अजब-गजब: केरल में कुतिया को ‘अवैध’ संबंध के लिए घर से निकाला

लगभग तीन साल की सफ़ेद कुतिया पॉमेरेनियन नस्ल की है और तिरुवनंतपुरम के चकई स्थित वर्ल्ड मार्केट में लावारिस मिली। उसका मालिक कौन है यह पता नहीं चल पाया है।

केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम में एक कुतिया को मालिक ने पड़ोसी के कुत्ते के साथ ‘अवैध संबंध’ के लिए घर से निकाल दिया। लगभग तीन साल की सफ़ेद कुतिया पॉमेरेनियन नस्ल की है और शहर के चकई स्थित वर्ल्ड मार्केट में घूमती मिली। उसका मालिक कौन है यह पता नहीं चल पाया है।

चिट्ठी से हुआ खुलासा

कुतिया की कॉलर में लटकी चिट्ठी से पूरे मामले का खुलासा हुआ है। उसे छोड़ने वाले मालिक ने चिट्ठी में बताया है, “वह बहुत अच्छी है, केवल भौंकती है, तीन साल में किसी को कभी काटा नहीं, ज़्यादा खाना नहीं खिलाना पड़ता- आम तौर पर दूध, बिस्कुट और अण्डों से काम चल जाता है। अब हमने इसे निकाल दिया है, क्योंकि इसके पड़ोस के कुत्ते से अवैध संबंध थे।”

जानवरों के लिए काम करने वाले NGO पीपल फॉर एनिमल्स की शमीन फारूखी ने मीडिया को बताया कि फ़िलहाल कुतिया को उन्होंने अपने घर में रख लिया है। उन्हें उम्मीद है कि उसे गोद लेने वाला कोई मिल जाएगा। हालाँकि कुतिया के चेहरे पर उम्मीद के भाव ऐसे हैं जैसे मालिक उसे लेने आता ही होगा।

‘कुत्ते ऐसा ही करते हैं’

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

शमीम ने कहा कि कुत्ते अपने प्रजनन काल में यौन संबंध बनाते ही हैं- यही उनकी प्रकृति है। अगर मालिक को उसके बच्चे/पिल्ले नहीं चाहिए थे तो वह कुतिया की नसबंदी करा सकता था। यदि उसे अपनी कुतिया को ‘कुँवारी’ ही रखना था तो उसे घर में बंद रखने के सिवाय और कोई दूसरा रास्ता नहीं होता। शमीम के अनुसार उन्होंने घायल, बीमार वगैरह कुत्तों को छोड़े जाते तो देखा है, लेकिन ‘अवैध संबंध’ के कारण छोड़े गए कुत्ते का यह पहला मामला है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बरखा दत्त
मीडिया गिरोह ऐसे आंदोलनों की तलाश में रहता है, जहाँ अपना कुछ दाँव पर न लगे और मलाई काटने को खूब मिले। बरखा दत्त का ट्वीट इसकी प्रतिध्वनि है। यूॅं ही नहीं कहते- तू चल मैं आता हूँ, चुपड़ी रोटी खाता हूँ, ठण्डा पानी पीता हूँ, हरी डाल पर बैठा हूँ।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,018फैंसलाइक करें
26,176फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: