Tuesday, November 30, 2021
Homeविविध विषयअन्यगाय से बिछड़ना नहीं हुआ बर्दाश्त, एक किलोमीटर तक गाड़ी के पीछे भागता रहा...

गाय से बिछड़ना नहीं हुआ बर्दाश्त, एक किलोमीटर तक गाड़ी के पीछे भागता रहा सांड: Video हुआ Viral

कौन कहता है जानवर आपस में प्यार नहीं करते? गाय लक्ष्मी और सांड मंजामलई का प्यार इसका उदाहरण है। जब मालिक ने गाय लक्ष्मी को बेचा और उसे गाड़ी में चढ़ाकर ले जाया जाने लगा तो सांड ने एक किलोमीटर तक दौड़ कर...

तमिलनाडु के मदुरई में एक दिल छू जाने वाली घटना सामने आई है। वहाँ सांड और गाय की दोस्ती का एक अनोखा नजारा उस समय देखने को मिला, जब गाय को गाड़ी में बैठाकर सांड से दूर किया जाने लगा। अपने पास से गाय को दूर जाता देख सांड ने गाड़ी का करीब 1 किलोमीटर तक भागकर पीछा किया और फिर गाड़ी रुकवा कर गाय को देखता रहा।

इस घटना की एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर सामने आई है। वीडियो में हम देख सकते हैं कि सांड लॉरी के पीछे-पीछे भाग रहा है और फिर बाद में गाड़ी रुकवा कर अपना सिर चिपका कर गाड़ी से खड़ा हो गया है।

वीडियो में आप देख सकते हैं कि सांड गाड़ी के आगे पीछे घूम रहा है और सिर्फ़ गाय को ही देख रहा है। गाय और सांड के बीच इस गहरे रिश्ते को देखकर दोनों को वापस मिलवा दिया गया है और उन्हें माला पहना कर उनके साथ तस्वीरें भी खिंचवाईं गई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये घटना 14 जुलाई 2020 को पालमेडु की है। यहाँ चाय की दुकान चलाने वाले मुनियांदिराजा अपनी एक गाय लक्ष्मी और सांड मंजामलई का पालन पोषण करते हैं। वे इस घटना पर बताते हैं कि उन्होंने जब अपनी गाय लक्ष्मी को बेचा तो उसे गाड़ी में चढ़ाकर ले जाया जाने लगा। लेकिन सांड को अलग होने का दर्द बर्दाश्त नहीं हुआ। उसने उस गाड़ी का एक किलोमीटर तक पीछा किया और रोकने का प्रयास किया।

इस घटना को देखकर तमिलनाडु के उप मुख्यमंत्री के बेटे जयप्रदीप ने गाय को वापस से पैसे देकर खरीदा और मंदिर में दान करके वापस से उसे सांड से मिलवा दिया। अब इस घटना की वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। लोगों का कहना है कि कौन कहता है जानवर आपस में प्यार नहीं करते।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe