जब बनी थी बॉलीवुड की अपनी राजनीतिक पार्टी, किसको था ख़तरा, कौन डरा, किसने धमकाया, क्या हुआ अंजाम?

देव आनंद के भाषण में कई ऐसी चीजें थी जो आज पीएम नरेंद्र मोदी और दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल कहा करते हैं। देव साहब के प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद मुंबई के शिवाजी पार्क में एक रैली भी हुई। रैली में जवाहरलाल नेहरू की बहन विजयलक्ष्मी पंडित भी हुई थी शामिल।

भारत में राजनीति और फ़िल्म जगत का बहुत ही गहरा नाता रहा है। कभी किसी नेता के यहाँ अभिनेताओं के जुटान की ख़बर आती है तो कभी किसी अभिनेता या अभिनेत्री के चुनाव लड़ने की ख़बर आती है। दक्षिण भारत में एमजीआर, जयललिता और एनटीआर जैसे फ़िल्मी सितारों ने राजनीति में लम्बी पारियाँ खेली और मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुँचे। हाल ही में सुपरस्टार रजनीकांत और कमल हासन ने भी राजनीति में एंट्री की घोषणा की है। ऐसे में, क्या आपको पता है कि भारतीय अतीत में फ़िल्मी सितारों ने ख़ुद की राजनीतिक पार्टी बनाई थी और उस समय सबसे बड़े स्टारों में से एक रहे देव आनंद को अध्यक्ष बनाया गया था। वो आपातकाल का दौर था। कॉन्ग्रेस सरकार की सख्ती और क्रूरता से तंग इन सितारों ने राजनीतिक पार्टी की स्थापना की थी। आगे जानिए क्या हुआ इनका भविष्य?

आपातकाल ख़त्म होने के बाद जनता सरकार का दौर आया।। 1977 में बनी जनता सरकार के पतन के बाद फिर से नए चुनाव का ऐलान हुआ। स्थान था मुंबई स्थित ताज होटल और तारीख थी 14 सितंबर, 1979 भ्रष्टाचारी नेताओं के ख़िलाफ़ अभियान की शुरुआत करने का दावा करते हुए देव आनंद ने नेताओं को ‘सबक सिखाने के लिए’ नेशनल पार्टी के स्थापना की घोषणा की। देव साहब अपनी ऑटोबायोग्राफी ‘रोमांसिंग विथ लाइफ’ में लिखते हैं, “जिस देश से हम प्यार करते हैं- उसके लिए, क्यों न हम एक राजनीतिक पार्टी बनाएँ? ऐसा इसीलिए किया गया ताकि भारत की बिगड़ती हुई राजनीतिक व्यवस्था को उसी तरह सुन्दर बनाया जा सके, जैसा हम अपनी फ़िल्मों को भव्य बनाने के लिए करते हैं।

पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी के साथ देव आनंद के अच्छे रिश्ते थे

इस पार्टी को कई बड़े-बड़े फ़िल्मी सितारों ने ज्वाइन किया। रामायण फेम रामानंद सागर, शत्रुघ्न सिन्हा, वी शांताराम, हेमा मालिनी, संजीव कुमार जैसी फ़िल्मी शख्सियतों ने इस पार्टी को ज्वाइन किया। देव आनंद के कई क़रीबी लोगों व उनके भाई द्वारा कई टीम बनाए गए ताकि पार्टी का संविधान व नीतियाँ तैयार की जा सके। चुनावी घोषणापत्र और मेम्बरशिप अभियान के लिए भी कमेटी बनाई गई। और ऐसा नहीं है कि इस पार्टी को ठंडी प्रतिक्रिया मिली। असल में फिल्मीं सितारों की लोकप्रियता का ऐसा प्रभाव था कि भारी संख्या में लोग नेशनल पार्टी से जुड़े। मीडिया द्वारा उस पार्टी को ख़ास तवज्जो नहीं दी गई और पत्रकारों ने इसे फ़िल्म प्रमोशन का एक जरिया माना। लेकिन, जो लोग वहाँ उस प्रेस कॉन्फ्रेंस में उपस्थित थे, उनका कहना था कि देव आनंद गुस्से से लाल थे और भ्रष्टाचार, ग़रीबी इत्यादि को मिटाने की बातें कर रहे थे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

देव आनंद के उस भाषण को देखने वाले पत्रकारों ने आज की राजनीतिक नेताओं से तुलना करते हुए दावा किया कि उनके भाषण में कई ऐसी चीजें थी जो आज पीएम नरेंद्र मोदी और दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल कहा करते हैं। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद मुंबई के शिवाजी पार्क में एक रैली भी हुई। इस रैली में जवाहरलाल नेहरू की बहन विजयलक्ष्मी पंडित ने भी शिरकत की थी। आपको बता दें कि उस दौरान विजयलक्ष्मी पंडित अपनी भतीजी इंदिरा से ख़ासी ख़फ़ा थी। जब आपातकाल लगा था, तब वो अपनी बेटी के साथ लंदन में थीं और वहीं उन्हें ये समाचार प्राप्त हुआ। उनके घर पहुँचने पर उनकी निगरानी होने लगी थी और उनके फोन टेप किए जाने लगे थे। उनके क़रीबी लोगों ने भी आपातकाल के डर से उनसे मिलना-जुलना बंद कर दिया था।

बाएँ से दाएँ: दिलीप कुमार, जवाहरलाल नेहरू, देव आनंद और राज कपूर

विजयलक्ष्मी पंडित का इस रैली में भाग लेना आश्चर्य वाली बात नहीं थी क्योंकि आपातकाल के बाद भी उन्होंने विपक्षी पार्टियों के प्रचार में अपना पूरा दम-ख़म झोंक दिया था। उन्होंने पूरे भारत का बृहद दौरा किया था ताकि इंदिरा गाँधी को हराया जा सके। मीडिया में पहले ही अफवाहों का दौर चल निकला था। पत्रकार इस उधेड़बुन में लगे थे कि किस दिग्गज नेता को कौन सा अभिनेता टक्कर देगा। चौधरी चरण सिंह के ख़िलाफ़ धर्मेंद्र के लड़ने की बात सामने आ रही थी। पटौदी परिवार के किसी व्यक्ति के भोपाल से और दारा सिंह के अमृतसर से लड़ने की ख़बर चल निकली थी। हालाँकि, इन अफवाहों से कुछ देर के लिए ही सही लेकिन कॉन्ग्रेस और जनता दल के नेताओं की पेशानी पर बल तो पड़े थे। तभी तो दोनों दलों के नेताओं ने नेशनल पार्टी को चुनाव से दूर रहने की चेतावनी दी थी।

फ़िल्म निर्माता आईएस जोहर ने तो ख़ुद को तत्कालीन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री राज नारायण के ख़िलाफ़ प्रत्याशी भी घोषित कर दिया था। उन्होंने एक इंटरव्यू में राज नारायण को जोकर बताते हुए ख़ुद की जीत का दावा किया था और ख़ुद को राज नारायण से भी बड़ा जोकर बताया था। लेकिन, नेशनल पार्टी का जितना ज़ोर-शोर से उद्भव हुआ, उतनी ही तेज़ी से पराभव भी। जैसा कि सर्वविदित है, फ़िल्म इंडस्ट्री के लोगों के कई व्यवसाय में रुपए लगे होते हैं, उन्हें शूटिंग के लिए स्थानीय सरकारों की अनुमति की ज़रूरत पड़ती है। कुल मिलाकर देखें तो फ़िल्म इंडस्ट्री के लोगों को अगर अपना व्यवसाय चलाना है तो उन्हें नेताओं की ज़रूरत पड़नी तय है। शायद, यही नेशनल पार्टी के पराभव का कारण भी बना। राज नारायण ने तो जोहर के हाथ-पाँव तोड़ने की बात तक कह दी थी।

अभिनेता और अभिनेत्री सरकार व नेताओं की धमकियों के कारण पीछे हटने लगे। उन्हें अपना हित नज़र आने लगा। जहाँ उनके लाखों-करोड़ों रुपए दॉंव पर लगे हों, वहाँ उन्हें नेताओं से दुश्मनी लेना सही नहीं लगा। नेताओं ने अपनी धमकियों में उन्हें परिणाम भुगतने की भी चेतावनी दी थी। यहाँ तक कि रामानंद सागर भी अलग हट लिए। अकेले पड़े देव आनंद के पास राजनीतिक सपनों को विराम देने के अलावा और कोई और चारा न बचा। ख़ुद देव आनंद के नेहरू और वाजपेयी से अच्छे रिश्ते थे। ख़ुद को एमजीआर से प्रेरित बताने वाले देव आनंद ने बाद में लिखा भी कि वह इंदिरा गाँधी के तौर तरीकों से नाराज़ थे। आपको बता दें कि जब पीएम वाजपेयी बस लेकर पाकिस्तान गए थे, तब उन्होंने देव आनंद को भी उस यात्रा का हिस्सा बनने के लिए बुलाया था।

तो ये थी एक पूर्ण रूप से बॉलीवुड की पार्टी के उदय और अस्त की कहानी। नेशनल पार्टी ऑफ इंडिया तो चली गई लेकिन कई अभिनेताओं-अभिनेत्रियों ने राष्ट्रीय व अन्य पार्टियों के जरिए चुनावी समर में क़दम रखा। शत्रुघ्न सिन्हा, सुनील दत्त और चिरंजीवी जैसे अभिनेता केंद्र सरकार में मंत्री बने। विनोद खन्ना, हेमा मालिनी और हाल ही में मनोज तिवारी भी राजनीति में सफल हुए। महानयक अमिताभ बच्चन ने भी राजनीति में हाथ आजमाया लेकिन विवादों के कारण उनकी पारी असफल रही। जया बच्चन सपा से जुड़ी। इसी तरह कई फ़िल्मी सितारों ने राजनीति से अपना वास्ता बनाए रखा लेकिन उत्तर भारतीय सितारों ने अलग राजनीतिक पार्टी नहीं बनाई।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

इनकी सावरकर से दुश्मनी केवल इसलिए है क्योंकि वह हिंदूवादी थे, और कॉन्ग्रेस की राजनीति मुस्लिम तुष्टिकरण की है। हिन्दूफ़ोबिया इनकी वैचारिक नसों में है, तो इसलिए हिन्दू हितों की बात करने वाले को खलनायक या कमज़ोर दिखाना तो हिन्दूफ़ोबिया की तार्किक परिणति होगा ही।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

पति ने TIK-TOK चलाने से किया मना, पत्नी ने की आत्महत्या, रिकॉर्ड किया मौत का वीडियो

24 वर्षीय अनीता की शादी 29 साल के पलानीवेल के साथ हुई थी। उनके चार साल की एक बेटी और दो साल का एक बेटा भी है।
दीदी, सुरक्षा दो या इस्तीफा

सईद की मौत पर 200 दंगाईयों को बुलाकर डॉक्टरों पर हमला करने वालों को ममता क्यों बचा रही है?

पथराव शुरू हुआ, डॉक्टरों पर जानलेवा हमले हुए तो पुलिस ने क्यों नहीं रोका? क्यों डॉक्टरों की जान बचाने के लिए दंगाईयों पर नियंत्रण के लिए कड़ी कार्रवाई नहीं की गई? जवाब हम सब को पता है। क्योंकि हमलावर मुसलमान थे- अगर उन्हें कुछ हो जाता तो ममता के वोट बैंक को खतरा था।
कमांडो निराला (फाइल फोटो)

देश के लिए बलिदान हुए थे कॉर्पोरल निराला, गरुड़ कमांडो ने पैसे जुटाकर कराई बहन की शादी

कमांडो निराला की बहन की शादी के लिए गरुड़ कमांडो यूनिट ने आपस में चंदा कर ₹5 लाख इकठ्ठा किए थे। यही नहीं, शादी की रस्म पूरी करने के लिए कमांडोज़ ने शादी में शिरकत भी की।
दि प्रिंट और दीपक कल्लाल

सेक्स ही सेक्स… भाई साहब आप देखते किधर हैं, दि प्रिंट का सेक्सी आर्टिकल इधर है

बढ़ते कम्पटीशन के दौर में सर्वाइवल और नाम का भार ढोते इन पोर्टलों के पास नग्नता और वैचारिक नकारात्मकता के अलावा फर्जीवाड़ा और सेक्स ही बचता है जिसे हर तरह की जनता पढ़ती है। लल्लनपॉट यूनिवर्सिटी से समाज शास्त्र में पीएचडी करने वाले ही ऐसा लिख सकते हैं।

NDTV के प्रणय रॉय और राधिका रॉय को झटका, SEBI ने 2 साल के लिए किया बैन

NDTV पिछले कई सालों से वित्तीय अनियमितताओं और टैक्स फ्रॉड के कारण जाँच एजेंसियों के रडार पर थी। सेबी ने सिक्योरिटी एक्सचेंज मार्केट में लेन-देन और NDTV मैनेजमेंट में किसी भी पोस्ट से 2 साल के लिए बाहर कर दिया है।
सावरकर (साभार: इंडियन एक्सप्रेस)

सावरकर ‘वीर’ तब तक नहीं होंगे जब तक हिन्दू अपनी कहानियाँ खुद सुनाना नहीं सीखते

इनकी सावरकर से दुश्मनी केवल इसलिए है क्योंकि वह हिंदूवादी थे, और कॉन्ग्रेस की राजनीति मुस्लिम तुष्टिकरण की है। हिन्दूफ़ोबिया इनकी वैचारिक नसों में है, तो इसलिए हिन्दू हितों की बात करने वाले को खलनायक या कमज़ोर दिखाना तो हिन्दूफ़ोबिया की तार्किक परिणति होगा ही।

सरकारी डॉक्टर की जान बनाम मुस्लिम वोटबैंक को निहारती निर्मम ममता जो दंगे पीती, खाती और सोती है

ये भीड़ इतनी जल्दी कैसे आती है, कहाँ हमला करती है और किधर गायब हो जाती है? क्या पुलिस ने नहीं देखा इन्हें? क्या हॉस्पिटल में सुरक्षा के लिए पुलिस आदि नहीं होती या फिर इस पहचानहीन भीड़ का सामूहिक चेहरा ममता की पुलिस ने पहचान लिया और उन्हें वो करने दिया जो वो कर गए?
ममता बनर्जी

घमंडी, फासीवादी, सांप्रदायिक, स्वेच्छाचारी, हिंसक, असंवैधानिक, तानाशाह, भ्रष्ट, अलगाववादी: यही हैं ममता

यह इकोसिस्टम कुतर्क में उस्ताद है। बंगाल की हर हिंसा में तृणमूल के साथ बराबर का भागीदार भाजपा को बना देता है। सांप्रदायिकता में भी यही रवैया अपनाता है।
अमित शाह, जदयू प्रवक्ता

अमित शाह और BSF को कोसने के बाद JDU प्रवक्ता ने खुद दिया इस्तीफ़ा

11 तारीख़ को आलोक ने ट्विटर पर एक पोस्ट किया था। इस पोस्ट में उन्होंने बांग्लादेशी शरणार्थियों के मुद्दे पर गृह मंत्री अमित शाह पर तंज कसा था। साथ ही एक ट्वीट में उन्होंने बीएसएफ अधिकारियों पर भी निशाना साधा था।
अक्षय पात्र, पुरस्कार

Akshay-Patra को मिला ग्लोबल अवॉर्ड, द हिंदू खोजता रह गया लहसुन-प्याज

इस पुरस्कार को देने के दौरान निर्णायक पैनल के प्रमुख शेफ़ सामीन नोसरात ने कहा कि स्कूलों में भोजन उपलब्ध कराना अद्भुत और शानदार कार्य है। बच्चों को भोजन करवाना सबसे महत्तवपूर्ण हैं। इस प्रकार के प्रयासों की सराहना की जानी चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

50,115फैंसलाइक करें
8,751फॉलोवर्सफॉलो करें
69,712सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: