अब इंसानों के शरीर में धड़केगा सुअर का दिल: ब्रिटेन का पहला सफल हार्ट ट्रांसप्लांट करने वाले डॉक्टर का दावा

सुअर के अंगों का आकार इंसान के अंगों की तरह ही होता है, इसलिए इसे इंसान के लिए सही माना जा रहा है। डॉक्टर टेरेन्स का कहना है कि...

जल्द ही ऐसा मुमकिन है कि एक सुअर का दिल किसी इंसान के अंदर धड़के। यह बात सुनने में जरूर अटपटी लग सकती है, लेकिन ब्रिटेन के नामचीन डॉक्टर सर टेरेन्स इंग्लिश का कहना है कि सिर्फ 3 साल के भीतर सुअर के दिलों को इंसानों में ट्रांसप्लांट करना संभव हो सकता है। 40 साल पहले ब्रिटेन का पहला सफल हार्ट ट्रांसप्लांट करने वाले डॉक्टर टेरेन्स का कहना है कि इस तकनीक से हृदय रोगियों को एक नई जिंदगी मिल सकती है।

हालाँकि, उन्होंने कहा कि इससे पहले सुअर की किडनी इंसानों के अंदर लगाई जाएगी। दरअसल, दुनिया भर में ह्यूमन ऑर्गन्स की जितनी माँग है, उतने डोनर नहीं मिल पाते। जिसकी वजह से उनकी मौत हो जाती है। इसी के मद्देनज़र दुनिया को कुछ बेहतर देने की कोशिश में मेडिकल वर्ल्ड में नए-नए एक्सपेरिमेंट किए जा रहे हैं। वैज्ञानिक इस ओर तेजी से कदम बढ़ा रहे हैं। गंभीर बीमारी से जूझ रहे लोगों के शरीर में सुअर का दिल लगाने की संभावना काफी ज्यादा बढ़ गई है।

चूँकि, सुअर के अंगों का आकार इंसान के अंगों की तरह ही होता है, इसलिए इसे इंसान के लिए सही माना जा रहा है। डॉक्टर टेरेन्स का कहना है कि जानवरों के अधिकारों के लिए काम करने वाले लोग इसका विरोध कर सकते हैं, लेकिन क्या यह अच्छा नहीं होगा कि इस प्रक्रिया का इस्तेमाल करके इंसान को बचाया जा सकेगा।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सुब्रमण्यम स्वामी
सुब्रमण्यम स्वामी ने ईसाइयत, इस्लाम और हिन्दू धर्म के बीच का फर्क बताते हुए कहा, "हिन्दू धर्म जहाँ प्रत्येक मार्ग से ईश्वर की प्राप्ति सम्भव बताता है, वहीं ईसाइयत और इस्लाम दूसरे धर्मों को कमतर और शैतान का रास्ता करार देते हैं।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,510फैंसलाइक करें
42,773फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: