Tuesday, January 18, 2022
Homeविविध विषयअन्यडिफेंस थी कमजोरी, अब उसी ताकत से ओलंपिक के सेमीफाइनल में पीवी सिंधु: वायरल...

डिफेंस थी कमजोरी, अब उसी ताकत से ओलंपिक के सेमीफाइनल में पीवी सिंधु: वायरल हुई हिंदुत्व में आस्था वाली तस्वीरें

सिंधु की गिनती उन गिने-चुने खिलाड़ियों में भी होती है जो अपनी सनातन पहचान का पालन करने में किसी तरह की हिचकिचाहट महसूस नहीं करती हैं। हालाँकि कई बार उन्हें इसके लिए लिबरल और वामपंथी गिरोह की आलोचनाओं को भी झेलना पड़ा, लेकिन उन्होंने इसे हमेशा ही नजरअंदाज किया।

टोक्यो ओलंपिक में भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु का शानदार प्रदर्शन लगातार जारी है। प्री-क्वॉर्टर फाइनल मुकाबले में डेनमार्क की मिया ब्लिचफेल्ट को हराने के बाद सिंधु अंतिम 8 में पहुँची थीं। यहाँ उनका मुकाबला जापान की अकाने यामागूची से हुआ। दूसरे राउंड के दौरान यामागूची से पिछड़ने के बाद सिंधु ने लगातार 4 प्वाइंट लेते हुए उन्हें मात दी और सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाई। सिर्फ एक और जीत से ओलंपिक में उनका पदक पक्का हो जाएगा।

कमजोरी को बनाई ताकत

कुछ समय पहले तक डिफेंस को सिंधु की कमजोरी माना जाता था। इसके चलते कई बार उन्हें हार का भी सामना करना पड़ा था। लेकिन टोक्यो ओलंपिक में बैडमिंटन के महिला सिंगल्स इवेंट के क्वार्टर फाइनल में सिंधु ने शानदार डिफेंस का प्रदर्शन किया और खेल को अपने नाम किया। गेम के पहले राउंड में 6-6 से बराबरी में रहने के बाद सिंधु ने दमदार स्मैश शॉट्स और क्रॉस कोर्ट शॉट्स की बदौलत बढ़त ले ली और पहला राउंड 21-13 से जीत लिया। दूसरे राउंड में भी सिंधु विपक्षी यामागूची पर हावी रहीं और 12-6 से बढ़त हासिल कर ली। लेकिन यहाँ से यामागूची ने भी सिंधु को कड़ी टक्कर देते हुए 20-18 से आगे हो गईं। अंततः सिंधु ने लगातार 4 प्वाइंटपॉइंट अर्जित किए और दूसरे राउंड को 22-20 पर खत्म करके मुकाबला जीत लिया। सेमीफाइनल में शनिवार (31 जुलाई 2021) को सिंधु का मुकाबला ताइवान की ताई जू यिंग या थाईलैंड की राचानोक इंतानोन में से किसी एक से होगा।

इस जीत के बाद सोशल मीडिया पर पीवी सिंधु की मंदिर में भगवान के दर्शन करते हुए और पारंपरिक रिवाजों का पालन करते हुए कई फोटो शेयर की जा रही हैं। सिंधु उन खिलाड़ियों में से एक हैं जो अक्सर राजनीतिक चर्चाओं से दूर रहती हैं और सिर्फ अपने खेल पर ध्यान देती हैं। सिंधु की गिनती उन गिने-चुने खिलाड़ियों में भी होती है जो अपनी सनातन पहचान का पालन करने में किसी तरह की हिचकिचाहट महसूस नहीं करती हैं। हालाँकि कई बार उन्हें इसके लिए लिबरल और वामपंथी गिरोह की आलोचनाओं को भी झेलना पड़ा, लेकिन उन्होंने इसे हमेशा ही नजरअंदाज किया।

केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल और जी किशन रेड्डी एवं असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने भी सेमीफाइनल में पहुँचने पर सिंधु को बधाई दी है।

हैदराबाद में जन्मी पुसर्ला वेंकटा सिंधु पहली भारतीय हैं जिन्होंने बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप में जीत हासिल की थी। इसके अलावा 2016 के रियो ओलंपिक में भी उन्होंने सिल्वर मेडल जीता था। उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियन गेम्स में भी भारत की ओर से खेलते हुए जीत दर्ज की है। बैडमिंटन में भारत के लिए लगातार अपना योगदान देने के लिए उन्हें अर्जुन अवार्ड, पद्म भूषण, पद्मश्री और राजीव गाँधी खेल रत्न अवार्ड दिया जा चुका है। सेमीफाइनल में पहुँचने के बाद अब पूरे देश की नजर कल होने वाले उस मुकाबले पर है, जहाँ जीत दर्ज करने के बाद टोक्यो ओलंपिक में भी उनका पदक पक्का हो जाएगा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत में 60000 स्टार्ट-अप्स, 50 लाख सॉफ्टवेयर डेवेलपर्स’: ‘वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम’ में PM मोदी ने की ‘Pro Planet People’ की वकालत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार (17 जनवरी, 2022) को 'World Economic Forum (WEF)' के 'दावोस एजेंडा' शिखर सम्मेलन को सम्बोधित किया।

अभिनेत्री का अपहरण और यौन शोषण मामला: मीडिया को रिपोर्टिंग से रोकने के लिए केरल HC पहुँचे मलयालम एक्टर दिलीप, पुलिस को ‘मैडम’ की...

अभिनेत्री के अपहरण और यौन शोषण के मामले में फँसे मलयालम अभिनेता दिलीप ने मीडिया को इस केस की रिपोर्टिंग से रोकने के लिए केरल हाईकोर्ट पहुँचे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,917FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe