Sunday, April 14, 2024
Homeविविध विषयअन्य'पिच पर ये रीढ़विहीन लोग नहीं, हम खेलते हैं': शमी के बचाव में बोले...

‘पिच पर ये रीढ़विहीन लोग नहीं, हम खेलते हैं’: शमी के बचाव में बोले कोहली – सामने बोलने की हिम्मत नहीं, पीछे फ्रस्ट्रेशन निकालते हैं

विराट कोहली ने कहा कि लोग सिर्फ अपना फ्रस्ट्रेशन निकाल रहे हैं और उन्हें पता तक नहीं है कि हम मैदान पर क्या करते हैं। उन्होंने कहा कि लोगों को पता तक नहीं है कि मोहम्मद शमी ने भारत को कितने ही मैच जिताए हैं।

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने तेज़ गेंदबाज मोहम्मद शमी को कथित रूप से ट्रोल किए जाने को लेकर अपना विरोध दर्ज कराया है। उन्होंने ऐसे लोगों को ‘रीढ़विहीन’ बताते हुए कहा कि उनके लिए किसी का मजाक बनाना मनोरंजन का जरिया हो गया है। उन्होंने कहा कि ये प्रकरण हतोत्साहित करने वाला है। बता दें कि T20 विश्व कप में पाकिस्तान के हाथों भारत की 10 विकेट से हार के बाद मोहम्मद शमी को ‘मुस्लिम होने के कारण ट्रोल किए जाने’ का नैरेटिव चलाया गया था।

विराट कोहली ने इस पर टिप्पणी करते हुए कहा, “मैं कहता हूँ कि कोई व्यक्ति सबसे बुरा काम अगर कर सकता है तो वो ये है कि किसी को उसके मजहब के आधार पर निशाना बनाना। हर किसी को अपने विचारों को प्रकट करने का अधिकार है और ये बताने का कि किसी परिस्थिति को लेकर वो क्या सोचते हैं। मैं व्यक्तिगत रूप से मजहब के आधार पर किसी के साथ भेदभाव करने की सोच भी नहीं सकता। हर एक मनुष्य के लिए एक एक बेहद ही पवित्र और व्यक्तिगत चीज है।”

मैच से पहले होने वाले एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में विराट कोहली ने कहा कि लोग सिर्फ अपना फ्रस्ट्रेशन निकाल रहे हैं और उन्हें पता तक नहीं है कि हम मैदान पर क्या करते हैं। उन्होंने कहा कि लोगों को पता तक नहीं है कि मोहम्मद शमी ने भारत को कितने ही मैच जिताए हैं। खेल में असर छोड़ने के मामले में विराट कोहली ने मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह को भारत का प्रमुख गेंदबाज करार दिया। उन्होंने कहा कि अगर लोग इसे नज़रअंदाज़ करते हैं और देश के प्रति उनके जोश को नहीं देखते हैं, तो मैं ऐसे लोगों पर अपना एक मिनट भी बर्बाद नहीं करना चाहता।

विराट कोहली ने कहा, “ये एक अच्छा कारण है कि पिच पर हम लोग खेलते हैं, सोशल मीडिया के ‘रीढ़विहीन’ कायर लोग नहीं, जिन्हें किसी के सामने कुछ कहने की हिम्मत नहीं है लेकिन सोशल मीडिया पर किसी अन्य पहचान में छिप कर ये सब करते हैं। ये किसी व्यक्ति की क्षमता का सबसे निचला स्तर हो सकता है और मैं इन लोगों को वैसे ही देखता हूँ। हमें समझ है कि मैदान पर क्या करना है और और मैदान के बाहर कैरेक्टर और मानसिक मजबूती के लिए क्या करना है।”

विराट कोहली ने कहा कि ट्रोल करने वाले सोशल मीडिया के लोग ये सब करने की सोच भी नहीं सकते। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों के पास कुछ करने का न तो साहस है और न ही क्षमता, और उन्हें इसी रूप में देखा जाना चाहिए। बकौल विराट कोहली, आत्मविश्वास की कमी वाले लोगों ने अपने फ्रस्ट्रेशन को निकालने के लिए ये ‘ड्रामा’ रचा। उन्होंने कहा कि हमें एक समूह के रूप में एक-दूसरे का साथ देकर अपनी मजबूरी पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है और बाहर लोग क्या सोचते हैं इससे हमें कोई फर्क नहीं पड़ता।

बता दें कि शमी को निशाना बनाने वाले ज्यादातर ट्वीट्स पाकिस्तान के थे। ऐसा सामने आया है कि ये पाकिस्तान की सोशल मीडिया हैंडलों द्वारा रची गई साजिश थी। यह भारत को नीचा दिखाने की उनकी एक चाल थी। शमी की आलोचना करने वाले ट्वीट्स उतने विजिबल नहीं थे और दूसरों की तरह चुनिंदा पेजों तक ही सीमित थे लेकिन शमी की आलोचना पर हमला करने वाले चुनिंदा ट्वीट्स की ज्यादा विजिबिलिटी थी। यह अभी भी कई लोगों के लिए एक रहस्य है क्योंकि कहीं भी शमी विरोधी ट्वीट या सोशल मीडिया पोस्ट दिखाई नहीं दे रहे थे। मतलब, कुछ ही हैंडल थे, जो शमी के खिलाफ अभद्र टिप्पणियों में लिप्त थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पत्थरबाजी, उन्मादी नारे… ‘डोरमैट पर काबा प्रिंट है’ कह उतावली हुई मुस्लिम भीड़: यूपी पुलिस की सक्रियता से टली बड़ी वारदात, दुकानदार बोले –...

मुस्लिम बाहुल्य उतरौला बाजार में पुलिस की सक्रियता के चलते एक बड़ी अनहोनी टल गई। पुलिस 50-60 अज्ञात हमलावरों के खिलाफ FIR दर्ज कर के दबिश दे रही।

जनजातीय समाज से राष्ट्रपति, बाबसाहेब के स्थल विकसित होकर बने पंचतीर्थ, भगवान बिरसा मुंडा की जयंती गौरव दिवस: MP में PM मोदी ने बताया...

"कॉन्ग्रेस ने जनजातीय समाज के योगदान को कभी भी स्वीकार नहीं किया, जबकि भगवान बिरसा मुंडा के जन्मदिवस को 'राष्ट्रीय जनजातीय गौरव दिवस' के रूप में घोषित करने का सौभाग्य भी भाजपा सरकार को मिला है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe