Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाज'मदरसे में नहीं पढ़ना था, इसलिए 11 साल के समीर को मारा': नूँह में...

‘मदरसे में नहीं पढ़ना था, इसलिए 11 साल के समीर को मारा’: नूँह में 13 साल के छात्र ने कबूला जुर्म, कहा- लड़के की तहखाने में हत्या की, फिर शव को रेत में दबाया

11 वर्षीय छात्र की हत्या उसी मदरसे में पढ़ने वाले 13 साल के एक अन्य छात्र ने की है। पुलिस ने बताया कि आरोपित लड़का उस मदरसे में नहीं बल्कि स्कूल में पढ़ना चाहता था इसलिए उसने मदरसे को बदनाम करने के लिए ऐसा कदम उठा लिया।

हरियाणा के नूँह क्षेत्र के पुन्हाना उपमंडल में मौजूद एक मदरसे में 5 सितम्बर 2022 को 11 वर्षीय छात्र की लाश मिली थी। यह मदरसा गाँव शाह चोखा पीर दादा शाह चोखा की मज़ार के पास मौजूद है। मृतक छात्र 1 साल से मदरसे में पढ़ रहा था। मृतक के परिजनों ने घटना को हत्या करार देते हुए कार्रवाई की माँग की थी। अब पुलिस ने 11 सितम्बर 2022 को इस मामले का खुलासा करते हुए बताया कि हत्या का आरोपित उसी मदरसे में पढ़ने वाला एक अन्य छात्र है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक स्थानीय थाना प्रभारी सतबीर सिंह ने कहा कि 11 वर्षीय छात्र की हत्या उसी मदरसे में पढ़ने वाले 13 साल के एक अन्य छात्र ने की है। पुलिस ने बताया कि आरोपित लड़का उस मदरसे में नहीं बल्कि स्कूल में पढ़ना चाहता था इसलिए उसने मदरसे को बदनाम करने के लिए ऐसा कदम उठा लिया। नूँह के SHO के अनुसार आरोपित छात्र किसी भी हाल में मदरसे से बाहर निकलना चाहता था।

खबरों के मुताबिक आरोपित ने पुलिस पूछताछ में बताया है कि वह शुक्रवार (जुमे) के दिन ही मृतक छात्र समीर को मारना चाहता था लेकिन भारी भीड़ होने के नाते ऐसा नहीं कर पाया। आख़िरकार उसने समीर की हत्या के लिए शनिवार का दिन चुना। पुलिस के आगे अपना जुर्म कबूल करते हुए आरोपित ने कहा कि वो मृतक को पहले मदरसे के तहखाने में ले गया और बाद में समीर को मार कर उसने रेत में दबा दिया और भाग निकला।

नूँह के पुलिस अधीक्षक वरुण सिंगला ने बताया कि मृतक और आरोपित छात्र आपस में अच्छे दोस्त थे और एक साथ खेलते थे। जरूरी कानूनी कार्रवाई के बाद आरोपित को फरीदाबाद स्थित बाल सुधार गृह भेजा गया है।

गौरतलब है कि टेड गाँव के निवासी छात्र समीर की लाश सोमवार को नूँह के शाह चौखा गाँव के मदरसे के अंदर मिली थी। समीर की लाश मिलने के बाद पुलिस ने FSL टीमों को बुला कर FIR दर्ज कर के जाँच शुरू कर दी थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

किसानों के प्रदर्शन से NHAI का ₹1000 करोड़ का नुकसान, टोल प्लाजा करने पड़े थे फ्री: हरियाणा-पंजाब में रोड हो गईं थी जाम

किसान प्रदर्शन के कारण NHAI को ₹1000 करोड़ से अधिक का नुकसान झेलना पड़ा। यह नुकसान राष्ट्रीय राजमार्ग 44 और 152 पर हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -