Wednesday, September 22, 2021
Homeदेश-समाजकेरल में अब निपाह वायरस का कहर: एक की मौत दो अन्य संक्रमित, 188...

केरल में अब निपाह वायरस का कहर: एक की मौत दो अन्य संक्रमित, 188 की निगरानी; 2018 में ले चुका है 17 जानें

राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज का कहना है कि मृतक बच्चे के शुरुआती 188 संपर्कों को ट्रेस कर लिया गया है। अब इन सभी को मेडिकल कॉलेज में शिफ्ट किया जाएगा। इन 188 लोगों में से 20 लोग हाई रिस्क कैटेगरी में रखे गए हैं।

दक्षिण भारतीय राज्य केरल में कोरोना संकट के बीच निपाह वायरस ने भी कहर मचा रखा है। रविवार (5 सितंबर 2021) को निपाह वायरस के संक्रमण की चपेट में आने के बाद 12 साल के बच्चे की मौत हो गई। निपाह वायरस से राज्य में यह पहली मौत है जो कोझिकोड जिले में हुई है। इस बीच प्रशासन ने बच्चे के संपर्क में आने वाले सभी लोगों को तुरंत अपनी जाँच कराने का सुझाव दिया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, बच्चे में पहले इन्सेफ्लाइटिस का लक्षण नजर आया था, लेकिन जाँच के बाद निपाह का पता चला है। नए संकट की गंभीरता को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने शनिवार (4 सितंबर 2021) रात को ही एक हाई लेवल मीटिंग कर हालात पर चर्चा की। राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज का कहना है कि मृतक बच्चे के शुरुआती 188 संपर्कों को ट्रेस कर लिया गया है। अब इन सभी को मेडिकल कॉलेज में शिफ्ट किया जाएगा। इन 188 लोगों में से 20 लोग हाई रिस्क कैटेगरी में रखे गए हैं।

उच्च जोखिम वाले लोगों को कोझिकोड शीर्ष सरकारी अस्पताल कोझिकोड मेडिकल कॉलेज में नए खुले आइसोलेशन वार्ड में निगरानी में रखा जाएगा। वहीं मंत्री ने कहा है कि निपाह वायरस के फैलाव को देखते हुए बच्चा कहाँ-कहाँ गया और किस-किस से मिला इसका एक रूट मैप जारी किया जाएगा। इस बीच 2 अन्य लोगों में भी इस जानलेवा वायरस का संक्रमण पाया गया है।

केंद्र ने केरल भेजी टीम

कोरोना संकट के बीच निपाह वायरस के सामने आने के बाद केंद्र चौकन्ना हो गया है। इस बीच केंद्र सरकार एक टीम केरल भेजी है, जो कि राज्य के अधिकारियों को तकनीकी तौर पर मदद करेंगे।

2018 में वायरस ने ली थी 17 जानें

केरल में दूसरी बार निपाह वायरस ने दस्तक दी है। इससे पहले साल 2018 में राज्य के कोझिकोड और मलप्पपुरम जिले में इससे 17 लोगों की मौत हुई थी। यह वायरस सुअर और चमगादड़ों से इंसानों में फैल सकता है। खास बात ये है कि अब तक इसका कोई इलाज नहीं मिल सका है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,782FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe