Thursday, June 13, 2024
Homeविविध विषयअन्यमूडीज ने सुधारी भारत की रेटिंग, नेगेटिव से हुई स्टेबल: राहुल गाँधी के अनुमान...

मूडीज ने सुधारी भारत की रेटिंग, नेगेटिव से हुई स्टेबल: राहुल गाँधी के अनुमान हुए फेल, लिबरल गिरोह ने साधी चुप्पी

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने आज भारत सरकार की रेटिंग को लेकर आउटलुक को नेगेटिव से स्टेबल कर दिया है। साथ ही देश की विदेशी मुद्रा तथा स्थानीय मुद्रा दीर्घकालीन निर्गमकर्ता रेटिंग और स्थानीय मुद्रा रेटिंग बीएए3 पर बरकरार रखी गई है।

कोरोना संक्रमण के दस्तक देने के बाद भारत की बिगड़ती अर्थव्यवस्था ने मोदी सरकार को विपक्ष के निशाने पर ला दिया था। हालाँकि, अब स्थिति सुधर रही है। मंगलवार (अक्टूबर 5, 2021) को मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने भारत की सॉवरेन रेटिंग की पुष्टि करते हुए इसे नेगेटिव से बदलकर स्थिर यानी कि स्टेबल कर दिया। ये भारत की अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर अच्छी खबर है।

मूडीज ने बयान में कहा, “मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने आज भारत सरकार की रेटिंग को लेकर आउटलुक को नेगेटिव से स्टेबल कर दिया है। साथ ही देश की विदेशी मुद्रा तथा स्थानीय मुद्रा दीर्घकालीन निर्गमकर्ता रेटिंग और स्थानीय मुद्रा रेटिंग (सीनियर अनसिक्योर्ड) बीएए3 पर बरकरार रखी गई है।”

हालातों में सुधार को लेकर मूडीज ने अर्थव्यवस्था और वित्तीय प्रणाली में गिरावट के जोखिम में कमी का हवाला दिया। रेटिंग एजेंसी ने कहा, “बेहतर पूंजी और नकदी की अच्छी स्थिति से बैंक तथा गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थानों के स्तर पर जोखिम पूर्व के अनुमान के मुकाबले कम हुए हैं।”

मूडीज ने कहा, “अधिक कर्ज बोझ और ऋण वहन को लेकर कमजोर स्थिति के चलते जोखिम बना हुआ है। लेकिन मूडीज को उम्मीद है कि आर्थिक परिवेश अगले कुछ वर्षों में केंद्र एवं राज्यों सरकारों के राजकोषीय घाटे को धीरे-धीरे कम करने में मददगार होगा। इससे सरकारी साख में और गिरावट को रोका जा सकेगा।”

उल्लेखनीय है कि मूडीज इनवेस्टर्स ने पिछले वर्ष भारत के स्तर को ‘बीएए2’ से कम कर ‘बीएए3’ कर दिया था। उस दौरान कॉन्ग्रेस नेता ने ट्वीट किया था, “मूडीज ने मोदी द्वारा भारत की अर्थव्यवस्था को संभालने को कबाड़ (जंक) वाली रेटिंग से एक कदम ऊपर रखा है। गरीबों और एमएसएमई क्षेत्र को समर्थन की कमी का मतलब है कि अभी और अधिक खराब स्थिति आने वाली है।” इसके अलावा लिबरल गिरोह ने भी इस मुद्दे को जमकर उछाला था।

हालाँकि, राहुल गाँधी के अनुमानों से उलट अब भारत की अर्थव्यवस्था में सुधार होता दिख रहा है। लेकिन विपक्षी दल, लिबरल गिरोह या कॉन्ग्रेस नेता की ओर से इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आ रही है। अपने एजेंडे के हिसाब राहुल इस साल लखीमपुर खीरी मामले में बात कर रहे हैं। वहीं कॉन्ग्रेस पार्टी भी इस विषय पर चुप है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -