Tuesday, June 18, 2024
Homeविविध विषयअन्य'लवलीना बोरगेहेन की कोच अब टीम के साथ, हमने सुलझा ली सारी समस्याएँ': बॉक्सिंग...

‘लवलीना बोरगेहेन की कोच अब टीम के साथ, हमने सुलझा ली सारी समस्याएँ’: बॉक्सिंग कोच ने कहा – सारे खिलाड़ी कॉमनवेल्थ के लिए तैयार

लवलीना बोरगोहेन ने आरोप लगाया है कि उन्हें उत्पीड़न का सामना करना पड़ रहा है और उनके कोचों को परेशान किया जा रहा है जिससे उनके प्रशिक्षण में बाधा आ रही है।

टोक्यो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन ने बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीएफआई) पर मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि उनके साथ गलत हो रहा है।

ओलिंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली पहली असमिया महिला बनी लवलीना फिलहाल बर्मिंघम में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 की तैयारी कर रही हैं, लेकिन बॉक्सर के दावों के मुताबिक बीएफआई उनके साथ गंदी राजनीति कर रही है।

लवलीना ने बीएफआई पर कुछ गंभीर आरोप लगाते हुए हुए ट्वीट किया। बोरगोहेन ने आरोप लगाया है कि उन्हें उत्पीड़न का सामना करना पड़ रहा है और उनके कोचों को परेशान किया जा रहा है जिससे उनके प्रशिक्षण में बाधा आ रही है। लवलीना ने सोमवार को शाम 04:21 बजे किए गए एक ट्वीट के जरिए अपनी आपबीती साझा की।

ट्वीट में लवलीना ने लिखा कि उन्हें और उनके प्रशिक्षण कोचों ने ओलंपिक में पदक दिलाने में मदद की, उन्हें मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है और उनके प्रशिक्षण को बाधित करने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि उनकी कोच संध्या गुरुंगजी, जो द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित हैं, कई अनुरोधों के बाद उनके प्रशिक्षण शिविर से जुड़ी हैं और वह भी बहुत देर से।

उन्होंने आरोप लगाया कि इस तरह की गड़बड़ी प्रशिक्षण को बाधित करती है और उन्हें मानसिक रूप से परेशान करती है। उन्होंने पोस्ट में आगे कहा कि उनके कोच को कॉमनवेल्थ विलेज में प्रवेश से वंचित किया जा रहा है और अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता से ठीक 8 दिन पहले उनका प्रशिक्षण रोक दिया गया है। उन्होंने कहा कि उनके दूसरे कोच को जबरन भारत भेज दिया गया है।

लवलीना ने लोगों से मदद माँगी ताकि इन व्यवधानों और उत्पीड़न की वजह से उनका खेल बर्बाद न हो जाए जो अगले सप्ताह होने वाला है। उन्होंने कहा कि अगर उन्हें गंदी राजनीति से बचाया जाता है तो वह देश के लिए पदक जीतने की उम्मीद करती हैं। हालाँकि, लवलीना ने किसी ऐसे व्यक्ति के नाम का उल्लेख नहीं किया है जो उसके प्रशिक्षण में व्यवधान के लिए जिम्मेदार हो सकता है।

बता दें कि असम के गोलाघाट जिले की एक भारतीय महिला मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन ने महिलाओं के 69 किग्रा वर्ग में तुर्की की शीर्ष वरीयता प्राप्त बुसेनाज सुरमेनेली के खिलाफ क्वार्टर फाइनल में हारने के बाद टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक हासिल किया था।

अपडेट: महिला बॉक्सिंग कोच भाष्कर भट्ट ने बताया कि लवलीना बोरगेहेन की कोच अब टीम के साथ हैं और सारी समस्याएँ सुलझा ली गई हैं। उन्होंने बताया कि ‘बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (BFI)’ और ‘इंडिया ोाल्पिक एसोसिएशन (IOA)’ ने मिल कर इन समस्याओं को सुलझा लिया है।

उन्होंने ये भी कहा कि आगामी कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए सारे बॉक्सर तैयार हैं और हमें उम्मीद है कि हमारे सभी खिलाड़ी देश के लिए मेडल लेकर आएँगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘माँ गंगा ने मुझे गोद ले लिया है, मैं काशी का हो गया हूँ’: 9 करोड़ किसानों के खाते में पहुँचे ₹20000 करोड़, 3...

"गरीब परिवारों के लिए 3 करोड़ नए घर बनाने हों या फिर पीएम किसान सम्मान निधि को आगे बढ़ाना हो - ये फैसले करोड़ों-करोड़ों लोगों की मदद करेंगे।"

दलितों का गाँव सूना, भगवा झंडा लगाने पर महिला का घर तोड़ा… पूर्व DGP ने दिखाया ममता बनर्जी के भतीजे के क्षेत्र का हाल,...

दलित महिला की दुकान को तोड़ दिया गया, क्योंकि उसके बेटे ने पंचायत चुनाव में भाजपा की तरफ से चुनाव लड़ा था। पश्चिम बंगाल में भयावह हालात।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -