Tuesday, January 18, 2022
Homeविविध विषयअन्यदावा कमरे का दरवाजा पीटने का, हो रही थी ब्रांड डील पर बात: दीपेश...

दावा कमरे का दरवाजा पीटने का, हो रही थी ब्रांड डील पर बात: दीपेश के व्हाट्सएप मैसेज से सुशांत के सुसाइड पर सवाल

14 जून 2020 को दीपेश सावंत ने सुशांत सिंह के दोस्त कुशल जावेरी को संदेश भेजा और यह संदेश एक ई कॉमर्स डील के संबंध में था। हैरानी की बात यह है कि दीपेश ने सुशांत सिंह की मौत के कुछ ही समय बाद संदेश भेजा था। ठीक उस वक्त जब सुशांत के घर पर मौजूद तमाम लोग बंद दरवाज़ा खटखटाते हुए परेशान हो रहे थे।

सुशांत सिंह राजपूत मामले में एक और नया खुलासा हुआ है। सीबीआई ने जाँच में पाया है कि सुशांत सिंह राजपूत के साथी सिद्धार्थ पिठानी, उनके बावर्ची नीरज और दीपेश सावंत के बयानों में काफी अंतर है।

ख़बरों के मुताबिक़ 14 जून 2020 को दीपेश सावंत ने सुशांत सिंह के दोस्त कुशल जावेरी को संदेश भेजा और यह संदेश एक ई कॉमर्स डील के संबंध में था। हैरानी की बात यह है कि दीपेश ने सुशांत सिंह की मौत के कुछ ही समय बाद संदेश भेजा था। ठीक उस वक्त जब सुशांत के घर पर मौजूद तमाम लोग बंद दरवाज़ा खटखटाते हुए परेशान हो रहे थे।

इसके अलावा 9 से 14 जून के बीच जितनी भी व्हाट्सएप चैट बरामद हुई हैं। उनके आधार पर 14 जून के घटनाक्रम पर कई तरह के सवाल खड़े होते हैं।  

रिपब्लिक टीवी की खबर के मुताबिक़ सुशांत के दरवाज़ा न खोलने पर मचे शोर के बावजूद दीपेश उन्हें एक ब्रांड डील के संबंध में मैसेज कर रहा था। जबकि इसके पहले उसके द्वारा किए गए दावे इस जानकारी से पूरी तरह अलग थे। जिसके बाद 14 जून को हुए घटनाक्रम को लेकर शक का दायरा बढ़ जाता है।

यहाँ तक कि सुशांत के बावर्ची नीरज ने दावा किया था कि सुबह 10:30 बजे आस-पास मौके पर मौजूद लोग परेशान होकर सुशांत का दरवाज़ा खटखटा रहे थे। पिछले हफ्ते सिद्धार्थ पिठानी, नीरज और दीपेश सावंत को पूछताछ के लिए बांद्रा में सुशांत के फ़्लैट ले जाया गया था। यह पूछताछ 13 और 14 जून को हुए घटनाक्रम के संबंध में हुई थी।  

एक ई कॉमर्स कंपनी सुशांत सिंह राजपूत के एक दोस्त कुशल जावेरी के संपर्क में थी। प्राप्त चैट के मुताबिक़ ई कॉमर्स कंपनी सुशांत के साथ एक बड़ी ब्रांड इंडोर्समेंट डील की तैयारी कर रही थी। सुशांत के करीबी दोस्त कुशल ने सुशांत को 9 जून के दौरान ब्रांड डील के संबंध में संदेश भेजा। जिस पर सुशांत ने कहा कि दीपेश इस डील के मामले में बात करेंगे। सुशांत के इस सन्देश से यह बात साफ़ है कि अपनी मौत के 4 दिन पहले भी वह अपने भविष्य को लेकर सक्रिय और आशावादी थे।  

इसके बाद 14 जून को दीपेश सावंत ने सुबह 10:51 बजे इस डील के मामले में कुशल को संदेश भेजा। दीपेश ने अपने संदेश में लिखा, “हाय (Hii) सर, सुशांत सिंह राजपूत ने मुझे आपसे ब्रांड डील (फ्लिपकार्ट) के बारे में बात करने के लिए कहा था।” व्हाट्सएप चैट में सामने आई यह बातचीत नीरज के दावों पर बड़े सवालिया निशान खड़े करती है। जिसके मुताबिक़ वह सुबह 10:30 बजे सुशांत सिंह का दरवाज़ा खटखटा रहा था। इतना ही नहीं 14 जून को हुए घटनाक्रम को लेकर अभी तक कई अलग वर्ज़न सामने आ चुके हैं।  

अभी तक सुशांत सिंह राजपूत की मौत का सही समय सामने नहीं आया है। क्योंकि ऑटोप्सी रिपोर्ट में मौत के समय का कोई ज़िक्र ही नहीं है और मुंबई पुलिस ने इस बारे में कुछ नहीं कहा है। सुशांत के दोस्त कुशल ने ठीक उसी दिन लगभग 2:48 मिनट पर संदेश (रिप्लाई) भेजा ‘भाई सुरक्षित है, प्लीज़ हाँ या ना में बताओ?’ इसके बाद कुशल ने दीपेश को 3:34 पर संदेश भेजा ‘भाई हम बाहर हैं अगर कोई परेशानी हो तो बता सकते हो।’ इस बातचीत से भी कई तरह के सवाल खड़े होते हैं, जो व्यक्ति कथित तौर पर आत्महत्या करने जा रहा है, उसे एक ई कॉमर्स डील की चिंता क्यों हो रही थी।  

पिछले कुछ हफ़्तों में ऐसे तमाम लोग जो सुशांत सिंह को किसी न किसी तरह जानते या पहचानते थे, उन्होंने इस बात को सिरे से खारिज कर दिया है कि वे आत्महत्या कर सकते हैं। ऐसे दावे के पीछे एक नहीं बल्कि कई तरह की वजहें हैं। चाहे सुशांत का अपने काम को लेकर रवैया रहा हो या निजी तौर पर सोचने का तरीका हो। इन सारी बातों में सबसे उल्लेखनीय है सुशांत की 150 पॉइंट्स की विश लिस्ट।  

वहीं सुशांत सिंह राजपूत मामले की जाँच पर बात करें तो आज सीबीआई ने रिया चक्रवर्ती को लगातार चौथे दिन पूछताछ के लिए तलब किया। सीबीआई ने सबसे पहले सुशांत की मानसिक बीमारी को लेकर किए गए रिया चक्रवर्ती के दावों पर पूछताछ की। सीबीआई ने यूरोप यात्रा पर भी सवाल किए जो सुशांत और रिया ने साथ में की थी। इसके अलावा सीबीआई ने रिया चक्रवर्ती से ड्रग्स संबंधी सवाल भी किए थे।  

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘टेलीप्रॉम्पटर में खराबी आते ही PM मोदी बोलना भूल गए’ – कॉन्ग्रेस फैला रही थी झूठ, वीडियो सामने आते ही कौवे ने काटा

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के दावोस एजेंडा समिट में पीएम मोदी द्वारा दिए गए संबोधन की एक क्लिप को शेयर करते हुए कॉन्ग्रेस ने झूठ बोलते हुए...

हिमालय पर मिलने वाला फूल बन सकता है कोराना की ‘बूटी’, IIT में रिसर्च: हरे बंदर की किडनी पर हुआ शोध

बुरांश से निकलने वाले अर्क को रिसर्च में कोविड रोकने में कारगर पाया गया है। इसका इस्तेमाल स्थानीय लोग अच्छे स्वास्थ्य के लिए लंबे समय से करते रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,943FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe