Friday, April 19, 2024
Homeविविध विषयअन्य'मई में दिखेगा कोरोना का सबसे भयंकर रूप': IIT कानपुर की स्टडी में दावा-...

‘मई में दिखेगा कोरोना का सबसे भयंकर रूप’: IIT कानपुर की स्टडी में दावा- दूसरी लहर कुम्भ और रैलियों से नहीं

प्रोफेसर मणिंद्र अग्रवाल ने बताया कि गुजरात, मध्य प्रदेश और कर्नाटक जैसे राज्यों का डेटा अभी साफ नहीं है, जबकि तमिलनाडु में 6 मई को सबसे ज्यादा मामले आने की आशंका है। अध्ययन में पाया गया कि कोरोना के मामले कम होने पर लोगों ने भी खूब लापरवाही की।

देश के सबसे बड़े शैक्षिक संस्थानों में से एक IIT कानपुर में कोरोना को लेकर किए गए एक अध्ययन में पाया है कि कुम्भ में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़ या चुनावी रैलियों में आए लोगों से इस पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। रिसर्च के अनुसार, मई 2021 कोरोना की दूसरी लहर का सबसे भयंकर रूप देखने को मिलेगा। कुछ राज्यों में यह अप्रैल के अंत में पीक पर होगा। IIT कानपुर के प्रोफेसर पद्मश्री मणिंद्र अग्रवाल ने इस अध्ययन में सभी राज्यों में अलग-अलग कोरोना के पीक टाइम और ग्राफ गिरने की तारीख का अनुमान लगाया है

प्रोफेसर मणिन्द्र और उनकी टीम ने पूरे देश के डेटा का अध्ययन किया और अलग-अलग राज्यों में मिलने वाले कोरोना के साप्ताहिक आँकड़ों को भी देखा। एक कम्प्यूटर आधारित मॉडल पर ये सब कुछ किया गया। ‘दैनिक भास्कर’ ने उनसे बातचीत की, जिसमें उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र में कोरोना का उच्चतम स्तर आ चुका है और राज्य में अब अगले कुछ दिनों में संक्रमितों की संख्या बढ़ने की बजाए घटने लगेगी। 

उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, दिल्ली और राजस्थान में 20 से 30 अप्रैल के बीच सबसे ज्यादा कोरोना के मरीज मिलेंगे। अध्ययन में जुटाए गए आँकड़ों के अनुसार, उत्तर प्रदेश में एक दिन में सबसे ज्यादा 32,000 केस आने की आशंका है। इसके बाद दिल्ली में यह आँकड़ा 30,000, पश्चिम बंगाल में 11,000, राजस्थान में 10,000 और बिहार में 9,000 के आसपास रह सकता है।

इस रिसर्च में सबसे बड़ी बात कुम्भ और चुनावी रैलियों को लेकर पता चली। प्रोफेसर मणिंद्र अग्रवाल ने कहा कि इन दोनों आयोजनों से कोरोना के प्रसार पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने बताया कि कुछ मामलों में जरूर बढ़ोतरी होगी, लेकिन कोई ऐसा असर नहीं दिखेगा जिससे देश की स्थिति बिगड़ जाए। साथ ही उन्होंने पूछा कि जो लोग बंगाल, केरल, तमिलनाडु में केस बढ़ने का कारण रैली और सभाओं को बता रहे हैं वो महाराष्ट्र और दिल्ली के लिए क्या कारण बताएँगे? 

कोरोना को लेकर IIT कानपुर का अध्ययन

उन्होंने कारण बताया कि खुली जगह में आयोजित इन कार्यक्रमों से कोरोना वायरस नहीं फैलेगा। उन्होंने पाया कि पहले चरण में सामान्य और गरीब लोगों को कोरोना ने ज्यादा निशाना बनाया था, क्योंकि एक तो वो बाहर रह कर काम कर रहे थे और दूसरा बचाव के लिए उनके पास संसाधन नहीं थे। अपार्टमेंट्स और बड़े घरों में रहने वाले लोग तो उसमें ही कैद हो गए थे। टीकाकरण शुरू हुआ तो ये लोग निकले। उन्होंने बताया कि इसी कारण दूसरे हमले में ज्यादा से ज्यादा लोग इसके शिकार हो रहे हैं।

उन्होंने जानकारी दी कि गुजरात, मध्य प्रदेश और कर्नाटक जैसे राज्यों का डेटा भी अभी साफ नहीं है, जबकि तमिलनाडु में 6 मई को सबसे ज्यादा मामले आने की आशंका है। अध्ययन में पाया गया कि कोरोना के मामले कम होने पर लोगों ने भी खूब लापरवाही की।

बता दें कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में स्वतः आगे कर अखाड़ों ने कुम्भ के समाप्ति की घोषणा की है और इसे अब प्रतीकात्मक ही रखा गया है। उत्तराखंड और हरिद्वार को कोरोना वायरस से सुरक्षित रखने और इसके लिए जारी सरकारी दिशा-निर्देशों का पालन ठीक से हो, इसीलिए अखाड़ों ने ये फैसला लिया है। निरंजनी अखाड़ा, आनंद अखाड़े और जूना अखाड़ा ने ये घोषणा की, जिसका अन्य साधुओं ने अनुमोदन किया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोकसभा चुनाव 2024 के पहले चरण में 21 राज्य-केंद्रशासित प्रदेशों के 102 सीटों पर मतदान: 8 केंद्रीय मंत्री, 2 Ex CM और एक पूर्व...

लोकसभा चुनाव 2024 में शुक्रवार (19 अप्रैल 2024) को पहले चरण के लिए 21 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की 102 संसदीय सीटों पर मतदान होगा।

‘केरल में मॉक ड्रिल के दौरान EVM में सारे वोट BJP को जा रहे थे’: सुप्रीम कोर्ट में प्रशांत भूषण का दावा, चुनाव आयोग...

चुनाव आयोग के आधिकारी ने कोर्ट को बताया कि कासरगोड में ईवीएम में अनियमितता की खबरें गलत और आधारहीन हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe