Wednesday, August 4, 2021
Homeविविध विषयअन्यनहीं महसूस किया कोई भेदभाव, मिले बराबर अवसर: IAF की आपत्ति के बाद गुंजन...

नहीं महसूस किया कोई भेदभाव, मिले बराबर अवसर: IAF की आपत्ति के बाद गुंजन सक्सेना ने भी बयाँ किया अनुभव

"हाँ, कमर्शियल फिल्म के रूप में या फिक्शन के रूप में, फिल्म ने मेरी कहानी को दिखाने की कोशिश की है। लेकिन जो बात किसी भी संदेह से परे है वो ये कि मेरे लिए दरवाजों खोले गए और कई अवसर दिए गए। और ये चीज फिल्म में भी दिखाई गई है।"

नेटफ्लिक्स (Netflix) की फिल्म ‘गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल’ में अनुचित नकारात्मक चित्रण पर IAF की आपत्ति के बाद गुंजन सक्सेना ने अपने वास्तविक अनुभवों पर बयान जारी किया है। 

उन्होंने अपनी बात रखते हुए यह स्पष्ट किया कि उनके साथ उनके वरिष्ठों ने, साथियों ने और कमांडिंग ऑफिसर्स ने किसी प्रकार का भेदभाव नहीं किया। उन लोगों ने तो हर प्रकार से उनका सहयोग किया

IANS से बात करते हुए सक्सेना ने भारतीय वायु सेना की संस्कृति के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि IAF के प्रशिक्षण और मजबूत नीतियों ने ही उन्हें असाधारण रूप से साहसी उपलब्धियाँ हासिल करने के लिए साहस प्रदान किया।

उन्होंने बताया कि भारतीय सशस्त्र बल की सभी शाखाओं की सभी महिला अधिकारी जिन्होंने संगठन में रहकर देश की सेवा की है या कर रही हैं, वह सभी वायुसेना के मजबूत मूल्यों और समृद्ध सांस्कृतिक लोकाचार से प्रेरित हैं।

साल1994 में प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करके IAF से जुड़ने वाली सक्सेना बताती हैं, “हाँ, कमर्शियल फिल्म के रूप में या फिक्शन के रूप में, फिल्म ने मेरी कहानी को दिखाने की कोशिश की है। लेकिन जो बात किसी भी संदेह से परे है वो ये कि मेरे लिए दरवाजों खोले गए और कई अवसर दिए गए। और ये चीज फिल्म में भी दिखाई गई है।”

सक्सेना का यह भी कहना है कि भारतीय वायुसेना में रहते हुए उन्होंने कोई भेदभाव का सामना नहीं किया। उन्हें और अन्य अधिकारियों को बराबर अवसर दिए गए। उन्होंने इस बात पर भी गौर करवाया कि भारतीय वायु सेना में महिला अधिकारियों की बढ़ती दर संगठन की समतावादी नीतियों की प्रमाण हैं।

भारतीय वायुसेना में जाने के बाद शुरुआती सालों में जब उनसे लैंगिक भेदभाव पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, “IAF भारत की एक बेहद सम्मानित संस्था है। वह आप में बदलाव लाने के बारे में प्रगतिशील और सकारात्मक है।”

गौरतलब है कि गुंजन सक्सेना के जीवन व संघर्षों पर आधारित फिल्म में नकारात्मक चित्रण पर एयरफोर्स ने आपत्ति जताई थी। इंडियन एयर फोर्स ने सेंसर बोर्ड को लिखे अपने पत्र में बातें साफ-साफ समझाई थी। IAF ने कहा था, “नेटफ्लिक्स और धर्मा प्रोडक्शंस ने भारतीय वायु सेना का प्रतिनिधित्व प्रामाणिकता के साथ करने की सहमति व्यक्त की थी ताकि यह फिल्म अगली पीढ़ी को वायु सेना में ज्वाइन करने के लिए प्रेरित करने में मदद करती।”

IAF के अनुसार जब फिल्म का ट्रेलर हाल ही में जारी किया गया, तो यह देखा गया कि इसमें भारतीय वायुसेना को अनुचित ढंग से दिखाया गया है। गुंजन सक्सेना मतलब श्रीदेवी की बेटी जाह्णवी कपूर (बॉलीवुड में नेपोटिजम) के स्क्रीन कैरेक्टर को महिमामंडित करने के लिए फिल्म में जबरन ऐसी परिस्थितियाँ प्रस्तुत की गईं, जो वायु सेना की कार्य संस्कृति के विपरीत है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारतीय हॉकी का ‘द ग्रेट वॉल’: जिसे घेर कर पीटने पहुँचे थे शिवसेना के 150 गुंडे, टोक्यो ओलंपिक में वही भारत का नायक

शिवसेना वालों ने PR श्रीजेश से पूछा - "क्या तुम पाकिस्तानी हो?" अपने ही देश में ये देख कर उन्हें हैरत हुई। टोक्यो ओलंपिक के बाद सब इनके कायल।

अफगानिस्तान के सबसे सुरक्षित इलाके में तालिबानी हमला, रक्षा मंत्री निशाना: ब्लास्ट-गोलीबारी, सड़कों पर ‘अल्लाहु अकबर’

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के विभिन्न हिस्सों में गोलीबारी और बम ब्लास्ट की आवाज़ें आईं। शहर के उस 'ग्रीन जोन' में भी ये सब हुआ, जो कड़ी सुरक्षा वाला इलाका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,873FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe