Saturday, April 17, 2021
Home विविध विषय विज्ञान और प्रौद्योगिकी श्रम ऐप (ShramApp): लॉकडाउन में बेरोजगार श्रमिकों, प्रवासी मजदूरों को उपलब्ध कराएगा रोजगार, है...

श्रम ऐप (ShramApp): लॉकडाउन में बेरोजगार श्रमिकों, प्रवासी मजदूरों को उपलब्ध कराएगा रोजगार, है बिल्कुल FREE

श्रम ऐप से काम पाना काफी आसान है। इसके लिए बस आपको अपने फोन में प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से इस ऐप को डाउनलोड करना है, अपना नाम और काम से जुड़ी जानकारी अपलोड कर देना है। यह सभी के लिए नि:शुल्क है।

कोरोना वायरस के बीच जब लॉकडाउन हुआ तो प्रवासी मजदूर, श्रमिक अलग-अलग राज्यों से मजबूरन वापस उत्तर प्रदेश लौटने लगे। कोरोना वायरस के चलते देश में बेरोजगारी जैसी समस्या उत्पन्न हो गई। इसका सबसे ज्यादा प्रभाव दूसरे राज्यों में काम कर रहे मजदूरों पर पड़ रहा है, जिनके पास काम न होने से परिवार को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इन श्रमिकों को काम देने के लिए प्रशासन की ओर से निर्देश दिए गए हैं और सरकार अपनी तरफ से कोशिश भी कर रही है।

अब जब धीरे-धीरे लॉकडाउन खुल रहा है, तो छोटे-बड़े लगभग सभी कारोबार खुल रहे हैं। मगर काम करने वाले मजदूर गायब हैं। ऐसा नहीं है कि उन्हें काम की जरूरत नहीं है। सच्चाई यह है कि न तो श्रमिकों को काम का पता मिल पा रहा है और न ही काम देने वालों को श्रमिकों का। श्रमिकों और काम देने वालों के बीच की इस दूरी को पाटने का काम किया है- श्रम ऐप (Shram App) ने।

बता दें कि श्रम ऐप से काम पाना काफी आसान है। इसके लिए बस आपको अपने फोन में प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से इस ऐप को डाउनलोड करना है और अपना नाम और काम से जुड़ी जानकारी को अपलोड कर देना है। श्रम ऐप पर घर में रोज के काम जैसे- प्लंबर, इलेक्ट्रीशियन, टेलर, कारपेंटर, सफाईकर्मी, मेड, घर का सामान रिपेयर करने वाले श्रमिक सिर्फ एक क्लिक पर मिल जाएँगे।

श्रम ऐप भारत के नागरिकों द्वारा बनाया गया पूर्ण स्वदेशी ऐप है, जो सभी के लिए नि:शुल्क है। ये ऐप सभी कुशल (Skilled) और अकुशल (Unskilled) मजदूरों के लिए है। यह ऐप लोगों से लोगों को जोड़ने और श्रमिकों के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए है। इस ऐप के जरिए कोई भी श्रमिक अपना प्रोफाइल बना सकता है, या फिर उसके पास स्मार्टफोन न होने पर उससे जुड़े लोग- हम या आप उनका मोबाइल नंबर डालकर अकाउंट बना सकते हैं। इससे काम के लिए सीधे उनके नंबर पर कॉल जाएगा।

हम ही उनके जॉब प्रोवाइडर भी बन सकते हैं। उदाहरण के लिए हमारे घर में एसी रिपेयरिंग का काम होगा, तो हम ऐप पर जाकर अपने इलाके में इस काम के लिए उपलब्ध श्रमिक को कॉल करेंगे। इससे उन्हें भी काम मिलेगा और हमारा भी काम होगा। इतना ही नहीं, इस ऐप के माध्यम से कारखानों के मालिक, कंपनियाँ या फिर HR सीधे श्रमिकों के संपर्क में रह सकते हैं और उन्हें काम उपलब्ध करा सकते हैं। कुल मिलाकर यह ऐप बेरोजगार और विस्थापित मजदूरों के लिए एक बेहतरीन प्लेटफॉर्म है। 

इस ऐप को Shri Shakti Infomotion Private Limited नाम की ऑर्गेनाइजेशन ने बनाया है। यह एक स्वदेशी ऑर्गेनाइजेशन है। संगठन के मार्केटिंग और विज्ञापन का काम रंजना देब देखती हैं। खाली समय में, वह अपने NGO शक्ति फाउंडेशन की देखभाल करती हैं। वहीं गौरव पंडित Shri Shakti Infomotion Private Limited में टेक्नोलॉजी और प्रॉडक्ट डेवलपमेंट का विभाग सँभालते हैं। इस ऐप को प्ले स्टोर पर भी काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है। आप इस लिंक पर क्लिक करके ऐप से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शेखर गुप्ता के द प्रिंट का नया कारनामा: कोरोना संक्रमण के लिए ठहराया केंद्र को जिम्मेदार, जानें क्या है सच

कोरोना महामारी की शुरुआत में भले ही भारत सरकार ने पूरे देश में एक साथ हर राज्य में लॉकडाउन लगाया, मगर कुछ ही समय में सरकार ने हर राज्य को अपने हिसाब से फैसले लेने का अधिकार भी दे दिया।

ब्रायन के वो तीन बयान जो बताते हैं TMC बंगाल में हार रही है: प्रशांत के बाद डेरेक ओ’ब्रायन की क्लब हाउस में एंट्री

पश्चिम बंगाल में बढ़ती हिन्दुत्व की लहर, जो कि भाजपा की ही सहायता करने वाली है, के बाद भी डेरेक ओ’ब्रायन यही कहेंगे कि भाजपा से पहले पीएम मोदी और अमित शाह को हटाने की जरूरत है।

ऑडियो- ‘लाशों पर राजनीति, CRPF को धमकी, डिटेंशन कैंप का डर’: ममता बनर्जी का एक और ‘खौफनाक’ चेहरा

कथित ऑडियो क्लिप में ममता बनर्जी को यह कहते सुना जा सकता है कि वो (भाजपा) एनपीआर लागू करने और डिटेन्शन कैंप बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं।

चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार और रैलियों के लिए तय की गाइडलाइंस, उल्लंघन पर होगी सख्त कार्रवाई

चुनाव आयोग ने यह भी कहा है कि बंगाल चुनाव में रैलियों में कोविड गाइडलाइंस का उल्लंघन होने पर अपराधिक कार्रवाई की जाएगी।

CPI(M) ने TMC के लोगों को मारा पर वो BJP से अच्छे: डैमेज कंट्रोल करने आए डेरेक ने किया बेड़ा गर्क

प्रशांत किशोर ने जब से क्लब हाउस में TMC को डैमेज किया है, उसे कंट्रोल करने की कोशिशें लगातार हो रहीं। यशवंत सिन्हा से लेकर...

ईसाई मिशनरियों ने बोया घृणा का बीज, 500+ की भीड़ ने 2 साधुओं की ली जान: 181 आरोपितों को मिल चुकी है जमानत

एक 70 साल के बूढ़े साधु का हँसता हुआ चेहरा आपको याद होगा? पालघर में हिन्दूघृणा में 2 साधुओं और एक ड्राइवर की मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर मीडिया चुप रहा। लिबरल गिरोह ने सवाल नहीं पूछे।

प्रचलित ख़बरें

सोशल मीडिया पर नागा साधुओं का मजाक उड़ाने पर फँसी सिमी ग्रेवाल, यूजर्स ने उनकी बिकनी फोटो शेयर कर दिया जवाब

सिमी ग्रेवाल नागा साधुओं की फोटो शेयर करने के बाद से यूजर्स के निशाने पर आ गई हैं। उन्होंने कुंभ मेले में स्नान करने गए नागा साधुओं का...

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

जहाँ इस्लाम का जन्म हुआ, उस सऊदी अरब में पढ़ाया जा रहा है रामायण-महाभारत

इस्लामिक राष्ट्र सऊदी अरब ने बदलते वैश्विक परिदृश्य के बीच खुद को उसमें ढालना शुरू कर दिया है। मुस्लिम देश ने शैक्षणिक क्षेत्र में...

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,244FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe