Thursday, October 1, 2020
Home विविध विषय अन्य 'शेर-ए-पंजाब' जो कोहिनूर अपनी बाँह पर पहनते थे चुने गए दुनिया के सर्वकालिक महान...

‘शेर-ए-पंजाब’ जो कोहिनूर अपनी बाँह पर पहनते थे चुने गए दुनिया के सर्वकालिक महान नेता

महाराजा रणजीत सिंह ने 19वीं सदी के शुरुआती दशक में सिख खालसा सेना का आधुनिकीकरण किया था। वो कहते थे, ''भगवान ने मुझे एक आँख दी है, इसलिए उससे दिखने वाले हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, अमीर और गरीब मुझे सभी बराबर दिखते हैं।"

भारतीय इतिहास में महाराजा रणजीत सिंह का जिक्र सबसे गौरवशाली पन्नों में से एक है। लेकिन 19वीं सदी के इस महानायक का साहस और शौर्य आज भी लोगों के दिलों में जीवित है। हाल ही में ‘बीबीसी वर्ल्ड हिस्ट्रीज मैगजीन’ की तरफ से कराए गए एक सर्वेक्षण में महाराजा रणजीत सिंह दुनिया भर के नेताओं को पछाड़कर ‘सर्वकालिक महान नेता’ चुने गए।

इस सर्वेक्षण में पाँच हजार से अधिक पाठकों ने हिस्सा लिया। 38% से ज्यादा मत पाने वाले रणजीत सिंह की सहिष्णु साम्राज्य बनाने के लिए प्रशंसा की गई। इस प्रतियोगिता में दूसरे स्थान पर अफ्रीकी स्वतंत्रता संग्राम के सेनानी अमिलकार काबराल रहे, जिन्हें 25% मत मिले। उन्होंने पुर्तगाल के आधिपत्य से गिनी को मुक्त कराने के लिए दस लाख से अधिक लोगों को एकजुट किया था और इसके बाद कई अफ्रीकी राष्ट्र स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ने के लिए प्रोत्साहित हुए थे।

युद्ध के समय ब्रिटेन के प्रधानमंत्री रहे विंस्टन चर्चिल सूझबूझ और त्वरित फैसले लेने के लिए 7% वोट के साथ तीसरे स्थान पर रहे। अमेरिकी राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन चौथे और ब्रिटिश साम्राज्ञी एलिजाबेथ प्रथम महिलाओं में सर्वाधिक वोट प्राप्त कर पाँचवें स्थान पर रहीं।

ज्ञात हो कि ‘शेर ए पंजाब’ के नाम से मशहूर महाराजा रणजीत सिंह आर्थिक एवं राजनीतिक अस्थिरता के बाद सत्ता में आए थे। 19वीं सदी के शुरुआती दशक में उन्होंने सिख खालसा सेना का आधुनिकीकरण किया था। महाराजा रणजीत सिंह की एक आँख खराब थी। इससे जुड़ी एक प्रचलित कथा यह भी है कि वो कहते थे, ”भगवान ने मुझे एक आँख दी है, इसलिए उससे दिखने वाले हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, अमीर और गरीब मुझे सभी बराबर दिखते हैं।”

महाराजा रणजीत सिंह से जुड़े प्रमुख तथ्य

कहते हैं महाराजा रणजीत सिंह ने विश्वनाथ मंदिर में मन्नत माँगी थी कि काबुल फतह करवा दीजिए, उसके बाद छत सोने से मढ़ा दूँगा। सरदार हरि सिंह नलवा जो रणजीत सिंह की सेना के सेनाध्यक्ष थे, का अधूरा कार्य डोगरा राजपूतों ने पूरा किया और काबुल भी खालसा साम्राज्य के अधीन आ गया। उसके बाद महाराजा रणजीत सिंह ने बाबा विश्वनाथ के शिखर पर 880 किलो सोना मढ़वाया।

महाराजा रणजीत सिंह ने ही हरमंदिर साहिब यानी, स्वर्ण मंदिर (गोल्डन टेम्पल) का जीर्णोद्धार करवाया था। महाराजा रणजीत सिंह उन व्यक्तियों में से थे जिन्होंने पूरे पंजाब को एकत्रित कर रखा था और अपने रहते कभी राज्य के आस-पास अंग्रेजों को आने भी नहीं दिया। उस समय पंजाब पर अफगान और सिखों का अधिकार था और उन्होंने पूरे पंजाब को कुछ मिसलो में बाँट दिया था। महज दस साल की उम्र में अपना पहला युद्ध लड़ने और जीतने वाले रणजीत सिंह को बचपन में चेचक हो गया था। इसकी वजह से उनकी बाईं आँख की रोशनी कम होती गई।

अपने चालीस साल के शासन के दौरान सिख सम्राज्‍य के संस्‍थापक महाराजा रणजीत सिंह एक धर्मनिरपेक्ष राजा की तरह रहे, वो हिन्दुओं और सिखों के हक़ के लिए हमेशा खड़े रहे। उन्होंने उस समय वसूले जाने वाले जजिया पर रोक लगाई थी।

रणजीत सिंह ने मात्र सत्रह साल की उम्र में भारत पर हमला करने वाले आक्रमणकारी जमन शाह दुर्रानी को हराया था। उन्होंने पूरे पेशावर समेत पश्तून क्षेत्र पर अपना अधिकार स्थापित किया था। यह वो समय था जब पश्तूनों पर किसी गैर मुस्लिम ने राज किया। इसके बाद धीरे-धीरे उन्होंने पेशावर, जम्मू-कश्मीर और आनंदपुर पर भी अधिकार कर लिया। पहली आधुनिक भारतीय सेना- ‘सिख खालसा सेना’ को स्थापित करने का श्रेय भी रणजीत सिंह को ही जाता है। पंजाब उनके समय में बहुत शक्तिशाली सूबा था। उनके कारण ही लंबे अर्से तक अंग्रेज़ पंजाब को आधीन नहीं कर पाए थे।

ऐतिहासिक कूह-ए-नूर (कोहिनूर) की कहानी बड़ी दिलचस्प रही है। वर्ष 1839 तक यह महाराजा रणजीत सिंह के पास रहा था, वह इसे ताबीज के रूप में अपनी बाँह में पहनते थे। बेशकीमती हीरा कोहिनूर महाराजा रणजीत सिंह ने शाह शुजा-उल-मलिक से हासिल किया था। यह उन्होंने कश्मीर पर हमला कर शाह शुजा को छुड़ाने की शर्त पर लिया था। उनकी मृत्यु के बाद राज्य और इस कीमती हीरे की जिम्मेवारी उनके पाँच वर्षीय बेटे दलीप सिंह के ऊपर आ गई थी। लेकिन अंग्रेजों ने पंजाब को कब्जे में ले लिया और बालक दलीप सिंह को कोहिनूर और साम्राज्य सौंपने के लिए विवश कर दिया। इस प्रकार, 1851 में यह इंग्लैंड की महारानी के पास चला गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कठुआ कांड की तरह ही मीडिया लिंचिंग की साजिश तो नहीं? 31 साल पहले भी 4 नौजवानों ने इसे भोगा था

जब शोषित समाज के वंचित कहे जाने वाले तबकों से हो और आरोपित तथाकथित ऊँची मानी जाने वाली जातियों से, तो मीडिया लिंचिंग के लिए एक बढ़िया मौका तैयार हो जाता है।

‘हर कोई डिम्पलधारी को गिरने से रोकता रहा, लेकिन बाबा ने डिसाइड कर लिया था कि घास में तैरना है तो कूद गया’

हा​थरस केस पर पॉलिटिक्स करने गए राहुल गाँधी का एक वीडियो के सामने आने के बाद ट्विटर पर 'एक्ट लाइक पप्पू' ट्रेंड करने लगा।

दिल्ली दंगों की चार्जशीट में कपिल मिश्रा ‘व्हिसल ब्लोअर’ नहीं: साजिश से ध्यान हटाने के लिए मीडिया ने गढ़ा झूठा नैरेटिव

दंगों पर दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में कपिल मिश्रा को 'व्हिसल ब्लोअर' नहीं बताया गया है। जानिए, मीडिया ने कैसे आपसे सच छिपाया।

‘द वायर’ की परमादरणीया पत्रकार रोहिणी सिंह ने बताया कि रेप पर वैचारिक दोगलापन कैसे दिखाया जाता है

हाथरस में आरोपित की जाति पर जोर देने वाली रोहिणी सिंह जैसी लिबरल, बलरामपुर में दलित से रेप पर चुप हो जाती हैं? क्या जाति की तरह मजहब अहम पहलू नहीं होता?

रात 3 बजे रिया को घर छोड़ने गए थे सुशांत, सुबह फँदे से लटके मिले: डेथ मिस्ट्री में एक और चौंकाने वाला दावा

रिया चकवर्ती का दावा रहा है कि 8 जून के बाद उनका सुशांत से कोई कॉन्टेक्ट नहीं था। लेकिन, अब 13 जून की रात दोनों को साथ देखे जाने की बात कही जा रही है।

‘कागज नहीं दिखाएँगे’ वाले अनुराग कश्यप कागजों का पुलिंदा लेकर पहुँचे पुलिस स्टेशन: अभिनेत्री के यौन शोषण का मामला

वर्सोवा थाने पहुँचे अनुराग कश्यप के हाथ में कागज का पुलिंदा देख लोग पूछ रहे हैं कि जब उन्होंने अपने सारे डॉक्यूमेंट्स जला दिए थे तो कागज कहाँ से आए।

प्रचलित ख़बरें

ईशनिंदा में अखिलेश पांडे को 15 साल की सजा, कुरान की ‘झूठी कसम’ खाकर 2 भारतीय मजदूरों ने फँसाया

UAE के कानून के हिसाब से अगर 3 या 3 से अधिक लोग कुरान की कसम खाकर गवाही देते हैं तो आरोप सिद्ध माना जा सकता है। इसी आधार पर...

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

‘हिन्दू राष्ट्र में आपका स्वागत है, बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गया था’: कोर्ट के फैसले के बाद लिबरलों का जलना जारी

अयोध्या बाबरी विध्वंस मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद यहाँ हम आपके समक्ष लिबरल गैंग के क्रंदन भरे शब्द पेश कर रहे हैं, आनंद लीजिए।

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

शाम तक कोई पोस्ट न आए तो समझना गेम ओवर: सुशांत सिंह पर वीडियो बनाने वाले यूट्यूबर को मुंबई पुलिस ने ‘उठाया’

"साहिल चौधरी को कहीं और ले जाया गया। वह बांद्रा के कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अपने पिता के साथ थे। अभी उनकी लोकेशन किसी परिजन को नहीं मालूम। मदद कीजिए।"

लड़कियों को भी चाहिए सेक्स, फिर ‘काटजू’ की जगह हर बार ‘कमला’ का ही क्यों होता है रेप?

बलात्कार आरोपित कटघरे में खड़ा और लोग तरस खा रहे... सबके मन में बस यही चल रहा है कि काश इसके पास नौकरी होती तो यह आराम से सेक्स कर पाता!

कठुआ कांड की तरह ही मीडिया लिंचिंग की साजिश तो नहीं? 31 साल पहले भी 4 नौजवानों ने इसे भोगा था

जब शोषित समाज के वंचित कहे जाने वाले तबकों से हो और आरोपित तथाकथित ऊँची मानी जाने वाली जातियों से, तो मीडिया लिंचिंग के लिए एक बढ़िया मौका तैयार हो जाता है।

1000 साल लगे बाबरी मस्जिद वहीं बनेगी: SDPI नेता तस्लीम रहमानी ने कहा- अयोध्या पर गलत था SC का फैसला

SDPI के सचिव तस्लीम रहमानी ने अयोध्या में फिर से बाबरी मस्जिद बनाने की धमकी दी है। उसने कहा कि बाबरी मस्जिद फिर से बनाई जाएगी, भले ही 1000 साल लगें।

मिलिए, छत्तीसगढ़ के 12वीं पास ‘डॉक्टर’ निहार मलिक से; दवाखाना की आड़ में नर्सिंग होम चला करता था इलाज

मामला छत्तीसगढ़ के बलरामपुर का है। दवा दुकान के पीछे चार बेड का नर्सिंग होम और मरीज देख स्वास्थ्य विभाग की टीम अवाक रह गई।

‘हर कोई डिम्पलधारी को गिरने से रोकता रहा, लेकिन बाबा ने डिसाइड कर लिया था कि घास में तैरना है तो कूद गया’

हा​थरस केस पर पॉलिटिक्स करने गए राहुल गाँधी का एक वीडियो के सामने आने के बाद ट्विटर पर 'एक्ट लाइक पप्पू' ट्रेंड करने लगा।

दिल्ली दंगों की चार्जशीट में कपिल मिश्रा ‘व्हिसल ब्लोअर’ नहीं: साजिश से ध्यान हटाने के लिए मीडिया ने गढ़ा झूठा नैरेटिव

दंगों पर दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में कपिल मिश्रा को 'व्हिसल ब्लोअर' नहीं बताया गया है। जानिए, मीडिया ने कैसे आपसे सच छिपाया।

फोरेंसिक रिपोर्ट से रेप की पुष्टि नहीं, जान-बूझकर जातीय हिंसा भड़काने की कोशिश हुई: हाथरस मामले में ADG

एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया है कि हाथरस केस में फोरेंसिक रिपोर्ट आ गई है। इससे यौन शोषण की पुष्टि नहीं होती है।

‘द वायर’ की परमादरणीया पत्रकार रोहिणी सिंह ने बताया कि रेप पर वैचारिक दोगलापन कैसे दिखाया जाता है

हाथरस में आरोपित की जाति पर जोर देने वाली रोहिणी सिंह जैसी लिबरल, बलरामपुर में दलित से रेप पर चुप हो जाती हैं? क्या जाति की तरह मजहब अहम पहलू नहीं होता?

रात 3 बजे रिया को घर छोड़ने गए थे सुशांत, सुबह फँदे से लटके मिले: डेथ मिस्ट्री में एक और चौंकाने वाला दावा

रिया चकवर्ती का दावा रहा है कि 8 जून के बाद उनका सुशांत से कोई कॉन्टेक्ट नहीं था। लेकिन, अब 13 जून की रात दोनों को साथ देखे जाने की बात कही जा रही है।

‘ये मेरा आखिरी अभियान होगा’: चीन बॉर्डर का शॉर्ट रूट खोज रहे थे रिटायर BSF अधिकारी, पहाड़ों पर ही हुई मौत

एससी नेगी को रिटायर हुए बीएसएफ से 10 साल हो गए थे। फिर भी वे एक अभियान पर निकले और राष्ट्र सेवा में प्राण अर्पित कर दिए।

16 साल की बेटी को 1 साल से हवस का शिकार बना रहा था गुलाम रसूल, गर्भवती होने पर हुआ खुलासा

आरोपित अब्बू, गुलाम रसूल ने पिछले 1 साल से अपनी ही 16 साल की बेटी को हवस शिकार बनाया। वहीं लगातार दुष्कर्म के बाद जब उसकी बेटी 7 माह गर्भवती हो गई तब मामले का खुलासा हुआ।

हमसे जुड़ें

267,758FansLike
78,089FollowersFollow
326,000SubscribersSubscribe