Monday, May 20, 2024
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीसाड़ी चैलेंज जैसे ट्रेंड का हिस्सा बनने से पहले जान लें डीप न्यूड पोर्न...

साड़ी चैलेंज जैसे ट्रेंड का हिस्सा बनने से पहले जान लें डीप न्यूड पोर्न के बारे में: एक ऐसी वेबसाइट जो कर रही है तस्वीरों का गलत इस्तेमाल

ये लोग शादीशुदा पुरुषों को भी अपना निशाना बना रहे हैं। ताकि हनी ट्रैप में फँसा कर, उनसे चैट करके, तस्वीरें मँगवाकर, उनसे वसूली कर सकें और उन्हें ब्लैकमेल कर सके।

महाराष्ट्र की साइबर सेल ने डीप न्यूड जैसी वेबसाइट और उसके कई संस्करणों के ख़िलाफ़ सूचना देते हुए आम जनता को चेताया है। जानकारी के मुताबिक ऐसी वेबसाइट्स सोशल मीडिया से किसी के भी द्वारा अपलोड की गई नॉर्मल फोटो को उठाती हैं और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का प्रयोग करके उस तस्वीर को नग्न तस्वीर बनाती हैं। बाद में इनका प्रयोग वसूली, पोर्नोग्राफी और ब्लैकमेलिंग आदि के लिए किया जाता है।

द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार एक साइबर पुलिस अधिकारी ने चेतावनी दी, ”साड़ी चैलेंज जैसे हालिया ट्रेंड, जिनमें महिलाएँ अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर अपनी तस्वीरें अपलोड करती हैं और अपने दोस्तों को टैग करती हैं, एक चेन बनाती हैं। वे आपराधिक तत्वों को डीप न्यूड जैसी वेबसाइटों का इस्तेमाल करने का मौका देती हैं। इसलिए इन वेबसाइटों से बचने के लिए बेहतर है सोशल मीडिया पर प्राइवेसी सेटिंग का प्रयोग किया जाए, ताकि अजनबियों को अपनी तस्वीरों तक पहुँचने से रोका जा सके।”

डीप न्यूड: साइबर क्रिमिनल्स ने फिर शुरू किया बिजनेस

बता दें मौजूदा जानकारी के अनुसार जिन विवादित प्लैटफॉर्म्स ने पिछले साल इन सब चीजों पर काम करना बंद कर दिया था, उन्होंने फिर से इस काम को अपना व्यापार बना लिया है। यानी भारतीय साइबर क्रिमिनल एक बार फिर सोशल मीडिया के जरिए आम यूजर्स को अपना शिकार बनाने के लिए ऐसी तस्वीरों का प्रयोग कर रहे हैं। इसके अलावा ये लोग शादीशुदा पुरुषों को भी अपना निशाना बना रहे हैं। ताकि हनी ट्रैप में फँसा कर, उनसे चैट करके, तस्वीरें मँगवाकर, उनसे वसूली कर सकें और उन्हें ब्लैकमेल कर सके। 

महाराष्ट्र साइबर सेल के एसपी बलसिंघ राजपूत ने बताया कि इन साइटों की निगरानी के लिए एक टीम का गठन किया गया था ताकि गंभीर अपराध के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा सके।

सोशल मीडिया पर तस्वीरें डालने का खतरा

उल्लेखनीय हैं कि रिपोर्ट के अनुसार, महिलाओं द्वारा सोशल मीडिया पर साझा की गई तस्वीरों को साइबर क्रिमिनल्स अपराधों अंजाम देने के लिए सबसे जल्दी इस्तेमाल करते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक डीप न्यूड जैसी वेबसाइट्स से सबसे बुरा खतरा ये है कि इनके अलग-अलग संस्करण मौजूद हैं। हिंदू रिपोर्ट में मुताबिक इनके संस्करण एक ऐप और यहाँ तक ​​कि एक ट्विटर हैंडल में भी शामिल है। 

बता दें, इससे पहले, सिंगापुर सरकार ने ऑनलाइन वीडियो के लिए जूम वीडियो कम्युनिकेशंस इंक की कॉन्फ्रेंसिंग ऐप के उपयोग को निलंबित कर दिया था, क्योंकि हैकर्स ने उसमें चालू एक लेसन (पाठ) को हाईजैक कर लिया था और बाद में छात्रों को अश्लील तस्वीरें दिखाए थे। जिसके बद सिंगापुर के शिक्षा मंत्रालय ने इसे गंभीर घटना बताया था और इस संबंध में 9 अप्रैल को कहा था कि वह विच्छेद की जाँच की जाँच कर रही हैं। इसके बाद सिंगा पुर के शिक्षकों ने भी ये शिकायत की थी कि कुछ अंजान लोग अचानक ऐप से जुड़ गए और नारे लगाने लगे। बता दें ताइवान ने भी इस ऐप को बैन कर दिया था और भारत सरकार ने ने भी कहा था कि ये ऐप इस्तेमाल के लिए सुरक्षित नहीं हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत में 1300 आइलैंड्स, नए सिंगापुर बनाने की तरफ बढ़ रहा देश… NDTV से इंटरव्यू में बोले PM मोदी – जमीन से जुड़ कर...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आँकड़े गिनाते हुए जिक्र किया कि 2014 के पहले कुछ सौ स्टार्टअप्स थे, आज सवा लाख स्टार्टअप्स हैं, 100 यूनिकॉर्न्स हैं। उन्होंने PLFS के डेटा का जिक्र करते हुए कहा कि बेरोजगारी आधी हो गई है, 6-7 साल में 6 करोड़ नई नौकरियाँ सृजित हुई हैं।

कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपने ही अध्यक्ष के चेहरे पर पोती स्याही, लिख दिया ‘TMC का एजेंट’: अधीर रंजन चौधरी को फटकार लगाने के बाद...

पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस का गठबंधन ममता बनर्जी के धुर विरोधी वामदलों से है। केरल में कॉन्ग्रेस पार्टी इन्हीं वामदलों के साथ लड़ रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -