Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजनहीं देखा जाएगा कौन हिंदू, कौन मुस्लिम... खाड़ी देशों से आने वाले सभी 26000...

नहीं देखा जाएगा कौन हिंदू, कौन मुस्लिम… खाड़ी देशों से आने वाले सभी 26000 भारतीय को मेडिकल सुविधा, मुंबई में तैयारी पूरी

मुंबई में बीएमसी ने पोवई में एक नवनिर्मित ट्रेनिंग सेंटर को ही क्वारंटाइन सेंटर में तब्दील कर दिया है। इस फैसले के बाद से ही मुंबई नगरपालिका उन 26000 लोगों के ठहरने का इंतजाम करने में जुटी है, जो 31 मार्च तक...

देश के साथ-साथ विदेशों में कोरोना के लगातार बढ़ते प्रभाव से भारतीयों को सुरक्षित निकालने के लिए केन्द्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। खाड़ी देशों से 26000 भारतीयों को सुरक्षित वापस लाया जाएगा। इसके लिए मुंबई में बीएमसी ने पोवई में एक नवनिर्मित ट्रेनिंग सेंटर को ही क्वारंटाइन सेंटर में तब्दील कर दिया है। इस फैसले के बाद से ही मुंबई नगरपालिका उन 26 हजार लोगों के ठहरने का इंतजाम करने में जुटी है, जो आज से 31 मार्च तक संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), कुवैत और ओमान जैसे खाड़ी देशों से वतन वापस आने वाले हैं।

बीएमसी के मुताबिक इन देशों से हर दिन 23 फ्लाइट मुंबई पहुँचती है। केंद्र सरकार के निर्देशों के अनुसार, यूएई, कुवैत, कतर और ओमान से आने वाले सभी यात्रियों को हर हाल में 14 दिनों तक क्वारंटाइन सेंटर में रहना होगा। यह फैसला ऐसे समय में लिया गया है जब दुबई से आने वाले महाराष्ट्र के 15 लोगों में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। इसलिए बीएमसी ने अपने इंजीनियरों के लिए पोवई में एक नवनिर्मित ट्रेनिंग सेंटर को क्वारंटाइन सेंटर में तब्दील कर दिया है। इसके अलावा, मरोल में सेवन हिल्स हॉस्पिटल में आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था है।

योजना के मुताबिक खाड़ी देशों से ज्यादातर भारतीय यहाँ इस महीने का आखिर तक पहुँचेंगे। अधिकारियों के अनुसार खाड़ी देशों से आने वाले लोगों को कई श्रेणियों में बाँट दिया जाएगा। जो लोग स्वस्थ होंगे, उनको छूट दी जाएगी और जो लोग संदेह की श्रेणी में होंगे उनके ऊपर निगरानी रखी जाएगी। हालाँकि नेगेटिव पाए जाने वाले लोगों को सार्वजनिक परिवहन का सहारा नहीं लेने दिया जाएगा। वहीं मुंबई पहुँचने वाले हर व्यक्ति के हाथ पर मुहर लगा दिया जाएगा और उन्हें देश के दूसरे किसी हिस्से के लिए फ्लाइट लेने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

जो लोग मुंबई से दूर-दराज के इलाके के होंगे, उन्हें पोवई या सेवन हिल्स हॉस्पिटल स्थित क्वारंटाइन सेंटर में रखा जाएगा। जिनमें कोविड-19 के लक्षण दिखेंगे, उनकी जाँच की जाएगी। वहीं, बुजुर्गों आदि को क्वारंटाइन सेंटर में तुरंत भेज दिया जाएगा। बीएमसी बुधवार से वाहनों की व्यसवस्था में भी जुट गया, जिनके जरिए लोगों को एयरपोर्ट से आइसोलेशन वार्ड तक ले जाया जाएगा।

वहीं देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 150 से अधिक हो गई है। अगर बात करें देश में फैले इस वायरस के मरीजों की तो अभी तक महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या सबसे अधिक यानी 45 मिली है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe