Thursday, July 18, 2024
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीप्रेग्नेंसी टेस्ट के लिए अब पेशाब-खून की जगह थूक से चल जाएगा काम, 10...

प्रेग्नेंसी टेस्ट के लिए अब पेशाब-खून की जगह थूक से चल जाएगा काम, 10 मिनट में रिजल्ट: इजरायल के वैज्ञानिकों की खोज

उन्होंने यह भी दावा किया कि सर्वे में सामने आया है कि प्रेगनेंसी टेस्ट के लिए सलाइवा (लार) का उपयोग करने वाली यह विधि लोकप्रिय होगी। सर्वे में 70 प्रतिशत महिलाओं ने कहा कि वे पेशाब आधारित किट की जगह सलाइवा वाले प्रेगनेंसी किट का उपयोग करेंगीं।

इजरायली स्टार्टअप सैलिगोंस्टिक्स के वैज्ञानिकों ने एक ऐसी खोज की है, जिसके उपयोग से महिलाओं को प्रेंगनेंसी टेस्ट करने के लिए पेशाब और खून की आवश्यकता नहीं होगी। दरअसल, कंपनी ने ‘सैलीस्टिक’ नामक एक प्रेगनेंसी किट बनाई है। यह किट सलाइवा (लार) का उपयोग कर 10 मिनट में प्रेगनेंसी रिपोर्ट देती है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सैलिग्नॉस्टिक्स कंपनी के वैज्ञानिकों ने COVID-19 (कोरोना वायरस) की जाँच के लिए बनाए जाने वाली किट की तकनीक के आधार पर प्रेगनेंसी टेस्ट किट तैयार की है। अगले साल, यानी साल 2023 की पहली तिमाही में यह किट दुनिया भर के कई बाजारों में उपलब्ध होगी। ‘टाइम्स ऑफ इजरायल’ की एक रिपोर्ट के अनुसार, सैलीस्टिक टेस्ट किट साल 2023 में यूरोप, दक्षिण अफ्रीका और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के बाजारों में उपलब्ध होगी। हालाँकि, किट भारत में कब तक आएगी यह कह पाना मुश्किल है।

इस प्रेगनेंसी किट को लेकर सैलिग्नॉस्टिक्स कंपनी के एक अन्य सह-संस्थापक गाइ क्रिफ का कहना है कि “इंसान का सलाइवा (लार) कई तरह की मेडिकल कंडीशंस में तेजी से डायग्नोज करने में सहायक होता है। यह हार्मोन, वायरस और यहाँ तक ​​​​कि बीमारियों का पता लगाने का एकमात्र आसान और साफ-सुथरा तरीका है। सैलीस्टिक का उपयोग कर हम इन्हीं डायग्नोज क्षमताओं का लाभ उठाएँगे। यह किट प्रेगनेंसी के दौरान खून और पेशाब के नमूनों की आवश्यकता को पूरी तरह से खत्म कर देगी।”

गाइ क्रिफ ने यह भी कहा है कि ऐसा पहली बार होगा जब कोई कपल एक साथ बैठकर प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकते हैं। इस किट की अवधारणा और तकनीक बेहद आधुनिक है। साथ ही, इसके काम करने का तरीका अब तक मौजूद तरीकों से पूरी तरह अलग है। उन्होंने यह भी दावा किया कि सर्वे में सामने आया है कि प्रेगनेंसी टेस्ट के लिए सलाइवा (लार) का उपयोग करने वाली यह विधि लोकप्रिय होगी। सर्वे में 70 प्रतिशत महिलाओं ने कहा कि वे पेशाब आधारित किट की जगह सलाइवा वाले प्रेगनेंसी किट का उपयोग करेंगीं।

प्रेगनेंसी टेस्ट के लिए सैलीस्टिक का इस्तेमाल करने वाली एक महिला का कहना है, “अपने पार्टनर के साथ प्रेग्नेंसी टेस्ट करना बेहद खुशी की बात है। प्रेगनेंसी टेस्ट के लिए बाथरूम जाने का विचार मुझे पसंद नहीं है। इसके लिए, पेशाब का उपयोग करना फिजूल है।”

इस प्रेंग्नेंसी किट का उपयोग करना बेहद आसान होगा। अब तक उपलब्ध तकनीक में महिलाओं को प्रेगनेंसी जानने के लिए पेशाब या खून का इस्तेमाल करना पड़ता था। लेकिन, ‘सैलीस्टिक’ किट का उपयोग करने के महिलाओं को इस किट के एक हिस्से को थर्मामीटर की तरह अपने मुँह पर रखना होगा। इसके बाद, इसे एक प्लास्टिक ट्यूब में रखना होगा। जहाँ, 10 मिनट से भी कम समय में प्रेगनेंसी रिपोर्ट सामने आ जाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

3 आतंकियों को घर में रखा, खाना-पानी दिया, Wi-Fi से पाकिस्तान करवाई बात: शौकत अली हुआ गिरफ्तार, हमलों के बाद OGW नेटवर्क पर डोडा...

शौकत अली पर आरोप है कि उसने सेना के जवानों पर हमला करने वाले आतंकियों को कुछ दिन अपने घर में रखा था और वाई-फाई भी दिया था।

नई नहीं है दुकानों पर नाम लिखने की व्यवस्था, मुजफ्फरनगर पुलिस ने काँवड़िया रूट पर मजहबी भेदभाव के दावों को किया खारिज: जारी की...

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में पुलिस ने ताजी एडवायजरी जारी की है, जिसमें दुकानों और होटलों पर मालिकों के नाम लिखने को ऐच्छिक कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -