Friday, December 2, 2022
Homeविविध विषयअन्यझटकों के बाद व्हाट्सएप ने ‘प्राइवेसी अपडेट’ टाला, बढ़ती लोकप्रियता के बीच डाउन हुआ...

झटकों के बाद व्हाट्सएप ने ‘प्राइवेसी अपडेट’ टाला, बढ़ती लोकप्रियता के बीच डाउन हुआ सिग्नल

“8 फरवरी को किसी का भी अकाउंट सस्पेंड या डिलीट नहीं होगा। हम प्राइवेसी और सुरक्षा को लेकर फैली गलत जानकारी दूर करने के लिए काम कर रहे हैं।”

व्हाट्सएप ने अपनी प्राइवेसी पॉलिसी (privacy policy) को लेकर फिर से बड़ा ऐलान किया है। शुक्रवार (15 जनवरी 2021) को किए गए ऐलान में व्हाट्सएप ने कहा कि वह फ़िलहाल अपना ‘प्राइवेसी अपडेट’ टाल रहा है। जिससे यूज़र्स को अपडेट समझने और उसकी समीक्षा करने का पर्याप्त समय मिल सके। इसकी वजह से बड़ी संख्या में यूज़र्स ने मेसेजिंग एप ‘सिग्नल’ का रुख किया था। लेकिन तकनीकी कारणों से दुनियाभर में वह डाउन हो गया है। इसके कारण यूजर्स को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

व्हाट्सएप का कहना है कि यह कदम इसलिए उठाया जा रहा है क्योंकि यूज़र्स के बीच नए अपडेट को लेकर काफी गलत जानकारियाँ पैदा हो गई थीं। कंपनी के मुताबिक़, “8 फरवरी को किसी का भी अकाउंट सस्पेंड या डिलीट नहीं होगा। हम प्राइवेसी और सुरक्षा को लेकर फैली गलत जानकारी दूर करने के लिए काम कर रहे हैं।” 

दरअसल इस महीने व्हाट्सएप यूज़र्स के पास एक नोटिफिकेशन आया था जिसके तहत व्हाट्सएप के पास यूज़र्स की जानकारी फेसबुक एप से साझा करने का अधिकार होगा। इसके अलावा अपडेट में ‘बिज़नेस फीचर्स’ (business features) भी शामिल किए गए थे। इस अपडेट को लेकर दुनिया भर में विरोध हुआ, नतीजतन अब व्हाट्सएप ने इसे टालने की बात कही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ अब यह प्राइवेसी अपडेट मई तक जारी किया जा सकता है। 

दूसरी तरफ सिग्नल के विकल्प का चुनाव करने वाले यूज़र्स का कहना है कि इससे मोबाइल और डेस्कटॉप दोनों पर ही संदेश (मैसेज) भेजने में परेशानी आ रही है। इस समस्या को लेकर कंपनी का कहना है कि वह तकनीकी समस्या का हल निकालने के में लगे हुए हैं और जल्द से जल्द समाधान निकालेंगे। यूज़र्स की प्राइवेसी का उल्लेख करते हुए कंपनी ने लिखा, “आज हमारे द्वारा लगाए गए सारे आशावादी अनुमानों से ज़्यादा प्रतिक्रिया मिली है। लाखों यूज़र्स हमें संदेश भेज रहे हैं कि प्राइवेसी महत्वपूर्ण है। हम आपके धीरज को समझते हैं। बहुत जल्द हमारी ऑनलाइन सेवा अच्छे से काम करेगी।”    

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मंदिर की जमीन पर शव दफनाने की अनुमति नहीं’: मद्रास हाईकोर्ट ने दिया अतिक्रमण हटाने का निर्देश

मद्रास हाईकोर्ट ने कहा कि शवों को दफनाने के लिए मंदिर की जमीनों का उपयोग नहीं किया जा सकता। कोर्ट ने अतिक्रमण हटाने का आदेश दिया है।

हिंदुओं के 40 साल तक अवैध पार्टनर, मुस्लिम फॉर्मूला से 18 साल में लड़की की शादी करो… उपजाऊ जमीन में बीज बोओ: बदरुद्दीन अजमल

"आप उपजाऊ जमीन में बीज बोएँगे तभी खेती अच्छी होगी। 18-20 साल की उम्र में लड़कियों की शादी करा दो और फिर देखो कितने बच्चे पैदा होते हैं।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,564FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe