट जी को मेरा अभिवादन!”

बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ अंतिम बार अपने पिता के दर्शन भी नहीं कर सके। अपने व्यक्तिगत जीवन के ऊपर अपने कर्तव्य को रखते हुए योगी आदित्यनाथ ने फैसला किया है कि वह लॉकडाउन के नियमों का पालन करेंगे और अपने पिता के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होंगे। उन्होंने अपने पिता के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा, “पूज्य पिताजी के कैलाशवासी होने पर मुझे भारी दुःख एवं शोक है। वह मेरे पूर्वाश्रम के जन्मदाता हैं। जीवन में ईमानदारी, कठोर परिश्रम एवं नि:स्वार्थ भाव से लोक मंगल के लिए समर्पित भाव के साथ कार्य करने का संस्कार बचपन में उन्होंने मुझे दिया।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Shantanu Guptahttp://www.shantanugupta.in/
Activist. Author. Biographer of Uttar Pradesh CM Yogi Adityanath, titled The Monk Who Became Chief Minister. Founder of youth based organization Yuva Foundation.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपसे उम्मीद की जाती है कि निष्पक्ष रहो’: NDTV पत्रकार श्रीनिवासन को व्यवसायी राकेश झुनझुनवाला ने सिखाया नैतिकता का पाठ

साक्षात्कार के दौरान झुनझुनवाला ने एनडीटीवी पत्रकार और उनके मीडिया हाउस को मोदी से घृणा करने वाला बताया। उन्होंने पत्रकार से कहा, "आप सिर्फ़ सरकार की आलोचना करते हो।"

शाहीन बाग में जिस तिरंगे की खाई कसमें, उसी का इस्तेमाल पेट्रोल बम बनाने में किया: दिल्ली दंगों पर किताब में खुलासा

"वह प्रदर्शन जो महात्मा गाँधी, डॉ बीआर अम्बेडकर की तस्वीरों और तिरंगा फहराने से शुरू हुआ था उसका अंत तिरंगे से पेट्रोल बम बनाने में, दुकानों को, घरों को जलाने में हुआ।"

किसानों का विकास, बाजार का विस्तार, बेहतर विकल्प: मोदी सरकार के तीन विधेयकों की क्या होंगी खासियतें

मोदी सरकार ने तीन नए विधेयक पेश किए हैं ताकि कृषि उत्पादन के लिए सरल व्यापार को बढ़ावा मिले और मौजूदा एपीएमसी सिस्टम से वह आजाद हों, जिससे उन्हें अपनी उपज बेचने के और ज्यादा विकल्प व अवसर मिलें।

व्यंग्य: आँखों पर लटके फासीवाद के दो अखरोट जो बॉलीवुड कभी टटोल लेता है, कभी देख तक नहीं पाता

कालांतर में पता चला कि प्रागैतिहासिक बार्टर सिस्टम के साथ-साथ 'पार्टनर स्वापिंग' जैसे अत्याधुनिक तकनीक वाले सखा-सहेलियों के भी बार्टर सिस्टम भी इन पार्टियों में हुआ करते थे।

रेपिस्ट अब्दुल या असलम को तांत्रिक या बाबा बताने वाले मीडिया गिरोहों के लिए जस्टिस चंद्रचूड़ का जरूरी सन्देश

सुदर्शन न्यूज़ के कार्यक्रम पर जस्टिस चंद्रचूड़ मीडिया को सख्त संदेश दिया है कि किसी एक समुदाय को निशाना नहीं बनाया जा सकता है। लेकिन समुदाय का नाम नहीं लिया गया।

NCB ने करण जौहर द्वारा होस्ट की गई पार्टी की शुरू की जाँच- दीपिका, मलाइका, वरुण समेत कई बड़े चेहरे शक के घेरे में:...

ब्यूरो द्वारा इस बात की जाँच की जाएगी कि वीडियो असली है या फिर इसे डॉक्टरेड किया गया है। यदि वीडियो वास्तविक पाया जाता है, तो जाँच आगे बढ़ने की संभावना है।

प्रचलित ख़बरें

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA बदरुद्दीन के बेटे का लव जिहाद: 10वीं की हिंदू लड़की से रेप, फँसा कर निकाह, गर्भपात… फिर छोड़ दिया

अजीजुद्दीन छत्तीसगढ़ के दुर्ग से कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA बदरुद्दीन कुरैशी का बेटा है। लव जिहाद की इस घटना के मामले में मीडिया के सवालों से...

जया बच्चन का कुत्ता टॉमी, देश के आम लोगों का कुत्ता कुत्ता: बॉलीवुड सितारों की कहानी

जया बच्चन जी के घर में आइना भी होगा। कभी सजते-संवरते उसमें अपनी आँखों से आँखे मिला कर देखिएगा। हो सकता है कुछ शर्म बाकी हो तो वो आँखों में...

3 नाबालिग सगी बेटियों में से 1 का 5 साल से रेप, 2 का यौन शोषण कर रहा था मोहम्मद मोफिज

मोफिज ने बीवी को स्टेशन पर ढकेल दिया, क्योंकि उसने बेटी से रेप का विरोध किया। तीनों बेटियाँ नाबालिग हैं, हमारे पास वीडियो कॉल्स और सारे साक्ष्य हैं। बेगूसराय पुलिस इस पर कार्रवाई कर रही है।

थालियाँ सजाते हैं यह अपने बच्चों के लिए, हम जैसों को फेंके जाते हैं सिर्फ़ टुकड़े: रणवीर शौरी का जया को जवाब और कंगना...

रणवीर शौरी ने भी इस मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कंगना को समर्थन देते हुए कहा है कि उनके जैसे कलाकार अपना टिफिन खुद पैक करके काम पर जाते हैं।

‘ब्यूरोक्रेसी पर कब्जा करो… अपने नस्लों के फायदे के लिए पावर हाथ में लो’ – इमरान प्रतापगढ़ी का वीडियो वायरल

इमरान प्रतापगढ़ी का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें इमरान प्रतापगढ़ी मुस्लिमों से ब्यूरोक्रेसी पर ‘कब्जा’ करने के लिए कहते हैं।

‘हीरो के साथ सोकर मिलते हैं फिल्मों में 2 मिनट के रोल’: कंगना ने जया बच्चन को जवाब देते हुए किया नया खुलासा

कंगना रनौत ने इससे पहले जया बच्चन से पूछा था कि जैसा उनके और सुशांत के साथ हुआ अगर वही श्वेता और अभिषेक के साथ होता, तो भी वो यही कहती?

नेहरू-गाँधी परिवार पर उठाया था सवाल: सदन में विपक्ष के हो-हल्ले के बाद अनुराग ठाकुर ने माँगी माफी, जाने क्या है मामला

"PM Cares एक पंजीकृत चैरिटेबल ट्रस्ट है। मैं साबित करने के लिए विपक्ष को चुनौती देना चाहता हूँ। यह ट्रस्ट इस देश के 138 करोड़ लोगों के लिए है।"

अलीगढ़ में दिन दहाड़े बंदूक की नोक पर 35 लाख के जेवर लूटने वाले तीनों आरोपितों को यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार

कुछ दिन पहले इंटरनेट पर चोरी का वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें ये तीन लुटेरे बंदूक की नोक पर अलीगढ़ में एक आभूषण की दुकान को लूट रहे थे।

‘आपसे उम्मीद की जाती है कि निष्पक्ष रहो’: NDTV पत्रकार श्रीनिवासन को व्यवसायी राकेश झुनझुनवाला ने सिखाया नैतिकता का पाठ

साक्षात्कार के दौरान झुनझुनवाला ने एनडीटीवी पत्रकार और उनके मीडिया हाउस को मोदी से घृणा करने वाला बताया। उन्होंने पत्रकार से कहा, "आप सिर्फ़ सरकार की आलोचना करते हो।"

MP: कॉन्ग्रेस ने गाय को किया चुनाव के लिए इस्तेमाल, शरीर पर पंजे के निशान के साथ लिखा उम्मीदवार का नाम

इंदौर की सांवेर विधानसभा सीट पर उपचुनाव है। उसी चुनाव में लोगों को उम्मीदवार की ओर आकर्षित करने के लिए यह वाहियात कार्य किया गया है।

महाराष्ट्र सरकार के पास कर्मचारियों को सैलरी देने के पैसे नहीं, लेकिन पीआर के लिए खर्च कर रही ₹5.5 करोड़

शिवसेना की अगुवाई वाली महाविकास आघाड़ी समिति के प्रशासन विभाग ने मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र सरकार के पीआर के प्रबंधन के आवेदन करने के लिए निजी विज्ञापन एजेंसियों को आमंत्रित करते हुए एक ई-टेंडर जारी किया है।

‘एक बार दिखा दे बस’: वीडियो कॉल पर अपनी बेटियों से प्राइवेट पार्ट दिखाने को बोलता था मोहम्मद मोहफिज, आज भेजा गया जेल

आरोपित की बेटी का कहना है कि उनका घर में सोना भी दूभर हो गया था। उनका पिता कभी भी उनके कपड़ों में हाथ डाल देता था और शारीरिक संबंध स्थापित करने की कोशिश करता था।

अमेरिका में भी चीनी ऐप्स TikTok और वीचैट पर रविवार से बैन: राष्ट्रीय सुरक्षा में सेंधमारी बताई गई वजह

अमेरिकी सरकार ने भी इन एप्स को बैन करने के पीछे राष्ट्रीय सुरक्षा में सेंधमारी को कारण बताया है। कोरोना वायरस, चीन की चालबाजी, टैक्नोलॉजी पर बढ़ते तनाव और अमेरिकी निवेशकों के लिए वीडियो ऐप TikTok की बिक्री के बीच यह फैसला सामने आया है।

1995 के अमूल विज्ञापन पर चित्रित उर्मिला पर बौखलाए लिबरल्स: रंगीला के प्रमोशन को जोड़ा कंगना की टिप्पणी से

25 साल पहले बनाया गया यह विज्ञापन अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर की फिल्म 'रंगीला' में उनके प्रदर्शन को देखते हुए बनाया गया था।

शाहीन बाग में जिस तिरंगे की खाई कसमें, उसी का इस्तेमाल पेट्रोल बम बनाने में किया: दिल्ली दंगों पर किताब में खुलासा

"वह प्रदर्शन जो महात्मा गाँधी, डॉ बीआर अम्बेडकर की तस्वीरों और तिरंगा फहराने से शुरू हुआ था उसका अंत तिरंगे से पेट्रोल बम बनाने में, दुकानों को, घरों को जलाने में हुआ।"

ड्रग्स के खिलाफ NCB का ताबड़तोड़ एक्शन: 4 ड्रग पेडलर गिरफ्तार, ₹4 करोड़ की ड्रग्स सीज, मिला बॉलीवुड लिंक

इसी के तहत कार्रवाई करते हुए एनसीबी ने मुंबई से चार और ड्रग पैडलर्स को भी हिरासत में लिया है। ड्रग्स पेडलर्स के पास से एनसीबी ने लाखों रुपए की ड्रग्स भी बरामद की है।

हमसे जुड़ें

260,559FansLike
77,910FollowersFollow
322,000SubscribersSubscribe
Advertisements