Saturday, September 18, 2021
Homeविविध विषयअन्यमलेरिया, डेंगू के बाद कोविड-19 और उसके बाद सांप ने काटा: राजस्थान में फँसे...

मलेरिया, डेंगू के बाद कोविड-19 और उसके बाद सांप ने काटा: राजस्थान में फँसे ब्रिटिश नागरिक की कहानी

ब्रिटिश मूल के एक नागरिक पहले डेंगू और मलेरिया की चपेट में आ गए, फिर कोरोना वायरस ने भी उन्हें अपनी जद में ले लिया। तीनों बीमारियों से जीतने के बाद उन्हें एक जहरीले साँप ने काट लिया। हैरानी की बात यह है कि...

कोरोना काल से पहले राजस्थान आए ब्रिटिश मूल के एक नागरिक पहले डेंगू और मलेरिया की चपेट में आ गए, फिर कोरोना वायरस ने भी उन्हें अपनी जद में ले लिया। तीनों बीमारियों से जीतने के बाद उन्हें एक जहरीले साँप ने काट लिया। हैरानी की बात यह है कि वह इस जहर को भी मात देने में कामयाब रहे। इयान जोनस को जोधपुर जिले में एक कोबरा साँप ने काट लिया था, जिसके बाद उन्हें जोधपुर के ही एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। फिलहाल वो खतरे से बाहर हैं।

अस्पताल के डॉक्टर अभिषेक तातर ने कहा, “इयान जोनस को साँप द्वारा काटे जाने के बाद अस्पताल लाया गया था। शुरुआती जाँच में उनके कोरोना पॉजिटिव (दूसरी बार) होने का भी शक हुआ लेकिन जाँच में वो नेगेटिव पाए गए। उनके अंदर साँप के काटने के सभी लक्षण दिख रहे थे। उनकी दृष्टि कमजोर हो गई थी, वो मुश्किल से चल पा रहे थे। उनका इलाज किया गया। हमें लगता है कि कोई दीर्घकालिक प्रभाव नहीं होगा। इलाज के बाद जोनस ठीक हो गए और एक हफ्ते के अंदर अस्पताल से उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया।”

इस बीच जोनस के बेटे सेब जोनस ने पिता की प्रशंसा करते हुए GoFundMe पर लिखा, “डैड योद्धा हैं, भारत में प्रवास के दौरान पिता कोविड-19 से पहले मलेरिया, डेंगू बुखार से पीड़ित हो चुके हैं।” सेब जोनस ने यह पेज पैसे जुटाने के लिए बनाए हैं, ताकि भारत में उनके मेडिकल बिल को भरा जा सके और उनके वापस इंग्लैंड जाने का भी प्रबंध किया जाए।

बेटे ने बताया कि उनके पिता कोरोना महामारी की वजह से यात्रा कर पाने में सक्षम नहीं थे और परिवार ने लोगों की मदद करने की उनकी इच्छा का सम्मान किया। जोनस राजस्थान के स्थानीय कारीगरों की बनाई पारंपरिक शिल्प को अपनी चैरिटी संस्था के जरिए ब्रिटेन में बिकवाने में मदद करते हैं। उनका मकसद उनके सामान की बिक्री से उनकी गरीबी दूर करने में मदद करना है। वह जल्द अपने देश लौटेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘फर्जी प्रेम विवाह, 100 से अधिक ईसाई लड़कियों का यौन शोषण व उत्पीड़न’: केरल के चर्च ने कहा – ‘योजना बना कर हो रहा...

केरल के थमारसेरी सूबा के कैटेसिस विभाग ने आरोप लगाया है कि 100 से अधिक ईसाई लड़कियों का फर्जी प्रेम विवाह के नाम पर यौन शोषण किया गया।

डॉ जुमाना ने किया 9 बच्चियों का खतना, सभी 7 साल की: चीखती-रोती बच्चियों का हाथ पकड़ लेते थे डॉ फखरुद्दीन व बीवी फरीदा

अमेरिका में मुस्लिम डॉक्टर ने 9 नाबालिग बच्चियों का खतना किया। सभी की उम्र 7 साल थी। 30 से अधिक देशों में है गैरकानूनी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,951FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe