Monday, July 26, 2021
Homeविविध विषयअन्यकेजरीवाल के मंत्री कैलाश गहलोत के भाई पर चला ED का डंडा, ₹1.46 करोड़...

केजरीवाल के मंत्री कैलाश गहलोत के भाई पर चला ED का डंडा, ₹1.46 करोड़ की संपत्ति हुई जब्त

आप विधायक एवं दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत के परिवार और सहयोगियों के यहाँ आयकर विभाग ने पिछले साल अक्टूबर में छापे मारे थे। उनके भाई हरीश गहलोत की संपत्तियों की भी जाँच की गई थी। इस दौरान ₹120 करोड़ की टैक्स चोरी और शैल कंपनी का खुलासा हुआ।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने विदेशों में संपत्ति रखने को लेकर दिल्ली सरकार में मंत्री कैलाश गहलोत के भाई हरीश गहलोत पर बड़ी कार्रवाई की है। ईडी ने यूएई में विदेशी संपत्ति रखने के लिए विदेशी विनिमय प्रबंधन अधिनियम (फेमा) की धारा 37ए के तहत गहलोत की ₹1.46 करोड़ की संपत्ति जब्त की है। ईडी ने हरीश गहलोत के दिल्ली में वसंत कुंज स्थित एक फ्लैट और हरियाणा स्थित लगभग ₹1.46 करोड़ की कीमत वाली एक जमीन को जब्त कर लिया है।

हरीश गहलोत पर आरोप है कि उन्होंने दुबई में पढ़ाई कर रहे अपने बेटे नितेश गहलोत को हवाला के माध्यम से ₹1 करोड़ भेजे। हवाला कारोबारी इंदरपाल वाधवन ने ₹4 लाख अपने पास रखकर ₹96 लाख नितेश को दिए। इसके बाद हरीश ने 26 सिंतबर 2018 को नितेश को लिए ₹50 लाख और भेजे।

हरीश गहलोत ने इन पैसों को भेजने के पीछे बेटे की पढ़ाई का तर्क दिया था, लेकिन ईडी ने अपने जाँच में पाया कि इन पैसों से दुबई में दो फ्लैट बुक करवाए गए। ईडी ने इन्हीं अनियमितताओं के लिए दिल्ली और हरियाणा में मौजूद हरीश गहलोत की संपत्ति जब्त की है।

गौरतलब है कि, आप विधायक एवं दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत के परिवार और सहयोगियों के यहाँ आयकर विभाग ने पिछले साल अक्टूबर में छापे मारे थे। उनके भाई हरीश गहलोत की संपत्तियों की भी जाँच की गई थी। इस दौरान ₹120 करोड़ की टैक्स चोरी और शैल कंपनी का खुलासा हुआ।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिल्पकार के नाम से प्रसिद्ध दुनिया का ‘इकलौता’ मंदिर, पानी में तैरने वाले पत्थरों से निर्माण: तेलंगाना का रामप्पा मंदिर

UNESCO के विरासत स्थलों में शामिल है तेलंगाना के वारंगल स्थित काकतीय रुद्रेश्वर या रामप्पा मंदिर। 12वीं शताब्दी में निर्मित मंदिर कुछ विशेष कारणों से है अद्वितीय।

कारगिल के 22 साल: ‘फर्ज पूरा होने से पहले मौत आई तो प्रण लेता हूँ मैं मौत को मार डालूँगा’

भारतीय सैनिकों के ऊपर 60-70 मशीनगन लगातार फायरिंग कर रही थी। गोले बरस रहे थे। फिर भी कैप्टन मनोज पांडे टुकड़ी के साथ आगे बढ़ रहे थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe