Friday, September 25, 2020
Home विविध विषय अन्य 102 साल पहले: कोरोना की तरह ही आया था स्पेनिश फ्लू, 5 करोड़ लोग...

102 साल पहले: कोरोना की तरह ही आया था स्पेनिश फ्लू, 5 करोड़ लोग हुए थे शिकार

उस समय पहला विश्वयुद्ध चल रहा था। सैनिकों के बंकरों के आसपास गंदगी की वजह से यह महामारी सैनिकों में फैली और जब सैनिकों अपने-अपने देश लौटे तो वहाँ भी यह बीमारी फैल गई। मई तक इंग्लैंड, फ्रांस, स्पेन और इटली के सैनिक और आम लोग भी स्पेनिश फ्लू का शिकार हो चुके थे।

कोरोना वायरस इस समय पूरे विश्व के लिए एक चुनौती बन चुका है। दिन पर दिन इसके कारण हो रही मौतों का आँकड़ा बढ़ता जा रहा है। यदि मात्र 24 घंटों की बात करें तो करीब 321 लोगों की इस वायरस के कारण मौत हो चुकी है। कुल आँकड़ा देखें, तो ये संख्या 5000 के करीब पहुँच चुकी है। अब तक कोरोना से 4,973 लोगों की मौत हुई है। इसके बढ़ते प्रभाव को देखते हुए हर देश इससे बचने के लिए अलग-अलग तरीके अपना रहा है। भारत भी इन्ही प्रयासों की ओर अग्रसर है।

भारत ने एक तरह से खुद को दुनिया से अलग-थलग करते हुए 15 अप्रैल तक ट्रैवल वीजा रद्द कर दिए हैं। कारोबार इससे सबसे ज्यादा प्रभावित है। भारत में भी इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 74 हो चुकी है। साथ ही एक भारतीय की इसके कारण मौत भी हो गई है।

WHO ने कोरोना वायरस को एक महामारी घोषित कर दिया है, क्योंकि विश्व भर में इससे संक्रमित लोगों की संख्या 1,24,330 से अधिक पहुँच चुकी है। लेकिन क्या आप जानते हैं 102 साल पहले यानी 1918 में इससे भी खतरनाक वायरस भारत में आया था। इसने पूरी दुनिया में करीब 5 करोड़ लोगों की जानें ली थी। इसका नाम स्पेनिश फ्लू था। पूरी दुनिया में इस फ्लू से करीब 50 करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित हुए थे। हैरानी की बात ये है कि उस समय पूरी दुनिया की आबादी 180 करोड़ के लगभग थी। इसका मतलब है कि दुनिया का हर चौथा शख्स इस फ्लू का शिकार था। इस फ्लू के कारण मरने वालों में आधे से ज्यादा मृतक 20 से 30 की उम्र में थे। भारत में इससे 1 से 2 करोड़ लोगों की मौत हुई थी।

स्पेनिश फ्लू का पहला मामला 1918 के मार्च में अमेरिका में सामने आया था। संक्रमित शख्स का नाम Albert Gitchell था। ये मरीज यूएस आर्मी में रसोइए का काम करता था। मगर, एक दिन 104 डिग्री बुखार के साथ उसे कंसास के अस्पताल में भर्ती कराया गया। जल्द ही ये बुखार सेना के 54 हजार टुकड़ियों में फैल गया। मार्च के आखिर तक हजारों सैनिक अस्पताल पहुँच गए और 38 सैनिकों की गंभीर न्यूमोनिया से मौत हो गई।

- विज्ञापन -

उस समय दुनिया आपस में अभी की तरह जुड़ी हुई नहीं थी। समुद्री मार्गों से ही एक देश से दूसरे देश आना-जाना होता था। मगर, फिर भी यह बीमारी काफी तेजी से फैली और दूर-दराज देशों में बैठे लोगों को अपनी गिरफ्त में लेते गया। बताया जाता है करीब दो सालों तक इस फ्लू का कहर जारी रहा, जिसके कारण 1.7 फीसद आबादी की मौत हो गई।

ऐसा माना जाता है उस समय पहला विश्वयुद्ध चल रहा था। सैनिकों के बंकरों के आसपास गंदगी की वजह से यह महामारी सैनिकों में फैली और जब सैनिकों अपने-अपने देश लौटे तो वहाँ भी यह बीमारी फैल गई। मई तक इंग्लैंड, फ्रांस, स्पेन और इटली के सैनिक और आम लोग भी स्पेनिश फ्लू का शिकार हो चुके थे। ये बीमारी उस समय सबसे पहले अमेरिकी और फ्रांसीसी सैनिकों में नजर आई। बावजूद इसके इस बीमारी का नाम स्पेनिश फ्लू पड़ने के पीछे एक दिलचस्प इतिहास है।

दरअसल, पहले वर्ल्ड वार के दौरान स्पेन युद्द में न के बराबर जुड़ा हुआ था। फ्रांस, इंग्लैंड और अमेरिका की तरह यहाँ के अखबार भी सेंसरशिप से आजाद थे। ऐसे में सबसे पहले स्पेनिश अखबारों ने ही वायरस की खबर छापी, इसी वजह से इस बीमारी को स्पेनिश फ्लू नाम मिला।

आज विश्व भर के लोगों को डराने वाला कोरोना वायरस की तरह स्पेनिश फ्लू भी सीधे फेफड़ों पर हमला करता था। हालांकि कोरोना और इसमें एक बड़ा फर्क था। कोरोना वायरस जहाँ कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों को संक्रमित करता है, वहीं स्पेनिश फ्लू इतना खतरनाक था कि लक्षण सामने आने के 24 घंटों के भीतर ये एकदम स्वस्थ व्यक्ति की भी जान ले सकता था। दुनिया में इसके बाद भी कई महामारियाँ फैलीं लेकिन स्पेनिश फ्लू जितनी खतरनाक और जानलेवा कोई भी बीमारी नहीं दिखी।

बताया जाता है इस बीमारी ने 5 करोड़ से भी अधिक लोगों की जान ली। लेकिन मेडिकल स्टॉफ भी इसके लिए कोई टीका तैयार नहीं कर सका, क्योंकि उस समय में किसी वायरस को देखने वाला माइक्रोस्कोप मौजूद नहीं था। साल 1930 में पहली बार इतने सूक्ष्म वायरस को देख सके, ऐसा माइक्रोस्कोप तैयार हुआ। तब उस दौर के टॉप डॉक्टरों का मानना था कि ये बीमारी Pfeiffer’s bacillus नामक बैक्टीरिया से फैलती है, जबकि असल में ये बीमारी Influenza A virus subtype H1N1 नामक वायरस से फैलती है जो इंफ्लुएंजा वायरस की एक श्रेणी है। बैक्टीरिया जन्य बीमारी मानते हुए वैज्ञानिकों ने इलाज में करोड़ों रुपए बहाए। लेकिन बीमारी वायरसजन्य थी इसलिए इसका इलाज नहीं हो सका और जानें जाती रहीं।

आज सोशल मीडिया के दौर में कोरोना वायरस के बारे में बड़े व्यापक स्तर पर लोगों को मालूम पड़ रहा है। लेकिन शायद माध्यमों का अभाव होने के कारण उस समय में स्पेनिश फ्लू से संबंधित जानकारी लोग नहीं जुटा पाते थे और न ही सचेत हो पाते थे। लेकिन आज तकनीक ने इसे संभव कर दिया है। विश्व भर में लोग इसके प्रति सचेत है और साथ ही सरकारें अपने-अपने स्तर पर इससे जनता को बचाने के लिए रास्ते खोज रही हैं। भारत में तो कॉलरट्यून से पहले कोरोना से बचने के लिए कॉलरट्यून लगा दी गई है। साथ ही इसका वैक्सीन तैयार करने के लिए भी कोशिशें जारी हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मारो, काटो’: हिंदू परिवार पर हमला, 3 घंटे इस्लामी भीड़ ने चौथी के बच्चे के पोस्ट पर काटा बवाल

कानपुर के मकनपुर गाँव में मुस्लिम भीड़ ने एक हिंदू घर को निशाना बनाया। बुजुर्गों और महिलाओं को भी नहीं छोड़ा।

चीन ने शिनजियांग में 3 साल में 16000 मस्जिद ध्वस्त किए, 8500 का तो मलबा भी नहीं बचा

कई मस्जिदों को सार्वजनिक शौचालयों में बदल दिया गया। मौजूदा मस्जिदों में से 75% में ताला जड़ा है या आज उनमें कोई आता-जाता नहीं है।

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

ड्रग्स चैट वाले ग्रुप की एडमिन थी दीपिका पादुकोण, दो नंबरों का करती थी इस्तेमाल

ड्रग्स मामले में दीपिका पादुकोण से एनसीबी शनिवार को पूछताछ करने वाली है। उससे पहले यह बात सामने आई है कि ड्रग चैट वाले ग्रुप की वह ए​डमिन थीं।

छद्म नारीवाद और हिंदू घृणा का जोड़: भारतीय संस्कृति पर हमला बोल कर कहा जाएगा- ‘ब्रेक द स्टिरियोटाइप्स’

यह स्टिरियोटाइप हर पोशाक की कतरनों के साथ क्यों नहीं ब्रेक किए जाते? हिंदुओं के पहनावे पर ही ऐसा प्रहार क्यों? क्यों नन की ड्रेस में मॉडल आदर्श होती है? क्यों बुर्के को स्टिरियोटाइप का हिस्सा नहीं माना जाता? क्यों केवल रूढ़िवाद की परिभाषा साड़ी और घूँघट तक सीमित हो जाती है?

एक अफसर जिसने बक्से में बंद कर दिया लालू का ‘जिन्न’, खत्म कर दिया बिहार में जंगलराज का बूथ लूट

केजे राव। यह नाम है उस अफसर का जिसने जंगलराज के बूथ कैप्चरिंग को दफन कर दिया। इसके साथ ही खत्म हो गया था लालू का राजपाट।

प्रचलित ख़बरें

‘क्या आपके स्तन असली हैं? क्या मैं छू सकता हूँ?’: शर्लिन चोपड़ा ने KWAN टैलेंट एजेंसी के सह-संस्थापक पर लगाया यौन दुर्व्यवहार का आरोप

"मैं चौंक गई। कोई इतना घिनौना सवाल कैसे पूछ सकता है। चाहे असली हो या नकली, आपकी समस्या क्या है? क्या आप एक दर्जी हैं? जो आप स्पर्श करके महसूस करना चाहते हैं। नॉनसेंस।"

‘काफिरों का खून बहाना होगा, 2-4 पुलिस वालों को भी मारना होगा’ – दिल्ली दंगों के लिए होती थी मीटिंग, वहीं से खुलासा

"हम दिल्ली के मुख्यमंत्री पर दबाव डालें कि वह पूरी हिंसा का आरोप दिल्ली पुलिस पर लगा दें। हमें अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर उतरना होगा।”

…भारत के ताबूत में आखिरी कील, कश्मीरी नहीं बने रहना चाहते भारतीय: फारूक अब्दुल्ला ने कहा, जो सांसद है

"इस समय कश्मीरी लोग अपने आप को न तो भारतीय समझते हैं, ना ही वे भारतीय बने रहना चाहते हैं।" - भारत के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने...

‘गिरती TRP से बौखलाए ABP पत्रकार’: रिपब्लिक टीवी के रिपोर्टर चुनाव विश्लेषक प्रदीप भंडारी को मारा थप्पड़

महाराष्ट्र के मुंबई से रिपोर्टिंग करते हुए रिपब्लिक टीवी के पत्रकार और चुनाव विश्लेषक प्रदीप भंडारी को एबीपी के पत्रकार मनोज वर्मा ने थप्पड़ जड़ दिया।

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

शो नहीं देखना चाहते तो उपन्यास पढ़ें या फिर टीवी कर लें बंद: ‘UPSC जिहाद’ पर सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़

'UPSC जिहाद' पर रोक को लेकर हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जिनलोगों को परेशानी है, वे टीवी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

नूर हसन ने कत्ल के बाद बीवी, साली और सास के शव से किया रेप, चेहरा जला अलग-अलग जगह फेंका

पानीपत के ट्रिपल मर्डर का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने नूर हसन को गिरफ्तार कर लिया है। उसने बीवी, साली और सास की हत्या का जुर्म कबूल कर लिया है।

‘मारो, काटो’: हिंदू परिवार पर हमला, 3 घंटे इस्लामी भीड़ ने चौथी के बच्चे के पोस्ट पर काटा बवाल

कानपुर के मकनपुर गाँव में मुस्लिम भीड़ ने एक हिंदू घर को निशाना बनाया। बुजुर्गों और महिलाओं को भी नहीं छोड़ा।

चीन ने शिनजियांग में 3 साल में 16000 मस्जिद ध्वस्त किए, 8500 का तो मलबा भी नहीं बचा

कई मस्जिदों को सार्वजनिक शौचालयों में बदल दिया गया। मौजूदा मस्जिदों में से 75% में ताला जड़ा है या आज उनमें कोई आता-जाता नहीं है।

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

‘नशे में कौन नहीं है, मुझे बताओ जरा?’: सितारों का बचाव कर संजय राउत ने ‘शराबी’ वाले अमिताभ की याद दिलाई

ड्रग्स मामले में दीपिका पादुकोण से पूछताछ से पहले संजय राउत ने बॉलीवुड सितारों का बचाव करते हुए NCB पर साधा निशाना है।

कानुपर में रिवर फ्रंट: ऐलान कर बोले योगी- PM मोदी ने की थी यहाँ गंगा स्वच्छता की प्रशंसा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर में गंगा तट पर खूबसूरत रिवर फ्रंट बनाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने इसे पीएम मोदी को उपहार बताया।

अतीक अहमद से अवैध प्रॉपर्टी को जमींदोज करने पर हुआ खर्च भी वसूलेगी योगी सरकार

बाहुबली अतीक अहमद की अवैध प्रॉपर्टी पर कार्रवाई के बाद अब उससे इस पर आया खर्च भी वसूलने की योगी सरकार तैयारी कर रही है।

पैगंबर पर कार्टून छापने वाली ‘शार्ली एब्दो’ के पुराने कार्यालय के पास चाकू से हमला: 4 घायल, 2 गंभीर

फ्रांस की व्यंग्य मैग्जीन 'शार्ली एब्दो' के पुराने ऑफिस के बाहर एक बार फिर हमले की खबर सामने आई है। हमले में 4 लोग घायल हो गए।

मोइनुद्दीन चिश्ती पर अमीश देवगन की माफी राजस्थान सरकार को नहीं कबूल, कहा- धार्मिक भावनाएँ आहत हुई है

जिस टिप्पणी के लिए पत्रकार अमीश देवगन माफी माँग चुके हैं, उस मामले में कार्रवाई को लेकर राजस्थान सरकार ने असाधारण तत्परता दिखाई है।

ड्रग्स चैट वाले ग्रुप की एडमिन थी दीपिका पादुकोण, दो नंबरों का करती थी इस्तेमाल

ड्रग्स मामले में दीपिका पादुकोण से एनसीबी शनिवार को पूछताछ करने वाली है। उससे पहले यह बात सामने आई है कि ड्रग चैट वाले ग्रुप की वह ए​डमिन थीं।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,036FollowersFollow
324,000SubscribersSubscribe
Advertisements