Sunday, August 1, 2021
Homeविविध विषयअन्यअरुण जेटली की हालत गंभीर, फिलहाल वेंटिलेटर पर AIIMS में: मिलने पहुँचे राष्ट्रपति कोविंद

अरुण जेटली की हालत गंभीर, फिलहाल वेंटिलेटर पर AIIMS में: मिलने पहुँचे राष्ट्रपति कोविंद

9 अगस्त को साँस की शिकायत होने कारण उन्हें रात में एम्स में भर्ती कराया गया था और तभी अस्पताल ने उनकी मेडिकल रिपोर्ट भी जारी की थी। हालाँकि, उसके बाद...

लंबे समय से बीमार चल रहे पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली से मिलने आज देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद एम्स गए। खबरों की मानें तो अरुण जेटली की तबीयत इस समय गंभीर है। वह एंडोक्रिनोलॉजिस्ट्स, कार्डियोलॉजिस्ट्स और नेफ्रोलॉजिस्ट्स की देखरेख में पिछले एक हफ्ते से एम्स के आईसीयू में हैं। फिलहाल उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है।

9 अगस्त को साँस की शिकायत होने कारण उन्हें रात में एम्स में भर्ती कराया गया था और तभी अस्पताल ने उनकी मेडिकल रिपोर्ट भी जारी की थी। हालाँकि, उसके बाद से अब तक आधिकारिक तौर पर अस्पताल की ओर से कुछ भी नहीं बताया गया है।

पूर्व वित्त मंत्री की जाँच के बाद अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टरों ने उस दौरान बताया था कि उनकी जाँच चल रही है और उनकी हालत स्थिर है। AIIMS में भर्ती होने के तुरंत बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने अस्पताल जाकर जेटली का हाल-चाल लिया था। अब उनके स्वास्थ्य की नाजुक स्थिति का पता चलने पर आज 16 अगस्त को राष्ट्रपति कोविंद भी उनका हाल जानने AIIMS पहुँचे।

बता दें कि पेशे से वकील रहे अरुण जेटली मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में उनकी कैबिनेट के सबसे महत्तवपूर्ण नेता रहे। गत वर्ष 14 मई को जेटली का किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था। जिसके बाद अप्रैल 2018 से उन्होंने कार्यकाल आना बंद कर दिया था, लेकिन 23 अगस्त 2018 को वह अपने मंत्रालय लौटे। बाद में अपने बिगड़ते स्वास्थ्य को देखते हुए उन्होंने खुद को लोकसभा चुनाव से दूर रखा था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ममता बनर्जी महान महिला’ – CPI(M) के दिवंगत नेता की बेटी ने लिखा लेख, ‘शर्मिंदा’ पार्टी करेगी कार्रवाई

माकपा नेताओं ने कहा ​कि ममता बनर्जी पर अजंता बिस्वास का लेख छपने के बाद से वे लोग बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहे हैं।

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe