Monday, June 17, 2024
Homeविविध विषयअन्यक्रिप्टोकरेंसी के बाजार में मचा हाहाकार, डूब गई ₹74 लाख करोड़ की बड़ी रकम:...

क्रिप्टोकरेंसी के बाजार में मचा हाहाकार, डूब गई ₹74 लाख करोड़ की बड़ी रकम: Bitcoin अपने पीक से 50% नीचे गिरा

बिटकॉइन नवंबर 2021 में अपने पीक पर था, तब से अब तक इसमें लगभग 50% की गिरावट आ चुकी है।

क्रिप्टोकरेंसी बाजार (Cryptocurrency Market) में गिरावट का दौर जारी है। सबसे बड़ी डिजिटल क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन (Bitcoin) की कीमत शुक्रवार (21 जनवरी 2022) को 12% से अधिक घट गई और 36,000 डॉलर से भी नीचे गिरकर जुलाई के बाद सबसे निम्नतम स्तर पर आ गई। बिटकॉइन नवंबर 2021 में अपने पीक पर था, तब से अब तक इसमें लगभग 50% की गिरावट आ चुकी है।

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, बिटकॉइन के अलावा अन्य क्रिप्टोकरेंसी की कीमत में भी गिरावट दर्ज की गई है। जैसे डिजिटल करेंसी Ether और मीम कॉइन में भी बड़ी गिरावट आने से क्रिप्टोकरेंसी बाजार प्रभावित हुआ है। Ethereum 12.1% गिरकर 2,593.50 डॉलर पर बंद हुआ। रिपोर्ट में कहा गया है कि बाजार से प्रोत्साहन वापस लेने के फेडरल रिजर्व के फैसले से, दुनिया भर में क्रिप्टोकरेंसी को भारी नुकसान पहुँचा है।

एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक, शनिवार (22 जनवरी 2022) को बिटकॉइन की कीमत लगभग 10% की गिरावट के साथ 35,450 डॉलर पर कारोबार कर रही है। इस साल की शुरुआत से ही इसमें 14 फीसदी की गिरावट आ चुकी है। नवंबर 2021 के बाद से बिटकॉइन में लगातार गिरावट के ट्रेंड ने बाजार मूल्य में 600 बिलियन डॉलर से अधिक का सफाया कर दिया है और कुल क्रिप्टो बाजार से 1 ट्रिलियन डॉलर (74 लाख करोड़ रुपए) से अधिक का नुकसान हुआ है। बेस्पोक इन्वेस्टमेंट ग्रुप के अनुसार, बिटकॉइन और क्रिप्टो बाजार में यह दूसरी सबसे बड़ी गिरावट है।

बताया जा रहा है कि क्रिप्टो-केंद्रित स्टॉक (Crypto Centric Stock) में भी शुक्रवार को बड़ी गिरावट आई। इस दौरान एक पल ऐसा भी आया, जब कॉइनबेस ग्लोबल इंक (Coinbase Global Inc) में लगभग 16% की गिरावट दर्ज की गई और 2021 में पब्लिक डेब्यू करने के बाद से यह अपने निम्नतम स्तर पर आ गया। इसी तरह MicroStrategy Inc. ने 18% की गिरावट दर्ज की।

क्या है क्रिप्टोकरेंसी


बता दें कि क्रिप्टोकरेंसी एक प्रकार की डिजिटल कैश प्रणाली है। यह एक निजी कंप्यूटर चेन से जुड़ी हुई होती है और कंप्यूटर एल्गोरिदम पर बनी है। क्रिप्टोकरेंसी पर किसी भी देश या सरकार का कोई नियंत्रण नहीं होता है। कई देश इसे लीगल कर चुके हैं। क्रिप्टोकरेंसी को आज सबसे आसान और लोकप्रिय तरीका क्रिप्टो एक्सचेंज कहते हैं, इसके जरिए इसे खरीदना आसान हो गया है। दुनिया भर में सैकड़ों क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज काम कर रहे हैं। भारत में काम कर रहे वजीरएक्स, जेबपे, क्वाइनस्विच कुबेर, क्वाइन डीसीएक्स गो समेत कई एक्सचेंज संचालित है, जहाँ से बिटक्वाइन, इथेरियम, टेथर और डॉजक्वाइन समेत दुनिया भर की डिजिटल मुद्राएँ खरीदी जा सकती हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -