Wednesday, July 6, 2022
Homeविविध विषयअन्यविश्व बैंक ने भारत की जीडीपी ग्रोथ 2021-22 अनुमान को 5.4% से बढ़ाकर किया...

विश्व बैंक ने भारत की जीडीपी ग्रोथ 2021-22 अनुमान को 5.4% से बढ़ाकर किया 10.1%: अर्थव्यवस्था की रफ्तार हुई दुगुनी

विश्व बैंक ने ये यह भी कहा कि 2021 में सरकारी निवेश 16.7% बढ़ेगा। वैक्सीनेशन की तेजी के साथ व्यापार गतिविधियाँ, निवेश और माँग के बढ़ने की भी उम्मीद है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2020 में दक्षिण एशिया क्षेत्र में भारत ही एक मात्र ऐसा देश था जहाँ प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) में बढ़ोत्तरी देखने को मिली।

विश्व बैंक ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए भारत की जीडीपी वृद्धि दर के अनुमान को 4.7% बढ़ाकर 10.1% किया है। इस अनुमान के पीछे निजी उपभोग की वृद्धि एवं निवेश को कारण बताया गया है। इससे पहले जनवरी में विश्व बैंक ने ही भारत की जीडीपी वृद्धि दर को 5.4% बताया था। हालाँकि, विश्व बैंक ने आगामी संकटों को ध्यान में रखते हुए वृद्धि दर की एक रेंज निश्चित की है जो 7.5-12.5 फीसदी है।

दक्षिण एशिया की आर्थिक स्थिति पर आधारित एक रिपोर्ट में विश्व बैंक ने बताया है कि वृद्धि दर वैक्सीनेशन कार्यक्रम, नीतिगत निर्णयों और वैश्विक अर्थव्यवस्था पर निर्भर करती है।

विश्व बैंक ने ये यह भी कहा कि 2021 में सरकारी निवेश 16.7% बढ़ेगा। वैक्सीनेशन की तेजी के साथ व्यापार गतिविधियाँ, निवेश और माँग के बढ़ने की भी उम्मीद है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2020 में दक्षिण एशिया क्षेत्र में भारत ही एक मात्र ऐसा देश था जहाँ प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) में बढ़ोत्तरी देखने को मिली। इस बढ़ोत्तरी के कारण विकासशील देशों में निवेश के क्षेत्र में भारत ने अपना एक अलग स्थान बनाया।

आईटी, ई-कॉमर्स, डाटा प्रोसेसिंग और डिजिटल पेमेंट जैसे क्षेत्र जीडीपी वृद्धि में भरपूर योगदान दे रहे हैं। एफडीआई, पूँजीगत इनफ्लो और आयात में कमी के कारण अंतर्राष्ट्रीय फॉरेक्स रिजर्व 2019 के मुकाबले लगभग दोगुना हो चुका है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अभिव्यक्ति की आज़ादी सिर्फ हिन्दू देवी-देवताओं के लिए क्यों?’: सत्ता जाने के बाद उद्धव गुट को याद आया हिंदुत्व, प्रियंका चतुर्वेदी ने सँभाली कमान

फिल्म 'काली' के पोस्टर में देवी को धूम्रपान करते हुए दिखाया गया है। जिस पर विरोध जताते हुए शिवसेना ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हिंदू देवताओं के लिए ही क्यों?

‘किसी और मजहब पर ऐसी फिल्म क्यों नहीं बनती?’: माँ काली का अपमान करने वालों पर MP में होगी कार्रवाई, बोले नरोत्तम मिश्रा –...

"आखिर हमारे देवी देवताओं पर ही फिल्म क्यों बनाई जाती है? किसी और धर्म के देवी-देवताओं पर फिल्म बनाने की हिम्मत क्यों नहीं हो पाती है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,883FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe