Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयअन्यएशियन गेम्स में 41 साल बाद भारत को घुड़सवारी में गोल्ड मेडल: इस चौकड़ी...

एशियन गेम्स में 41 साल बाद भारत को घुड़सवारी में गोल्ड मेडल: इस चौकड़ी ने कर दिया कमाल: चीन को पछाड़ा

भारतीय घुड़सवारी टीम 209.205 अंकों के साथ टॉप पर रही। वहीं 204.882 अंकों के साथ चीन दूसरे और 204.852 अंकों के साथ हॉन्गकॉन्ग तीसरे स्थान पर रहा।

एशियन गेम्स 2023 (Asian Games) में भारत की घुड़सवारी टीम ने गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है। भारत को घुड़सवारी में 41 साल बाद गोल्ड मेडल मिला है। इस तरह से अब 3 गोल्ड, 4 सिल्वर और 6 ब्रॉन्ज मेडल के साथ भारत के खाते में कुल 13 मेडल आ चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस जीत के लिए बधाई दी है।

चीन के हांगझोउ में चल रहे 19वें एशियन गेम्स के तीसरे दिन यानी 26 सितंबर को भी भारतीय खिलाड़ियों का बेहतरीन प्रदर्शन जारी है। अब, भारतीय घुड़सवार सुदीप्ति हजेला, दिव्यकीर्ति सिंह, अनुश अग्रवाल और हृदय छेड़ा की चौकड़ी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए घुड़सवारी की टीम इवेंट में मेडल अपने नाम किया है। इससे पहले भारत ने आखिरी बार साल 1982 में घुड़सवारी में गोल्ड मेडल जीता था।

भारतीय घुड़सवारी टीम 209.205 अंकों के साथ टॉप पर रही। वहीं 204.882 अंकों के साथ चीन दूसरे और 204.852 अंकों के साथ हॉन्गकॉन्ग तीसरे स्थान पर रहा। इस तरह से भारत को गोल्ड, चीन को सिल्वर और हॉन्गकॉन्ग को ब्रॉन्ज मेडल मिला। इससे पहले सैलिंग (नौकायन) में नेहा ठाकुर ने सिल्वर और मेंस सैलिंग में इबाद अली ने ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया था।

इसके अलावा मेंस स्विमिंग (तैराकी) की 4 गुणा 100 मीटर मेडले रिले टीम नेशनल रिकॉर्ड के साथ फाइनल में पहुँच गई है। इससे भारत के लिए एक और पदक की उम्मीद है। यहाँ से फाइनल जीतने पर भारत को एक और गोल्ड मेडल मिलेगा। वहीं यदि भारतीय टीम दूसरे या तीसरे स्थान पर रहती है तो क्रमशः सिल्वर या ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ेगा।

एशियन गेम्स में भारत ने जीते 13 मेडल

एशियन गेम्स में भारत ने 3 गोल्ड, 4 सिल्वर और 6 ब्रॉन्ज के साथ अब तक 13 मेडल अपने नाम किए हैं। भारत को पहला गोल्ड मेडल 10 मीटर एयर राइफल में मिला था। वहीं दूसरा महिला क्रिकेट में और अब तीसरा घुड़सवारी में मिला है। गेम्स के पहले दिन यानी 24 सितंबर को भारत ने 5 मेडल जीते थे। वहीं दूसरे दिन यानी 25 सितंबर को भी 5 और अब 26 सितंबर को 3 मेडल भारत की झोली में गए हैं। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -