Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाज12 साल की लड़की 5 दिन बाद बरामद: बंटी खान समेत 7 लोग गिरफ्तार,...

12 साल की लड़की 5 दिन बाद बरामद: बंटी खान समेत 7 लोग गिरफ्तार, हिंदूवादी संगठनों ने किया था प्रदर्शन

12 साल की नाबालिग किशोरी से बंटी खान नाम के एक युवक ने दोस्ती की थी। बंटी अपने कुछ दोस्तों के साथ मिलकर टिकटॉक पर वीडियो बनाता था। 11 सितंबर को लड़की अपने घर से टहलने निकली थी, जिसके बाद...

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले के इबादतनगर इलाके से 11 सितंबर को अगवा की गई किशोरी को पुलिस ने बुधवार (16 सितंबर, 2020) को बरामद कर लिया है। पुलिस ने मामले में मुख्य आरोपित बंटी खान समेत 7 आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

रिपोर्ट के अनुसार, इरादतनगर की रहने वाली 12 साल की नाबालिग किशोरी से बंटी खान नाम के एक युवक ने दोस्ती की थी। बंटी अपने कुछ दोस्तों के साथ मिलकर टिकटॉक पर वीडियो बनाता था। साथ ही एक मेडिकल दुकान पर काम करता था। 5 दिन पहले यानी 11 सितंबर को लड़की अपने घर से टहलने निकली थी, जिसके बाद वह वापस नहीं आई। परिजनों ने उसे ढूँढने की बहुत कोशिश की लेकिन वह नहीं मिली। जिसके बाद परिजनों के इसकी शिकायत पुलिस में की।

परिजनों ने अपनी शिकायत में बंटी खान और उसके अन्य 2 दोस्तों के खिलाफ अपहरण का शक जाहिर किया था। वहीं मामले में पुलिस की तरफ से ढीले रवैए को देखते हुए परिवारवालों ने अपनी समस्या हिंदूवादी संगठनों से भी की। जिसके बाद संगठनों ने इस मामले में पुलिस से सख्त कदम उठाने की माँग करते हुए अपना विरोध प्रदर्शन दर्ज किया।

लोगों में बढ़ते आक्रोश को देखते हुए पुलिस ने खोजबीन शुरू कर दी। वहीं मंगलवार को दबिश देते हुए पुलिस ने मुकदमें में दर्ज बंटी खान समेत 7 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। एसएसपी ने नाबालिग की तलाश में सात टीमें लगाई थी। वहीं मामले में पुलिस के रवैए को देखते हुए इरादतनगर के इंस्पेक्टर का तबादला भी कर दिया।

मामले में एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि बुधवार सुबह किशोरी को बरामद कर आरोपित भी गिरफ्तार कर लिया है। किशोरी का मेडिकल कराया जा रहा है। मुख्य आरोपित और अपहरण में सहयोग करने वाले अन्य आरोपितों को भी गिरफ्तार कर जेल भेजा दिया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सूअरों की बलि से प्रदूषण, मानसिक शांति भंग… प्रतिबंध लगे: कट्टू नायक्कर समुदाय के हिंदू रीति-रिवाजों के खिलाफ मुस्लिम

कट्टू नायक्कर समुदाय मदुरै वीरन स्वामी की पूजा में सूअरों की बलि देता है, वो कुल देवता हैं। मुस्लिमों ने हिंदुओं की बलि परंपरा का विरोध...

माँ का किडनी ट्रांसप्लांट, खुद की कोरोना से लड़ाई: संघर्ष से भरा लवलीना का जीवन, ₹2500/माह में पिता चलाते थे 3 बेटियों का परिवार

टोक्यो ओलंपिक में मेडल पक्का करने वाली लवलीना बोरगोहेन के पिता गाँव के ही एक चाय बागान में काम करते थे। वो मात्र 2500 रुपए प्रति महीने ही कमा पाते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,163FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe