Saturday, January 16, 2021
Home विविध विषय भारत की बात वो मुग़ल बादशाह, जो बेटे की याद में रोते-रोते मरा... जबकि बेटा था 'इस्लाम...

वो मुग़ल बादशाह, जो बेटे की याद में रोते-रोते मरा… जबकि बेटा था ‘इस्लाम का दूत’

"आपकी बीमारी के दौरान दारा शिक़ोह ने सत्ता पर कब्ज़ा कर लिया था। उसने इस्लाम को ख़त्म करने और हिंदुत्व को बढ़ावा देने की ठान ली थी।"

सत्रहवीं शताब्दी के मध्य का समय था। 70 साल का एक बीमार और बूढ़ा आदमी रोज़ उठता, खिड़की से ताज़महल को निहारता और फिर अपने बिस्तर पर लेट जाता। यह क्रम रोज़ चलता। पास में क़ुरानशरीफ़ की एक पुस्तक रखी होती, जिसकी आयतें पढ़ते-पढ़ते उसके दिन गुजरते। कभी-कभार कुछ मौलवी भी आया करते थे, जो उसके लिए क़ुरानशरीफ़ का पाठ करते। देखभाल करने के लिए बूढ़े की बेटी उसके साथ रहती थी। बूढ़े को एक ऐसी बीमारी ने जकड़ रखा था जो काफ़ी दर्दनाक थी। उसका पेशाब बूँद-बूँद कर गिरता था और उसे काफ़ी दर्द सहना पड़ता था। अपने भाग्य को कोसते हुए बेचारा बूढ़ा किसी तरह अपनी ज़िंदगी गुज़र-बसर कर रहा था।

ऐसा नहीं था कि बूढ़े के बेटे नहीं थे। उसके चार बेटे थे, जिनमें से अब सिर्फ़ एक ही ज़िन्दा बचा था। जिस बेटे को वो सबसे ज़्यादा प्यार करता था, जिसे अपने वारिस के रूप में देखता था- उसका कटा हुआ सर एक दिन उसके पास पहुँचा था। अपने बेटे के कटे हुए सर को याद कर वो हर दिन रोया करता था। उसे अपने सबसे प्यारे बेटे के मारे जाने से भी ज्यादा दुःख इस बात का था कि उसे मारने वाला भी उसका ही बेटा था। वो लाचार और बीमार बूढ़ा व्यक्ति कोई और नहीं बल्कि तीस साल दिल्ली की गद्दी पर राज करने वाला शहंशाह था। वही जिसने ताज़महल बनवाया। मुग़ल आक्रांताओं के वंश का एक बड़ा नाम- शाहजहाँ।

22 जनवरी, 1666- क़रीब साढ़े तीन सौ साल पहले वो आज का ही दिन था, जब शाहजहाँ ने अंतिम साँस ली थी। लेकिन उस से पहले जो भी हुआ वो इस्लामिक सत्ता संघर्ष का ख़ून से रंगा वो अध्याय है, जिस पर भारतीय इतिहास कभी गर्व नहीं करेगा। मरने से पहले 74 वर्षीय शाहजहाँ के दिमाग में वो बातें जरूर कौंधी होंगी, जो उसने ठीक 38 साल पहले किया था। उसके दिमाग में वो काण्ड याद आए होंगे, जिसे उसने ख़ुद सत्ता पाने के लिए अंजाम दिया था। आज वो सब लौट कर उसके पास वापस आ गया था। जो भी उसने किए, उसकी सज़ा उसे जीते-जी मिल गई थी। सारा हिसाब चुकता हो गया था।

जब इतिहास ने ख़ुद को दोहराया

इस्लामिक साम्राज्यवाद में सत्ता के हस्तांतरण के लिए कभी कोई नियम नहीं रहा। भारतीय राजतन्त्र में सबसे बड़े बेटे को सत्ता देने का चलन था, अगर वो अयोग्य हो तो दूसरे बेटे को सत्ता सौंप दी जाती थी। लेकिन दुनियाभर में जहाँ भी इस्लामिक सत्ता के हस्तांतरण की बात आती है- वहाँ खून से सनी एक ऐसी कहानी भी मिलती है, जो बाद में महान कहलाने वाले बादशाहों के चेलों को रास न आए। महान कहे जाने वाले अकबर ने दिल्ली के लोगों को मार-मार कर उनकी खोपड़ियों का पहाड़ बना डाला और उसी पर चढ़ कर सत्ता के क्षितिज पर पहुँचा। शाहजहाँ ने भी कुछ ऐसा ही किया था।

गद्दी पर बैठने के बाद सबसे पहला काम जो उसने किया था- वो था अपनी सौतेली माँ नूरजहाँ को कारावास में डालना। ये महज़ एक संयोग ही था कि 22 जनवरी 1666 को उसकी मृत्यु हुई और 23 जनवरी 1628 को उसने अपने भाई-भतीजे सहित कई रिश्तेदारों को मार कर सत्ता पर अपनी पकड़ मज़बूत की थी। जिस तरह उसने अपने भाइयों को मारा था, ठीक उसी तरह आज उसके बेटे एक दूसरे के ख़ून के प्यासे बन बैठे थे, जिसका अंत उसके तीन बेटों की मौत के साथ हुआ।

अब इतिहास के ख़ुद को दोहराने की बारी थी। शाहजहाँ की मृत्यु से पहले क़रीब 15 सालों तक उसका बेटा औरंगज़ेब उस से मिलने तक नहीं आया। मिलना तो दूर, उसने अपने बीमार बाप की हाल-चाल की ख़बर लेने तक की भी ज़हमत नहीं उठाई। जो उसने अपनी माँ के साथ किया था, उसका बेटा आज वही अपने बाप के साथ कर रहा था। आठ सालों तक एक किले में बंद रहते-रहते उसे अपना इतिहास तो याद आता ही होगा।

धन के लालची औरंगज़ेब ने अपने पिता को कंगाल कर दिया था। सत्ता सँभालने के कुछ दिनों बाद ही उसने आगरा के धनालय को अपने कब्ज़े में लिया। उसने शाहजहाँ से उसकी हीरे की अँगूठी तक छीन ली। दिल्ली का नया बादशाह मानसिक तौर पर इतना दरिद्र था कि उसने अपने पिता के सारे जवाहरात जबरदस्ती ले लिए। उसने शाहजहाँ से उसकी मोतियों की माला भी माँगी लेकिन शाहजहाँ ने कहा कि वो इस से ख़ुदा को याद करता है। शाहजहाँ ने कहा कि वो इसे औरंगज़ेब को देने की बजाय मिटटी में फ़ेंक देना ज्यादा बेहतर समझेगा।

जिस ख़ुदा का वास्ता देकर शाहजहाँ ने औरंगज़ेब को अपनी 100 मोतियों से बनी माला देने से मना कर दिया, उसी ख़ुदा का बहाना बना कर औरंगज़ेब ने उसकी सारी दौलत छीन ली।

बेटे का पत्र, पिता के नाम

औरंगज़ेब के शासन को अपनी लेखनी में समेटने वाले खाफ़ी ख़ान ने लिखा था कि जब शाहजहाँ आगरा किले में रहता था तब उसके और औरंगज़ेब के बीच कई पत्रों के आदान-प्रदान हुए थे। उन पत्रों में औरंगज़ेब की उसके पिता के प्रति सोच पता चलती है। यहाँ हम औरंगज़ेब के पत्रों की भाषा और विचार का उल्लेख करेंगे ताकि पता चले कि जिस क़ुरानशरीफ़ को शाहजहाँ अपने ढलते दिनों में पढ़ रहा था, उसी क़ुरानशरीफ़ को अपने जवानी के दिनों में पढ़ कर औरंगज़ेब ने क्या सीखा था?

अपने पत्र में औरंगज़ेब ने शाहजहाँ को लिखा- “आपकी बीमारी के दौरान दारा शिक़ोह ने सत्ता पर कब्ज़ा कर लिया था। उसने इस्लाम को ख़त्म करने और हिंदुत्व को बढ़ावा देने की ठान ली थी।” औरंगज़ेब ने इन पत्रों में अपने आपको इस्लाम का दूत बताया था। उसने अपनी हिंसात्मक करतूतों की वज़ह ‘दिव्य आज्ञा’ बताया था। उसका दावा था कि ये दिव्या आज्ञा उसे सीधे अल्लाह द्वारा मिल रही थी। इसका कारण बताते हुए उसने शाहजहाँ को लिखा कि अगर अल्लाह ने उसके कार्यों को स्वीकृति नहीं दी होती तो उसे इतने सारे युद्धों में जीत कैसे मिलती?

औरंगज़ेब को इस्लामिक साहित्य का ज्ञाता माना जाता था। असल में आज भारत में जो इस्लामिक कट्टरवाद की आधुनिक धारा बह रही है, उसका काफ़ी श्रेय औरंगज़ेब को भी दिया जा सकता है। औरंगज़ेब का ‘इस्लाम’ ऐसा था, जिसने उसे अपने भाई की गर्दन काट कर पिता के पास भेजने को प्रेरित किया था। औरंगज़ेब का इस्लामिक ज्ञान इतना ‘अच्छा’ था कि उसने अपने बीमार बाप को मरने के लिए छोड़ दिया और नज़रबंद कर डाला। आज जिस ताज़महल की कीमत $100 करोड़ डॉलर से भी अधिक आँकी जाती है, उसका निर्माण कराने वाला बादशाह एक दशक से भी अधिक तक उपेक्षित जीवन जी कर मर गया।

औरंगज़ेब ने अपने पत्र में शाहजहाँ को इस बात की भी याद दिलाई कि कैसे उसने सत्ता पाने के लिए अपने भाई-भतीजों की हत्या की थी। औरंगज़ेब ने अपने पिता को उसके कुकर्मों की याद दिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उसने अपने पिता को याद दिलाया कि उसने उन लोगों की हत्याएँ की, जिन्होंने उसे चोट तक नहीं पहुँचाई थी। इन पत्रों में लिखी बातें इस बात का गवाह है कि आपके कुकर्म आपका पीछा नहीं छोड़ते और कभी न कभी लौट कर वापस आते ही हैं। नज़रबंदी के दौरान हालत यह थी कि शाहजहाँ से कोई मिलने भी आता तो औरंगज़ेब की आज्ञा से।

एक उपेक्षित बादशाह की मौत

आख़िरकार कलमा पढ़ते-पढ़ते और मौलवियों के नमाज़ के बीच शाहजहाँ ने आज (जनवरी 22) के ही दिन सन 1666 में अंतिम साँस ली थी। हिन्दुस्तान पर तीस सालों तक राज करने वाले मुग़ल बादशाह को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार तक नसीब न हुआ। उसकी बेटी जहाँनारा बेगम, जिसने सालों तक उसकी देखभाल की थी, ने ही उसकी अंतिम क्रिया संपन्न की। औरंगज़ेब अपने बाप के मरने की ख़बर सुन कर भी वहाँ नहीं आया, उसने अपने बेटे को भेजा लेकिन वह भी समय पर न पहुँच सका।

1666 में वो आज की ही तारीख़ थी जब आगरा के किले में नज़रबंद एक बूढ़े मुग़ल बादशाह ने आख़िरी साँस ली। उसके सारे कुकर्म लौट कर वापस उसके ही पास आए और इतिहास ने अपने-आप को फिर से दोहराया।
शाहजहाँ की मौत को दर्शाती अवनींद्र नाथ टैगोर की पेंटिंग: मुग़ल बादशाह और उसकी बेटी जहाँनारा (फोटो साभार: विकीमीडिया)

1652 से शाहजहाँ के मरने तक- 14 सालों तक औरंगज़ेब अपने पिता से नहीं मिला। जिस ताज़महल को निहारते-निहारते शाहजहाँ ने जीवन के अंतिम कुछ वर्ष गुजारे थे, जिस ताज़महल की कब्र में उसकी बेग़म मुमताज़ दफ़न थीं- उसी ताज़महल में उसकी भी क़ब्र बनाई गई।

सोर्स 1: (‘Emperors of the Peacock Throne: The Saga of the Great Mughals’ By Abraham Eraly)

सोर्स 2: (‘Illustrated Dictionary of the Muslim World’ By Marshall Cavendish)

सोर्स 3: (‘Travels in the Mogul Empire’ By Francois Bernier)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

अजीत भारती छोड़ रहे हैं ऑपइंडिया, ऑक्सफोर्ड से आया बुलावा | Ajeet Bharti roasts Nidhi Razdan

आज जब श्री भारती जी के पास यह खबर आई कि उन्हें ऑक्सफोर्ड से प्रोफेसरी का बुलावा आया है तो उन्होंने भारी हृदय से सीईओ को त्यागपत्र सौंप दिया।

श्री अजीत भारती जी को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने असोसिएट प्रोफेसर नियुक्त किया, ऑपइंडिया से विदाई तय

श्री अजीत भारती को उनके मित्र अलख सुंदरम् ने बताया कि गोरों की जमीन पर जाते ही मुँह पर मुल्तानी मिट्टी लगा कर घूमें ताकि ऑक्सफोर्ड में उन्हें ब्राउन समझ कर कोई दुष्टता न कर दे।

NDTV की निधि ने खरीद लिया था हार्वर्ड का टीशर्ट, लोगों को भेज रही थी बरनॉल… लेकिन ‘शिट हैपेन्स’ हो गया!

पोटेंशियल हार्वर्ड एसोसिएट प्रोफेसर निधि राजदान ने कहा कि प्रोफेसर के तौर पर ज्वाइन करने की बातें हार्वर्ड नहीं बल्कि 'व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी' से जारी की गईं थीं।

बिलाल ने ‘आश्रम’ वेब सीरीज देखकर जंगल में की युवती की हत्या, धड़ से सिर अलग कर 2 KM दूर गाड़ा

पुलिस का कहना है कि 'आश्रम' वेब सीरीज के पहले भाग की थीम की तरह ही ओरमाँझी में बिलाल ने इस हत्या को भी अंजाम दिया और लाश को ठिकाने लगाया।

जिसने सुशांत के लिए लिखा- नखरे दिखाने वाला, उसने करण जौहर की मेहरबानी के बाद छोड़ी ‘पत्रकारिता’

करण जौहर ने राजीव मसंद को अपने नए वेंचर का सीओओ बनाया है। मसंद ने लेखों के जरिए सुशांत की छवि धूमिल करने की कोशिश की थी।

प्रचलित ख़बरें

दुकान में घुस कर मोहम्मद आदिल, दाउद, मेहरबान अली ने हिंदू महिला को लाठी, बेल्ट, हंटर से पीटा: देखें Video

वीडियो में देख सकते हैं कि आरोपित युवक महिला को घेर कर पहले उसके कपड़े खींचते हैं, उसके साथ लाठी-डंडों, बेल्ट और हंटरों से मारपीट करते है।

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

MBBS छात्रा पूजा भारती की हत्या, हाथ-पाँव बाँध फेंका डैम में: झारखंड सरकार के खिलाफ गुस्सा

हजारीबाग मेडिकल कालेज की छात्रा पूजा भारती पूर्वे के हाथ-पैर बाँध कर उसे जिंदा ही डैम में फेंक दिया गया। पूजा की लाश पतरातू डैम से बरामद हुई।

चोटी गुहल कनिया रहिए गेल: NDTV में रहीं निधि राजदान को हार्वर्ड ने कभी नहीं बुलाया, बताई ठगे जाने की व्यथा

वह महामारी के कारण सब चीजों को नजर अंदाज करती रहीं लेकिन हाल ही में उन्हें इन चीजों को लेकर शक गहराया और उन्होंने यूनिवर्सिटी के शीर्ष प्रशासन से संपर्क किया तो...

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

‘बेकार आवाज वाली लता ने लोगों के करियर बर्बाद किए’: लिबरलों की दुलारी ‘कावेरी’ को नेटिजन्स ने लताड़ा

एक ट्विटर यूजर ने कहा कि लता मंगेशकर की आवाज 'ओवर रेटेड' है और उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में लोगों के करियर बर्बाद किए।

दिल्ली दंगों के आरोपितों को बचाने वाले महमूद प्राचा को दिल्ली पुलिस ने किया एक्सपोज़, प्रशांत भूषण के आरोपों का भी दिया जवाब

प्रशांत भूषण द्वारा दिल्ली पुलिस की छापेमारी पर सवाल खड़े किए जाने के बाद पुलिस ने बिन्दुवार तरीके से हर प्रश्न का जवाब दिया है। भूषण ने यह सवाल ISIS पोस्टर बॉय के वकील महमूद प्राचा के विरुद्ध की गई पुलिस की रेड पर खड़े किए थे।

‘BJP वैक्सीन नहीं, नपुंसक बनाने की दवा के बाद अब जानलेवा टीका’: कोविड-19 को लेकर सपा की घटिया राजनीति जारी

अपने मास्टर अखिलेश यादव की तरह सपा नेता आईपी सिंह ने बर्ड फ्लू के बाद अब कोविड-19 वैक्सीन को लेकर एक विवादित बयान दिया है।

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

राम मंदिर के लिए इकबाल अंसारी भी करेंगे निधि समर्पण, कहा- यह श्रद्धा का सवाल है, इससे पुण्य मिलता है

बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी भी भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए समर्पण निधि देंगे। श्रीराम जन्मभूमि समर्पण निधि अभियान पर इकबाल अंसारी ने कहा कि बात राम मंदिर की है।

केंद्र सरकार ने पंजाब से सबसे ज्यादा कपास और धान खरीदने का बनाया रिकॉर्ड: आंदोलन में शामिल ‘किसानों’ ने भी जताई खुशी

किसानों के विरोध प्रदर्शन में शामिल हो चुके गोल्टा ने सरकार के फैसले पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि समय पर एमएसपी रेट के अनुसार हुई बिक्री से उन्हें काफी मदद मिली है।

13 साल के नाबालिग का जबरन लिंग परिवर्तन करवाकर होता रहा बलात्कार, स्टेशन पर मँगवाई गई भीख: केस दर्ज

शुभम का लिंग परिवर्तन करवाने के बाद आरोपितों ने मिलकर उसका सामूहिक बलात्कार किया और पैसे के बदले दूसरे लोगों से भी उसका बलात्कार करवाया।
00:06:17

अजीत भारती छोड़ रहे हैं ऑपइंडिया, ऑक्सफोर्ड से आया बुलावा | Ajeet Bharti roasts Nidhi Razdan

आज जब श्री भारती जी के पास यह खबर आई कि उन्हें ऑक्सफोर्ड से प्रोफेसरी का बुलावा आया है तो उन्होंने भारी हृदय से सीईओ को त्यागपत्र सौंप दिया।

कॉन्ग्रेस नेता ने दिया ममता बनर्जी को विलय का सुझाव, कहा- BJP को हराने का नहीं है कोई दूसरा विकल्प

कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने टीएमसी पर निशाना साधते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आगामी चुनावों में अकेली बीजेपी के खिलाफ नहीं लड़ सकती हैं।

श्री अजीत भारती जी को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने असोसिएट प्रोफेसर नियुक्त किया, ऑपइंडिया से विदाई तय

श्री अजीत भारती को उनके मित्र अलख सुंदरम् ने बताया कि गोरों की जमीन पर जाते ही मुँह पर मुल्तानी मिट्टी लगा कर घूमें ताकि ऑक्सफोर्ड में उन्हें ब्राउन समझ कर कोई दुष्टता न कर दे।

मलेशिया ने कर्ज न चुका पाने पर जब्त किया पाकिस्तान का विमान: यात्री और चालक दल दोनों को बेइज्‍जत करके उतारा

मलेशिया ने पाकिस्तान को उसकी औकात दिखाते हुए PIA (पाकिस्‍तान इंटरनेशनल एयरलाइन्‍स) के एक बोईंग 777 यात्री विमान को जब्त कर लिया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
380,000SubscribersSubscribe