Monday, July 15, 2024
Homeविविध विषयअन्यट्रेन से दिया धक्का, हाथ-पैर कट गए, इलाज के दौरान बड़े भाई की मौत;...

ट्रेन से दिया धक्का, हाथ-पैर कट गए, इलाज के दौरान बड़े भाई की मौत; फिर भी एक दर्जी के बेटे ने ‘तीन ऊँगली’ से UPSC किया क्रैक

यूपीएससी की परीक्षा में सूरज तिवारी ने 917वीं रैंक हासिल की है। सूरज के दोनों पैर नहीं हैं। एक हाथ भी नहीं है। एक हाथ में केवल तीन ऊँगलियाँ बची है। पर आर्थिक कमजोरी और दिव्यांगता को उन्होंने अपने रास्ते का रोड़ा नहीं बनने दिया।

23 मई 2023 को संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने सिविल सर्विस परीक्षा 2022 के परिणामों की घोषणा की थी। इसके बाद इस परीक्षा को पास करने वाले लोगों की कहानियाँ सामने आ रही हैं। इनमें से कई बेहद प्रेरक हैं। ऐसी ही एक कहानी सूरज तिवारी की भी है।

उत्तर प्रदेश के मैनपुरी के रहने वाले सूरज तिवारी ने तीन ऊँगलियों से यह परीक्षा पास की है। एक ट्रेन हादसे में उनके हाथ-पैर कट गए थे। इलाज के दौरान ही उनके बड़े भाई की मृत्यु हो गई थी। पिता दर्जी हैं तो परिवार की आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं है। पर इनमें से कोई भी मुसीबत सूरज के हौसलों के आगे टिक नहीं पाई।

यूपीएससी की परीक्षा में सूरज तिवारी ने 917वीं रैंक हासिल की है। सूरज के दोनों पैर नहीं हैं। एक हाथ भी नहीं है। एक हाथ में केवल तीन ऊँगलियाँ बची है। पर आर्थिक कमजोरी और दिव्यांगता को उन्होंने अपने रास्ते का रोड़ा नहीं बनने दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, 2017 में गाजियाबाद के दादरी में सूरज एक ट्रेन दुर्घटना के शिकार हो गए थे। बताते हैं कि उन्हें किसी ने ट्रेन से धक्का दे दिया था। इसके बाद वह चार महीने तक अस्पताल में रहे और करीब तीन माह तक बेड रेस्ट किया। फिर उन्होंने 2018 में जवाहर लाल यूनिवर्सिटी (JNU) में बीए में दाखिला लिया। वहाँ से 2021 में बीए पास किया और एमए में प्रवेश लिया। इसके बाद यूपीएससी की तैयारी शुरू की।

सूरज की सफलता से उनके माता-पिता बेहद खुश हैं। पिता रमेश कुमार तिवारी ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया, “मैं आज बहुत खुश हूँ। मेरे बेटे ने मुझे गौरवान्वित किया है। घटना के बाद भी उसका मन कभी छोटा नहीं हुआ। वह हमेशा कहता था कि आप लोग घबराइए मत। वह बहुत बहादुर है। उसकी तीन ऊँगलियाँ सफल होने के लिए काफी हैं। सूरज जैसा बेटा हर घर में पैदा हो।”

सूरज की माँ आशा देवी तिवारी कहती हैं, “मेरा बेटा बहुत बहादुर है। सूरज ने कभी हार नहीं मानी और अपने जीवन में सफल होने के लिए कड़ी मेहनत की। शुरू से ही उसके हौसले बुलंद थे। घटना के बाद भी उसने कभी हिम्मत नहीं हारी, बल्कि उसने हमें ही हौसला दिलाया कि आप चिंता मत करिए, मैं बहुत पैसा कमाऊँगा। वह हमेशा अपने छोटे भाई-बहनों को कड़ी मेहनत करने के लिए कहता है।”

बता दें कि सूरज के पिता पेशे से टेलर हैं। सिलाई कर परिवार का भरण-पोषण करते हैं। रमेश तिवारी के बड़े बेटे राहुल तिवारी का निधन हो चुका है। छोटा बेटा राघव तिवारी बीएससी और और बेटी प्रिया बीटीसी कर रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

मंगलौर के बहाने समझिए मुस्लिमों का वोटिंग पैटर्न: उत्तराखंड की जिस विधानसभा से आज तक नहीं जीता कोई हिन्दू, वहाँ के चुनाव परिणामों से...

मंगलौर में हाल के विधानसभा उपचुनावों में कॉन्ग्रेस ने भाजपा को हराया। इस चुनाव में मुस्लिम वोटिंग का पैटर्न भी एक बार फिर साफ़ हो गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -