Thursday, August 5, 2021
Homeविविध विषयअन्यकट्टा पकड़वाने पर ₹1,000, पिस्टल पर ₹5,000: देखें UP पुलिस द्वारा जारी की गई...

कट्टा पकड़वाने पर ₹1,000, पिस्टल पर ₹5,000: देखें UP पुलिस द्वारा जारी की गई रेट लिस्ट

पुलिस को सूचना देने वाले व्यक्ति की पहचान गुप्त रखी जाएगी। अगर सूचना सही पाई जाती है तो पुरस्कार की राशि नगद या खाते में डाली जाएगी।

उत्तर प्रदेश पुलिस अपराध और जुर्म से निपटने के सबसे क्रिएटिव तरीके ईजाद करने में शायद सबसे आगे चल रही है। इस बार एक और पहल कर के UP के बलरामपुर जिले में पुलिस ने आम आदमी को रोजगार का मौका उपलब्ध कराया है। अगर आप घर बैठे अपराध से लड़कर पुलिस की मदद करने का सपना देखते हैं और साथ में पैसा भी कमाना चाहते हैं तो यह मौका आपके लिए है। पुलिस अधीक्षक देवरंजन वर्मा द्वारा जारी एक पैम्फलेट के मुताबिक ‘मुखबिर रोजगार योजना‘ शुरू की गई है। पुलिस पैम्फलेट में विभिन्न प्रकार की सूचनाओं के लिए इनाम राशि भी सूचीबद्ध की गई है। 

क्या है ये मुखबिर योजना?

इस योजना के अंतर्गत अपराधियों और उनकी गतिविधियों की जानकारी देने वालों को पुरस्कार के रूप में धनराशि दी जाएगी। पुलिस ने अलग-अलग मुखबरी का अलग-अलग इनाम तय किया है। इसके मुताबिक चोरी का पता लगाने में मदद करने पर 1,000 रुपए और कट्टा बरामद करवाने में भी 1,000 रुपए मिलेंगे।

अगर आप ज्यादा रुपए कमाना चाहते हैं तो आपको 5,000 रुपए कमाने के लिए बिना लाइसेंस वाली रिवॉल्वर या पिस्तौल की सूचना देनी होगी। पुलिस जब रिवॉल्वर पकड़ लेगी तो 5,000 रुपए का इनाम देगी। सुरक्षा के लिहाज से इस तरह की सूचना को पुलिस अधीक्षक को उनके आधिकारिक मोबाइल नंबर पर दी जा सकती है।

मुखबिर रोजगार योजना’ रेट लिस्ट

सूचना देने वाले की पहचान रखी जाएगी गुप्त

रिपोर्ट्स के अनुसार, पुलिस को सूचना देने वाले व्यक्ति की पहचान गुप्त रखी जाएगी। अगर सूचना सही पाई जाती है तो पुरस्कार की राशि नगद या खाते में डाली जाएगी। पुलिस द्वारा शुरू की गई यह पहली योजना मानी जा रही है। मुखबिरों को पैसा अब तक गुप्त कोष से दिया जाता है जो हर जिले में पुलिस प्रमुख के पास होता है। वर्मा के अनुसार, “हम आम लोगों तक पहुँच बनाने का प्रयास कर रहे हैं, जिनके पास आसपास के क्षेत्र में किसी भी संदिग्ध गतिविधियों के बारे में जानकारी हो सकती है। इसके नतीजे भी आने शुरू हो गए हैं। हम पहले ही इस योजना के माध्यम से आधा दर्जन मामलों पर काम कर चुके हैं, जो अब गाँव और जिले के ग्रामीण अंदरूनी इलाकों में लोकप्रिय हो रही है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आर्टिकल 370 के खात्मे का भारत स्वप्न, जिसे मोदी सरकार ने पूरा किया: जानिए इससे कितना बदला J&K और लद्दाख

आर्टिकल 370 हटाने के मोदी सरकार के ऐतिहासिक फैसले से न केवल जम्मू-कश्मीर में जमीन पर बड़े बदलाव आए हैं, बल्कि दशकों से उपेक्षित लद्दाख ने भी विकास के नए रास्ते देखे हैं।

आखिरी बाजी हार कर भी छा गए रवि दहिया, ओलंपिक में सिल्वर मेडल पाने वाले दूसरे भारतीय पहलवान बने

टोक्यो ओलंपिक 2020 में पुरुषों की 57 किग्रा फ्रीस्टाइल कुश्ती में रेसलर रवि दहिया ने भारत को सिल्वर मैडल दिलाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,091FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe