Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजराम मंदिर पर फैसले के बाद मेरठ के मुस्लिम बहुल इलाकों में माहौल खराब...

राम मंदिर पर फैसले के बाद मेरठ के मुस्लिम बहुल इलाकों में माहौल खराब करने की कोशिश, 10 गिरफ्तार

अपील के बावजूद मेरठ के मुस्लिम बहुल इलाके में अराजतक तत्वों की शरारतें देखने को मिली। नोएडा से भी पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया है।

सालों से चले आ रहे अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर को ऐतिहासिक फैसला सुनाया। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद प्राय: हर जगह शांति व्यवस्था कायम रही, लेकिन कुछ जगहों पर पुलिस को सख्ती भी दिखानी पड़ी। उत्तर प्रदेश के मेरठ जोन में मुस्ल‍िम बहुल इलाकों में शांत‍ि भंग करने की कोश‍िश की गई। जिसे पुल‍िस ने नाकाम कर द‍िया।

मामले में पुलिस ने कुल 10 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। इन सभी को शांति भंग करने की कोशिश के आरोप में आईपीसी की धारा 151 के तहत गिरफ्तार किया गया। फैसला आने के तकरीबन एक महीने पहले से ही पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद है और सुरक्षा-व्यवस्था को भी चाक-चौबंद रखा गया है। तमाम राजनेताओं और धर्मगुरूओं ने फैसला आने से पहले और फैसला आने के बाद भी शांति-व्यवस्था बनाए रखने की अपील की। 

अपील के बावजूद मेरठ के मुस्लिम बहुल इलाके में अराजतक तत्वों की शरारतें देखने को मिली। हालाँकि सुरक्षाा-व्यवस्था पर नजर रख रही पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया है। बता दें कि मेरठ जोन में कई ऐसे इलाके हैं, जो मुस्लिम बाहुल्य हैं। नोएडा से भी पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया है।

एडीजी प्रशांत कुमार ने इस संबंध में कहा, “उत्तर प्रदेश पुलिस सुरक्षा के ल‍िए सदैव तत्पर है। हमने सोशल मीडिया की भी पूरे दिन मॉनिटरिंग की और अभी भी कर रहे हैं। किसी को भी कानून तोड़ने और शांति भंग करने पर बख्शा नहीं जाएगा।”

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के पहले ऐहतियात के तौर पर कई शहरों में इंटरनेट सेवाएँ बंद कर दी गई हैं। फैसले को देखते हुए न सिर्फ उत्तर प्रदेश बल्कि देश के कई हिस्सों में सुरक्षा के भारी इंतजाम किए गए हैं। अलीगढ़ जिला प्रशासन ने जिले भर में 8 नवंबर की रात 12 से 9 नवंबर की रात 12 बजे तक मोबाइल इंटरनेट सेवाएँ बंद रखने का आदेश दिया था। इसके अलावा अलीगढ़ स्थित अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में भी सभी कक्षाएँ रद्द कर दी गई हैं। यूनिवर्सिटी से जुड़े स्कूल 11 नवंबर तक बंद कर दिए गए हैं।

राम मंदिर पर शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले शुक्रवार (नवंबर 8, 2019) रात से ही यूपी प्रशासन हाई अलर्ट मोड पर आ गया था। सुरक्षा के मद्देनजर पूरी अयोध्या नगरी को छावनी में तब्दील कर दिया गया। साथ ही अयोध्या में अर्धसैनिक बलों के 4000 जवानों को तैनात किया गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दामाद के परिवार का दिवालिया कॉलेज खरीदेगी भूपेश बघेल सरकार: ₹125 करोड़ का कर्ज, मान्यता भी नहीं

छत्तीसगढ़ की कॉन्ग्रेस सरकार ने एक ऐसे मेडिकल कॉलेज के अधिग्रहण की तैयारी शुरू की, जो सीएम भूपेश बघेल की बेटी दिव्या के ससुराल वालों का है।

5 या अधिक हुए बच्चे तो हर महीने पैसा, शिक्षा-इलाज फ्री: जनसंख्या बढ़ाने के लिए केरल के चर्च का फैसला

केरल के चर्च के फैसले के अनुसार, 2000 के बाद शादी करने वाले जिन भी जोड़ों के 5 या उससे अधिक बच्चे हैं, उन्हें प्रत्येक माह 1500 रुपए की मदद दी जाएगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,580FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe