Thursday, June 13, 2024
Homeविविध विषयअन्यपूनम पांडे का शौहर था सैम अहमद, शराब पीकर दिन-रात मारता था… अस्पताल में...

पूनम पांडे का शौहर था सैम अहमद, शराब पीकर दिन-रात मारता था… अस्पताल में होना पड़ा था एडमिट: सर्वाइकल कैंसर से मौत के बाद चर्चा में प्रताड़ना

पूनम पांडे का 2 फरवरी 2024 को सर्वाइकल कैंसर निधन हो गया। रिसर्च बताती हैं कि एब्यूसिव रिलेशन भी एक कारण सर्वाइकल कैंसर का होता है क्योंकि ऐसे रिश्तों में महिलाएँ जबरन गर्भनिरोधक गोलियाँ खाती हैं, जिनके कारण इस बीमारी का खतरा बढ़ता है।

पूनम पांडे जीवित हैं, उनकी मृत्यु नहीं हुई है। वह और उनकी टीम ने अपनी मौत का नाटक रचा था। इससे संबंधित रिपोर्ट यहाँ पढ़ें। पुरानी रिपोर्ट (उनकी टीम द्वारा झूठ पर आधारित) नीचे है।

फिल्म अभिनेत्री पूनम पांडे का आज 2 फरवरी 2024 को सर्वाइकल कैंसर निधन हो गया। मात्र 32 साल की उम्र में दुनिया छोड़ने वाली पूनम पांडे पिछले कुछ सालों से काफी विवादों से घिरी थीं। उनका शादी-शुदा जीवन में तो दिक्कत शादी के 11 दिन बाद से ही आने लगी थी। बाद में उन्होंने लॉक अप में जाकर खुलासा भी किया था कि उनका शौहर उन्हें सुबह से शाम तक मारता था। जानने वाली बात ये है कि एक एब्यूसिव रिलेशन (जहाँ महिला परेशान होकर गर्भनिरोधक पिल्स लेने लगे) भी इस बीमारी का एक कारण बनता है। यह शोध में भी साबित हुआ है।

सैम अहमद और पूनम पांडे

सैम अहमद से पूनम पांडे ने गुपचुप ढंग से सितंबर 2020 में शादी की थी और 22 सितंबर को खबर आई कि घरेलू हिंसा मामले में गोवा पुलिस ने सैम अहमद को गिरफ्तार किया है। पूनम ने आरोप लगाया था कि सैम ने उन्हें मारा और फिर अंजाम भुगतने की भी दी। साल 2022 में खबर आई कि उन्होंने सैम से तलाक ले लिया है और 5 साल तक किसी के साथ रिश्ते में नहीं रहना चाहतीं थीं। उन्होंने लॉक अप में आने के वक्त यह खुलासा किया था कि उनका शौहर उन्हें सुबह से शाम तक मारता था, उन्हें कंट्रोल करता था, अकेले रहने की इजाजत नहीं देता था, फोन भी इस्तेमाल करने पर गुस्सा होता था।

इस घरेलू हिंसा के कारण वो ब्रेन हैमरेज का भी शिकार हुईं थीं। उन्होंने लॉक अप में करणवीर से बात करते हुए कहा था, “सैम ने मेरे साथ बस 1 बार मारपीट नहीं की, मेरी ब्रेन इंजरी (अपने सिर के बाएँ तरफ इशारा करते हुए) अभी तक ठीक नहीं हुई है, क्योंकि वो मुझे उसी जगह पर बार-बार पीटते थे। मैं लोगों के सामने मेकअप, ग्लॉस लगाती थी और हँसती थी। मैं उनके सामने काफी कूल बनती थी।”

पायरल रोहतगी को उन्होंने बताया था कि उन्हें कभी नहीं पता चला कि सैम उनको क्यों मारता था। इस दौरान उन्होंने सैम अहमद की शराब पीने की गंदी लत का भी जिक्र किया था। उन्होंने कहा था, “अगर कोई इंसान सुबह 10 बजे से शराब पीना शुरू कर देता है और देर रात तक पीता रहता है और रात में आपको बचाने के लिए कोई नहीं है तो आप क्या कर सकते हैं। स्टाफ तक डर कर भाग जाता था।”

पूनम पांडे, सर्वाइकल कैंसर और कारण

पूनम पांडे को कुछ समय पहले ही पता चला था कि वो सर्वाइकल कैंसर से पीड़ित हैं। लेकिन उनके अपने एक्स-हस्बैंड सैम अहमद से बुरे रिश्ते पहले से चर्चा में थे। ऐसे में उनके निधन के बाद उन्हें शादीशुदा जीवन में दी गई प्रताड़ना चर्चा में हैं। दरअसल, खराब और प्रताड़ित वैवाहिक जीवन के कारण महिलाओं को बहुत कुछ झेलना पड़ता है। इस कारण उनका मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य दोनों पर असर पड़ता है।

वैवाहिक जीवन जब सामान्य के बजाय प्रताड़ित हो तो महिलाएँ जबरन गर्भपात, गर्भनिरोधक गोलियाँ या मॉर्निंग आफ्टर पिल्स (सामान्य गर्भनिरोधक गोलियों से अलग, ज्यादा हानिकारक) का शिकार होती हैं, आदत पड़ जाती है। इससे उनके शरीर पर असर पड़ता है। यह सर्वाइकल कैंसर का कारण भी बनता है।

इंग्लैंड की कैंसर रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन के अनुसार गर्भनिरोधक गोलियों के सेवन से सर्वाइकल कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है। अमेरिकी रिसर्च संस्था गटमाशेर का शोध भी सर्वाइकल कैंसर को बढ़ाने की एक वजह गर्भनिरोधक गोलियों को मानता है। इन शोधों से पता चलता है कि अगर किसी ने लंबे समय तक गर्भनिरोधक गोलियाँ खाई हैं, तो उसे सर्वाइकल कैंसर होने के चांस ज्यादा हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -