Saturday, June 22, 2024
Homeविविध विषयअन्य₹100 Cr की 'वन्दे भारत' ने 1 साल में कमाए ₹92 करोड़: RaGa ने...

₹100 Cr की ‘वन्दे भारत’ ने 1 साल में कमाए ₹92 करोड़: RaGa ने उड़ाया था मजाक, कई बार हुई थी पत्थरबाजी

ये भारत की पहली स्वदेशी ट्रेन है, जिसे पूर्णरूपेण देश में ही बनाया गया है। राहुल गाँधी ने इस ट्रेन को लेकर 'मेक इन इंडिया' का मजाक बनाया था। उस समय पीएम मोदी ने विपक्ष को भारतीय इंजीनियरों के मेहनत का सम्मान करने की सलाह दी थी।

नई दिल्ली से वाराणसी के बीच चलने वाली ‘वन्दे भारत एक्सप्रेस’ ने अपने पहले ही साल में अच्छी कमाई की है। इस ट्रेन को पिछले वर्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरी झंडी दिखा कर रवाना किया था। एक साल में ‘वन्दे भारत एक्सप्रेस’ ने 3.8 लाख किलोमीटर की यात्रा तय की है और 92.29 करोड़ रुपए की कमाई की है। ‘उत्तर रेलवे’ ने मंगलवार (फरवरी 18, 2020) को जानकारी दी कि ट्रेन में अब तक 100% ऑक्यूपेंसी रही है, जो इसकी सफलता को बयाँ करती है।

ये भारत की पहली स्वदेशी ट्रेन है, जिसे पूर्णरूपेण देश में ही बनाया गया है। इसे फरवरी 15, 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को समर्पित किया था। ‘वन्दे भारत एक्सप्रेस’ ने नई दिल्ली से वाराणसी तक का कमर्शियल रन फरवरी 17, 2019 से शुरू किया था। इस हिसाब से सोमवार (फरवरी 17, 2020) को ‘वन्दे भारत एक्सप्रेस’ की पहली सालगिरह थी। नई दिल्ली से वाराणसी के बीच की दूरी को यह ट्रेन 8 घंटे में पूरा करती है। मंगलवार और गुरुवार के अलावे ये सप्ताह के बाकी 5 दिन चलती है।

इस ट्रेन में 16 कोच हैं। ‘वन्दे भारत एक्सप्रेस’ के सभी कोच जीपीएस पर आधारित ऑडियो-विज़ुअल पैसेंजर इन्फॉर्मेशन सिस्टम पर काम करते हैं। ट्रेन में वाईफाई की सुविधा है और सीटिंग अरेंजमेंट भी काफ़ी आरामदायक है। इसे ‘उत्तर रेलवे’ के दिल्ली भाग द्वारा कार्यान्वित किया जाता है। अगर पूरे ऑक्यूपेंसी की बात करें तो ट्रेन पिछले एक साल में 112% से भी अधिक ऑक्यूपेंसी के साथ चलती रही है। पिछले साल अक्टूबर में नई दिल्ली से कटरा के बीच भी एक ‘वन्दे भारत एक्सप्रेस’ ट्रेन की शुरुआत की गई। इस ट्रेन के कारण दिल्ली और कटरा के बीच की दूरी 8 घंटे घट गई है।

एक भी दिन नहीं हुई कैंसल: ‘वन्दे भारत एक्सप्रेस’ के गौरवपूर्ण 1 साल

इस ट्रेन की डिजाइन और निर्माण करने वाली इंटीग्रल कोच फैक्ट्री के सुधांशु मणि ने बताया था कि इसे 100 करोड़ रुपए की लागत से बनाया गया था। यानी, ट्रेन ने अब तक इसमें से 92.29 करोड़ रुपए पहले ही साल में जुटा लिए हैं। बता दें कि ‘वन्दे भारत एक्सप्रेस’ पर तीन बार पत्थरबाजी की गई थी। इसके शुरुआती दिनों में ही उत्तर प्रदेश के टूंडला में पथरबाजी की गई थी।

राहुल गाँधी ने भी इस ट्रेन को लेकर ‘मेक इन इंडिया’ का मजाक बनाया था। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने उनके बयान की आलोचना करते हुए कहा था कि भारतीय इंजीनियरों की मेहनत का मखौल न उड़ाएँ। पीएम मोदी ने भी भारतीय इंजीनियरों की मेहनत को सलाम करते हुए विपक्षी नेताओं को सलाह दी थी कि वे स्वदेशी सेमी-स्पीड ट्रेन का सम्मान करें।

कॉन्ग्रेस ने बजट 2020 पर झूठ बोलते हुए मोदी सरकार पर लगाया रेलवे फंड में कमी करने का आरोप: तथ्य यह रहे

रेलवे में 150 सालों का सबसे बड़ा सुधार: ₹50 लाख करोड़ का निवेश, सेवाओं के एकीकरण को मंजूरी

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -