बंगाल के मदरसों में आतंकी गतिविधियाँ चला रहे हैं बांग्लादेश के संगठन: केंद्रीय गृह मंत्रालय

खुफिया जानकारी यह है कि जेएमबी पश्चिम बंगाल के बर्दवान और मुर्शिदाबाद जिलों में अपनी जिहादी गतिविधियों और आतंकी भर्तियों पर काम कर रहा है। इस संबंध में इनपुट्स पर कार्रवाई करने के लिए...

बांग्लादेश का आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (JMB) पश्चिम बंगाल में अपनी आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे रहा है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अपनी खुफिया जानकारी के आधार पर कहा है कि जेएमबी पश्चिम बंगाल के बर्दवान और मुर्शिदाबाद जिलों में अपनी जिहादी गतिविधियों और आतंकी भर्तियों का काम कर रहा है। गृहराज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि इस संबंध में इनपुट्स पर कार्रवाई करने की सलाह के साथ पश्चिम बंगाल सरकार और संबंधित एजेंसियों के साथ जानकारी नियमित रूप से साझा की जा रही है।

गृह मंत्रालय के अनुसार, उनके पास खुफिया रिपोर्ट है कि बर्दवान और मुर्शिदाबाद में मदरसों का उपयोग करके जमात मुजाहिदीन बांग्लादेश (जेएमबी) आतंकियों की भर्ती कर रहा है। केंद्र ने इसी साल मई में ‘जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश’, ‘जमात-उल-मुजाहिदीन भारत’ और ‘जमात-उल-मुजाहिदीन हिंदुस्तान’ तथा इसके सभी स्वरूपों को आतंकवादी संगठन की लिस्ट में शामिल किया है। ये मदरसों के माध्यम से दहशतगर्दी फैलाने का काम करती है।

मंगलवार (जुलाई 2, 2019) को लोकसभा में भाजपा के सांसद खगेन मुर्मु तथा डॉ सुकांत मजूमदार के सवाल के जवाब में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के पहले, लोकसभा चुनाव के दौरान तथा उसके बाद भी हिंसा की कई घटनाओं की सूचना मिली। जिसमें कई लोगों की मौत हुई है और कई लोग घायल हुए थे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

वहीं, कोलकाता एसटीएफ ने सोमवार (जुलाई 1, 2019) को अब्दुल जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (जेएमबी) और जेएमबी धूलियन मॉड्यूल के सक्रिय सदस्य अब्दुल रहीम को गिरफ्तार किया है। अब्दुल रहीम मॉड्यूल 2018 बिहार के बोधगया में हुए विस्फोट के लिए जिम्मेदार है। ये पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद का रहने वाला है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

राहुल गाँधी, महिला सेना
राहुल गाँधी ने बेशर्मी से दावा कर दिया कि एक-एक महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट में खड़े होकर मोदी सरकार को ग़लत साबित कर दिया। वे भूल गए कि इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में मोदी सरकार नहीं, मनमोहन सरकार लेकर गई थी।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,155फैंसलाइक करें
41,428फॉलोवर्सफॉलो करें
178,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: