Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजअसम की नाबालिग लड़की का अपहरण करने के ज़ुर्म में जाबेद अहमद गिरफ़्तार

असम की नाबालिग लड़की का अपहरण करने के ज़ुर्म में जाबेद अहमद गिरफ़्तार

असम के वित्त और स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्विटर पर यह खबर शेयर की और अपहरणकर्ता का पता लगाने और लड़की को सुरक्षित बचाने के लिए पुलिस की त्वरित कार्रवाई के लिए उनकी सराहना की।

असम पुलिस ने 23 जून 2019 को, 12 वर्षीय बच्ची के अपहरण के 11 दिनों के बाद महाराष्ट्र में नासिक के एक होटल से उसे सुरक्षित बचा लिया। बच्ची असम के होजई ज़िले की रहने वाली है।

असम के वित्त और स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्विटर पर यह खबर शेयर की और अपहरणकर्ता का पता लगाने और लड़की को सुरक्षित बचाने के लिए पुलिस की त्वरित कार्रवाई के लिए उनकी सराहना की।

ख़बर के मुताबिक़, 12 जून को बलिराम की छोटी बेटी गीता (बदला हुआ नाम) का अपहरण होजई के जमुनामुख से जाबेद अहमद ने कर लिया था। काफ़ी खोजबीन के बाद असम पुलिस ने लड़की को नासिक के एक होटल से सुरक्षित बचा लिया।

दरअसल, 12 जून, 2019 को गीता अचानक लापता हो गई थी, जिसके बाद उसके परिवार द्वारा एक FIR दर्ज कराई गई। पीड़ित परिवार द्वारा दर्ज कराई गई शिक़ायत के आधार पर, पुलिस ने अपनी जाँच प्रक्रिया तेज़ कर दी और आख़िरकार महाराष्ट्र के नासिक में बच्ची का पता लगा लिया और उसे बचा लिया। उसी गाँव के रहने वाले एम डी जाबेद अहमद पर बच्ची को अगवा करने और उसे महाराष्ट्र ले जाने का आरोप है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,042FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe