Wednesday, June 26, 2024
Homeविविध विषयअन्यअब Google भारत में बनाएगा फोन, विदेश में करेगा निर्यात: एप्पल-सैमसंग के बाद 'मेक...

अब Google भारत में बनाएगा फोन, विदेश में करेगा निर्यात: एप्पल-सैमसंग के बाद ‘मेक इन इंडिया’ का हिस्सा बनी एक और दिग्गज कंपनी

"नौ साल पहले देश में मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग वास्तव में व्यावहारिक तौर बहुत कम थी, लेकिन आज भारत में इसकी करीब 44 अरब डॉलर की मैन्युफैक्चरिंग है और करीब 11 अरब डॉलर का निर्यात है।''

गूगल ने भी एप्पल (Apple) और सैमसंग (Samsung) की राह पर चलते हुए अपने लेटेस्ट स्मार्ट फोन बनाने के लिए भारत को चुना है। गूगल (Google) के डिवाइसेज और सर्विस के सीनियर वाइस प्रेजिडेंट रिक ओस्टरलोह ने एक अहम ऐलान किया है वो कंपनी का Pixel 8 स्मार्टफोन भारत में बनाएँगे।

ये ऐलान उन्होंने गूगल फॉर इंडिया इवेंट के 9वें एडिशन में गुरुवार (19 अक्टूबर,2023) को भारत के इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव की मौजूदगी में किया। दरअसल, भारत की मेक-इन-इंडिया पहल को बढ़ावा देते गूगल ने अहम फैसला लिया है।

बता दें कि बीते कुछ साल में, भारत स्मार्ट फोन मैन्युफैक्चरिंग में न केवल स्थानीय इस्तेमाल के लिए बल्कि निर्यात के लिए भी एक आकर्षक मंजिल के तौर पर उभरा है।

इस मौके पर मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा, “नौ साल पहले देश में मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग वास्तव में व्यावहारिक तौर बहुत कम थी, लेकिन आज भारत में इसकी करीब 44 अरब डॉलर की मैन्युफैक्चरिंग है और करीब 11 अरब डॉलर का निर्यात है।”

वहीं इस दौरान रिक ओस्टरलोह ने कहा, “भारत में बना पहला पिक्सेल 8 फोन 2024 में बाजार में आएगा।” उन्होंने कहा कि इसके लिए गूगल भारत में उसका हार्डवेयर बनाने के लिए घरेलू और अंतरराष्ट्रीय भागीदारों के साथ साझेदारी कर रहा है। हालाँकि, उन्होंने गूगल के उन साझेदारों के नाम साझा करने से परहेज किया जिनके साथ उनकी कंपनी इस काम के लिए बातचीत कर रही है।

पहले रिपोर्ट थी कि कंपनी लावा इंटरनेशनल लिमिटेड, डिक्सन टेक्नोलॉजीज इंडिया और फॉक्सकॉन की भारतीय यूनिट भारत FIH जैसे अहम भारतीय आपूर्तिकर्ताओं प्रौद्योगिकी समूह के साथ बातचीत कर रही है।

दरअसल, गूगल पिक्सल 8 कंपनी का लेटेस्ट हार्डवेयर है। इस महीने की शुरुआत में ही ये भारत और दुनिया के बाजारों में लॉन्च किया गया था। गूगल पिक्सल 8 की कीमत 75,999 रुपए और Pixel 8 Pro की कीमत 1,06,999 रुपए है। गूगल के ये स्मार्ट फोन 12 अक्टूबर, 2023 से बाजार में बिक्री के लिए हैं।

गूगल पिक्सल 8 वायरलेस चार्जिंग, और प्रॉपराइट्री फास्ट चार्जिंग सपोर्ट के साथ है। ये फोन एंड्रॉ़यड पर ऑपरेट होता है और इसमें 128 जीबी इनबिल्ट स्टोरेज है। इसका वजन 187.00 ग्राम है। इसमें डस्ट और वाटर प्रोटेक्शन के लिए आईपी68 रेटिंग है। इसके अलावा कई और शानदार फीचर्स के साथ इसमें फेस अनलॉक भी है।

गौरतलब है कि दिग्गज टेक कंपनी एप्पल के बाद गूगल दूसरी कंपनी है जो भारत में गूगल पिक्सल 8 सीरीज का निर्माण करने जा रही है। एप्पल का लेटेस्ट स्मार्टफोन आईफोन 13 (iPhone 13) भी भारत में बन रहा है। ये मौजूदा वक्त में फॉक्सकॉन (Foxconn) के चेन्नई प्लांट में बन रहा है। इस वक्त एप्पल के लगभग सभी स्मार्टफोन भारत में बनाए जा रहे हैं।

यही नहीं सैमसंग इंडिया ने अपने मेक फॉर द वर्ल्‍ड’ इनीशियेटिव के तहत भारत में बनाए गए मोबाइल हैंडसेट को विदेशी बाज़ारों में निर्यात किया। सैमसंग ने नोएडा की नई फैक्टरी में अपनी मोबाइल फोन निर्माण की मौजूदा क्षमता को सालाना 6.8 करोड़ फोन यूनिट से 12 करोड़ यूनिट दोगुना करने का लक्ष्य भी रखा था। इसे चरणबद्ध तरीके से 2020 तक पूरा किया जाना था। हालाँकि, कोराना महामारी की वजह से इसमें देरी हुई।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -