ईद-ए-मिलाद के बहाने चाँदबाबू शेख ने 8 और 9 साल की बच्चियों से किया रेप

बच्चियों के गायब हो जाने से परिजनों में हड़कंप मच गया। करीब 2 घंटे तक बाद खोजने के बाद परिजनों को एक लड़की शौचालय के पास रोती-बिलखती मिली। जब उससे उसके रोने की वजह पूछी गई तो पता चला कि उसका यौन उत्पीड़न किया गया है।

ईद-ए-मिलाद पर 8 और 9 साल की दो बच्चियों के साथ रेप करने के आरोप में पुलिस ने 20 साल के युवक को गिरफ्तार किया है। उसकी पहचान चॉंदबाबू शेख के तौर पर की गई है। घटना मुंबई के वडाला की है। चॉंदबाबू बच्चियों को ईद का जश्न दिखाने के बहाने ले गया और फिर पब्लिक टॉयलेट में उनके साथ रेप किया।

मिड-डे की रिपोर्ट के अनुसार 10 नवंबर की शाम करीब 6 बजे दोनों बच्चियाँ अपने घर के बाहर खेल रही थीं। चाँदबाबू ने उनसे पूछा कि क्या वो ईद का जश्न देखना चाहती हैं? दोनों मासूमों के हाँ कहने पर उन्हें अपने साथ ले गया। लेकिन, जश्न दिखाने की बजाए वो उन्हें पब्लिक टॉयलेट में ले गया और वहाँ उसने दोनों के साथ बलात्कार किया।

बच्चियों के गायब हो जाने से परिजनों में हड़कंप मच गया। करीब 2 घंटे तक बाद खोजने के बाद परिजनों को एक लड़की शौचालय के पास रोती-बिलखती मिली। जब उससे उसके रोने की वजह पूछी गई तो पता चला कि उसका यौन उत्पीड़न किया गया है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बच्ची की बात सुनते ही परिवारवाले तुरंत पुलिस स्टेशन गए और मामले पर शिकायत दर्ज करवाई। परिवारवालों से सारा मामला जानने के बाद पुलिस ने बिना किसी देरी के आरोपित शख्स को पकड़ने के लिए खोजबीन शुरू कर दी। इस बीच सीसीटीवी फुटेज भी खँगाले गए, जिसमें चाँदबाबू बच्चियों को अपने साथ ले जाते देखा गया।

फुटेज की तस्वीरें जब स्थानीय लोगों को दिखाई गई, तो उन्होंने उसकी पहचान चाँदबाबू शेख के तौर पर की।
पुलिस के मुताबिक चाँदबाबू बेरोजगार था और लड़कियों को पहले से नहीं जानता था। स्थानीय लोगों द्वारा पुष्टि किए जाने के बाद उसकी गिरफ्तारी सोमवार को हुई।

अब पुलिस उसके आपराधिक रिकॉर्ड के बारे में छानबीन कर रही है। पुलिस ने बताया कि बच्चियों का मेडिकल टेस्ट करवाया गया है, जिसकी रिपोर्ट अभी आनी बाकी है। चाँदबाबू पर रेप के आरोप में आईपीसी की धारा और पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बरखा दत्त
मीडिया गिरोह ऐसे आंदोलनों की तलाश में रहता है, जहाँ अपना कुछ दाँव पर न लगे और मलाई काटने को खूब मिले। बरखा दत्त का ट्वीट इसकी प्रतिध्वनि है। यूॅं ही नहीं कहते- तू चल मैं आता हूँ, चुपड़ी रोटी खाता हूँ, ठण्डा पानी पीता हूँ, हरी डाल पर बैठा हूँ।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,018फैंसलाइक करें
26,176फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: